शिक्षकों के सम्मान के लिए डॉ राजेन्द्र प्रताप सिंह लड़ सकते हैं एमएलसी चुनाव

शिक्षकों के सम्मान के लिए डॉ राजेन्द्र प्रताप सिंह लड़ सकते हैं एमएलसी चुनाव
वाराणसी: माँ खण्डवारी ग्रुप संस्थान चहनियां चन्दौली उत्तरप्रदेश के रहने वाले शिक्षा विद डॉ. राजेन्द्र प्रताप सिंह वाराणसी शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र (एमएलसी शिक्षक) 2020 चुनाव में मैदान में हैं.इस दौरान उन्होंने *जनता जनार्दन* संवाददाता से खास बातचीत किया हैं.उन्होंने कहा कि शिक्षा जगत में एकमात्र शिक्षक महत्वपूर्ण कड़ी है शिक्षक और शिक्षा के बिना आज सबकुछ अधूरा है इसीलिए शिक्षक को गुरु का भी दर्जा दिया गया हैं.आज शिक्षक अगर न रहे तो शायद कोई व्यक्ति साक्षर नही कहलाता.उन्होंने कहा कि शिक्षक तमाम चीज़ों को झेलकर ज्ञान के भंडार विद्यार्थियों को देने के लिये शिक्षा के प्लेटफार्म पर निरंतर पथ पर अग्रसर हैं और चलता रहता है.एक सवाल के जवाब में की एमएलसी शिक्षक वाराणसी क्षेत्र बनने के बाद आपकी प्राथमिक क्या होगी? इस जवाब मे उन्होंने कहा कि समान कार्य समान वेतन मेरी पहली प्राथमिक होगी दूसरी प्राथमिकता हमारी पुरानी पेंशन व्यवस्था को लागू कराना भी होगा इसके अलावा शिक्षकों के लिये वेतन बढ़ाने सहित उनको सम्मानजनक एक महत्व समाज मे मिले इसके लिये भी संकल्पित रहूंगा साथ ही शिक्षकों की रॉय ली जायेगी और उस हिसाब से एमएलसी बनने के बाद मेरा प्रयास रहेगा.हम किसी शिक्षक से कोई भेदभाव न रखकर सभी की सहमति से उचित निर्णय लेंगे जिससे शिक्षकों के मान व पद प्रतिष्ठा  में सम्मान मिले.साथ ही शिक्षकों की कोई भी परेशानी होगी उनका त्वरित निदान करवाने कि हमारे तरफ से कोसिस कि जाएगी.
 
डॉ राजेन्द्र प्रताप सिंह मूलरूप से चहनियां चंदौली के रहने वाले हैं और माँ खंडवारी शिक्षण संस्थान के प्रबंधक हैं जिनकी देख रेख में माँ खण्डवारी पीजी कॉलेज, माँ खण्डवारी लॉ कॉलेज, व पालीटेक्निक कॉलेज चलता है और शिक्षा जगत में इनकी एक अलग पहचान है शिक्षकों के लिये हमेशा यह संघर्ष करते रहते है.
 
आपको बता दे कि शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी क्षेत्र में वाराणसी, जौनपुर, गाजीपुर, चंदौली, बलिया, सोनभद्र, मिर्जापुर और भदोही शामिल हैं और इन जनपदों के शिक्षक वोट कर के किसी एक को एमएलसी शिक्षक के रूप में चुनेंगे.
अन्य चुनाव लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack