Wishing all heartiest greeting of the 70th Independence Day of India
Tuesday, 22 August 2017  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
सोशल मीडिया
  • खबरें
  • लेख
सास-बहु के मजेदार किस्से, सास भी खुश और बहु भी खुश अमिय पाण्डेय ,  Jul 28, 2017
सोशल मीडिया पर हमेशा छाए रहने वाले किस्सों में सा-बहू पर छाए रहने वाली नोंकझोंक से जुड़े जोक्स का नंबर सबसे ऊपर होगा. यहां हम आपके लिए हंसी की फुहार का ऐसा ही पिटारा परोस रहे, जिसे हमने लिया है, व्हाट्सएप और फेसबुक से. लीजिए आप भी इनका मजाः ....  समाचार पढ़ें
'औरतों की ईद'- एक कविताः ईद मुबारक कहते हुए अरशाना अज़मत ,  Jun 26, 2017
औरतों की ईद यानी ..रोज के मुकाबले जल्दी जगने का दिन ..बावर्चीखाने में ज्यादा खटने का दिन ..ज्यादा खाना पकाने का दिन..ज्यादा तरह के खाने पकाने का दिन ..ज्यादा बर्तन धोने का दिन..ज्यादा सफाई करने का दिन.. / औरतों की ईद यानी ..रोज के मुकाबले देर से खाने का दिन..देर से नहाने का दिन..देर से बिस्तर में जाने का दिन..देर से टीवी देखने या न देखने का दिन.. ....  समाचार पढ़ें
सनातन है क्या? त्रिभुवन की फेसबुक वॉल से जनता जनार्दन संवाददाता ,  Apr 30, 2017
ईसाई ईसा को ही पूजते हैं। मुसलमान मुहम्मद साहब को ही आख़िरी पैग़ंबर मानते हैं और अल्लाह के अलावा किसी अन्य में कोई विश्वास नहीं करते। बौद्धों के लिए बुद्ध के अलावा कुछ भी मान्य नहीं हैं। हर धर्म के साथ यही विशेषता जुड़ी है। लेकिन सनातन धर्म ऐसा है कि वह समय के साथ अपने नाम को भी बदलता चलता है ....  समाचार पढ़ें
ईवीएम के साथ छेड़छाड़, कितनी संभव, कितनी नहीं जनता जनार्दन संवाददाता ,  Mar 14, 2017
देश में पांच राज्यों में हाल में संपन्न हुए विधानसभा चुनावों में हार का सामना करने वाले दलों ने सीधे ईवीएम पर दोष मढ़ दिया है. ईवीएम पर दोष का मतलब बात चुनाव आयोग पर आ रही है. कहा जा रहा है कि ईवीएम के साथ छेड़छाड़ की गई है. सोशल मीडिया पर खूब चर्चाओं का बाजार गर्म है. गोआ, पंजाब से लेकर उत्तर प्रदेश तक. पर मायावती को छोड़ कर ....  समाचार पढ़ें
स्वामी दयानंद सरस्वती और मोदी भक्त त्रिभुवन ,  Feb 08, 2017
यह कहानी स्वामी दयानंद सरस्वती के 'सत्यार्थ प्रकाश' से प्रधानमंत्री जी के भक्तों के लिए. जिसका निचोड़ हैः देश में ऐसे-ऐसे साधु और ऐसे-ऐसे उनके शिष्य हैं. मूर्ख शिष्य और वज्रमूर्ख गुरु. आंध के अंधे, गांठ के पूरे.विद्या और ज्ञान के ऐसे शत्रुओं को अविद्या और मूढ़ता घर करके नहीं ठहरे तो कहां जाए? ....  समाचार पढ़ें
कविताः तू किस अधिकार से चरखे से फोटो जोड़ आया था जनता जनार्दन संवाददाता ,  Jan 15, 2017
राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने कभी कहा था, 'खादी वस्त्र नहीं विचार है.' और जिन लोगों को विचारों पर भरोसा ही न हो वह क्या करें. चाटुकारिता और दिखावे के इस दौर में जब खादी ग्रामोद्योग के वार्षिक कैलेंडर से बापू की तस्वीर की जगह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर लगा दी गई तो पूरे देश में सोशल मीडिया पर इसके पक्ष और विपक्ष में प्रतिक्रिया चल पड़ी. ....  समाचार पढ़ें
ओम पुरी के बहाने, चितेरे चंचल की श्रद्धांजलि जनता जनार्दन डेस्क ,  Jan 07, 2017
रचनात्मक क्षेत्र का हर चरित्र दो पाटों के बीच खड़ा मिलेगा । अभाव उसका स्थायी भाव होता है इसी अभाव को पूरा करने के लिए उसकी रचनात्मकता उसे ठेलती रहती है । एक बार हम बज्जू भाई के घर बैठे थे । बज्जू भाई राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय से जुड़े रहे, और आगे जाकर रानावि के निदेशक भी बने । जाहिर है कि रंगमंच के तमाम कलाकारों की महफ़िल बज्जू भाई के इर्द गिर्द लगती थी । ....  समाचार पढ़ें
नाड़ालेस बनें, विकास में सहयोग दें जनता जनार्दन संवाददाता ,  Dec 28, 2016
नाड़ों की कमी के चलते कई लोगों ने पाजामे में गाँठ बांधना शुरू कर दिया है। यह नाडा़लेस व्यवस्था देश के विकास के लिये जरूरी है। आप लोग इसमें सहयोग करें। नाड़े के बगैर पाजामा पहनें। दरअसल कपड़ों में गाँठ बांधना हमारी पुरानी परंपरा रही है। इससे शरीर पर एक खास किस्म का प्राकृतिक दबाव होता है जिससे रक्तसंचार बाधित नहीं होता और स्वास्थ्य अच्छा बना रहता है। नाड़ालेस बनें, विकास में सहयोग दें। ....  समाचार पढ़ें
नोटबंदी पर कहानीः नंगे राजा की पोशाक रोहित पटेल की पोस्ट ,  Dec 24, 2016
जब से नोटबंदी शुरू हुई है, उसके पक्ष और विपक्ष की तमाम पोस्टों से सोशल मीडिया अंटा पड़ा है. यह कहानी फेसबुक पर रोहित पटेल जी की पोस्ट से ली गई है, जिसमें एक राजा की मार्फत आज के हालातों का तफसरा बयान किया गया है. ....  समाचार पढ़ें
बैंक की कतार मेंं, वीर तुम खड़े रहो अनिल चौबे ,  Nov 27, 2016
देश में नोटबंदी को लेकर बैंकों और एटीएम के सामने जितनी लंबी लाइनें हैं, उससे कम बड़ा मजमा सोशल मीडिया पर नहीं. एक बड़े साहित्यकार, पत्रकार मित्र ने अपनी फेसबुक वाल पर यह कविता इन्हीं शब्दों में पोस्ट की थीः ....  समाचार पढ़ें
सत्ता का राजपथ, जहां गांधी से लेकर शंबूक वध वाले देवताओं तक की सोच पर भारी पड़ते हैं अंबेडकर त्रिभुवन ,  Jun 20, 2017
भीमराव अंबेडकर ने जिस क्रांतिकारी सोच के बीज को भारतीय संविधान से लेकर भारतीय राजनीति की आत्मा तक में बो दिया, उसे न चाहते हुए भी, और अपनी मानसिकता पर लाख प्रहार सहने के बाद भी भारतीय राजनीतिक दलों के नेता उतारते को बेबस हैं। राष्ट्रपति पद के लिए रामनाथ कोविंद का नाम इसी का जीता-जागता प्रमाण है। ....  लेख पढ़ें
हंसो, कि हंसने के अलावा कुछ कर नहीं सकते जनता जनार्दन संवाददाता ,  May 18, 2017
ऐसी दास्तान दुनिया के किसी देश में नहीं दिख रही थी कि अपने ही नागरिकों को अपने ही देश में गुस्ताख़ निगाही से देखा जा रहा था और अपने ही स्वर में स्वर साधने वाले आपराधिक वैताल परमप्रिय हो रहे थे। इसके भी, उसके भी। अब तक देश की जिंदगी एक आन में गुजरी थी, लेकिन अब हंसने में गुजर रही थी ....  लेख पढ़ें
भारतीय फौज पर पाकिस्तानी हमले पर व्यंग्यः लोंग लिव कायरता! लोंग लिव गुंडागर्दी! त्रिभुवन ,  May 06, 2017
अंतत: भक्त ने माहौल और अपनी कायरता की गहराई को भांप कर गुंडे को शांति वार्ता के लिए निमंत्रण दिया और इसे महान् शांति प्रस्ताव बताया। इसका अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रचार हुआ और सब लोगों ने कहा कि भक्त ने यह बेहतरीन कदम उठाया है। भक्त की इस कदम के लिए जितनी प्रशंसा की जाए, कम है। ....  लेख पढ़ें
हम अपने मिथकों को ठीक से क्यों नहीं समझते? आसान नहीं सीता होना राजीव कटारा ,  May 06, 2017
आज हम आधुनिकता का कितना ही दावा करें। अपने फैसलों पर इतराएं। लेकिन बेहद कठिन समय में कितनी औरतें अपने पति के साथ या पति अपनी पार्टनर के साथ कहीं भी जाने को तैयार होते हैं। वह भी एक ऐसी औरत जिसका जीवन ही महलों में बीता हो। राम उन्हें कितना मनाते हैं, समझाते हैं। वनों की भयावहता दिखाते हैं। ....  लेख पढ़ें
अंतरिक्ष में दासतां के खतरे त्रिभुवन ,  Feb 20, 2017
अमरीका का विज्ञान अब प्रतिभा के विस्फोट वाली संतानें पैदा करेगा और हम ऐसे उपग्रह बनाएंगे जो अमरीका के बोझ को अपनी पीठ पर लादकर अंतरिक्ष में सफलता से स्थापित करेंगे और अमरीका हमारी पीठ वैसे ही थपथापाएगा, जैसे किसी सामंतकालीन समाज में कोई सामंत किसी श्रमिक के भोले बच्चे से अपने पत्थर ढुलवाकर शाबाशियां बांटता है! ....  लेख पढ़ें
बोलचाल की ज़बान सुनकर सीखना कभी-कभी नुक़सानदेह भी जनता जनार्दन डेस्क ,  Feb 20, 2017
अफ़ग़ानिस्तानी बाला सौन्दर्या नसीम की वाल से लेकर चस्पाँ कर रहा हूँ। भाषा के मुद्दे पर पोस्ट है। उन्होंने शब्दों के बारे में कुछ जानकारियाँ चाही हैं, पर इस पोस्ट में ख़ुद कुछ ऐसे शब्दों के बारे में अच्छी जानकारियाँ साझा कर दी हैं, जिन पर आमतौर पर हिन्दीवाले कम ध्यान देते हैं। पढ़ने लायक़ पोस्ट है। नसीम काफ़ी अच्छा लिख रही हैं, उनके लिए ढेर सारी मंगलकामनाएँ. ....  लेख पढ़ें
लोकतांत्रिक युग के नए इच्छाधारी नाग त्रिभुवन ,  Feb 12, 2017
भारतीय लोकतंत्र एक अली बाबा और चालीस चोरों का अनूठा कुनबा है. अली बाबा बदलता रहता है. चालीस चोर दसों दिशाओं के चालीस कोनों में चोरी-लूट और डकैती का काम निधड़क होकर करते हैं. ये सब आपस में दिखावटी लड़ाइयां लड़ते हैं और लोगों को मूर्ख बनाते हैं. ....  लेख पढ़ें
साल 2016 की 10 फर्जी खबरें, जिन पर सबने विश्वास किया एलिसन सल्दान्हा ,  Dec 28, 2016
नोटबंदी की घोषणा के बाद नोटबंदी से जुड़ी खबरें हों या नमक की कमी की अफवाहें, वर्ष 2016 में देशभर में फर्जी खबरों को लेकर भी खूब चर्चा हुई. इस तरह की अफवाहें फैलाने में जहां सोशल मीडिया का योगदान बढ़-चढ़ कर रहा, वहीं देश की मुख्यधारा की मीडिया भी इन फर्जी खबरों के झांसे में आ गई. ....  लेख पढ़ें
जागीरदार की लोकभक्ति त्रिभुवन ,  Nov 15, 2016
लोग-बाग एक भ्रष्ट जागीरदार से बहुत परेशान थे। उन्होंने किसी तरह उसे हटाया और एक ऐसे व्यक्ति को अपना जागीरदार चुन लिया, जो देशभक्ति और लोकभक्ति की बहुत बातें किया करता था। लोगों ने अपने पैसे से नए जागीरदार को एक बहुत सुंदर कुमैत घोड़ी भी खरीदकर दे दी। जागीरदार को गांव-गांव घूमने का बड़ा शौक था। ....  लेख पढ़ें
अगर इंटरनेट ठप हो जाए, तो भारत को बड़ा नुकसान देवानिक साहा ,  Oct 29, 2016
इंटरनेट बंद होने की वजह से भारत को 96.8 करोड़ डॉलर (करीब 6,485 करोड़ रुपये) का नुकसान हुआ है। यह आंकड़ा 19 देशों में इंटरनेट के 22 शटडाउन के परिणामों के सर्वेक्षण के बाद सामने आया है। यह युद्धग्रस्त इराक की तरह है। ....  लेख पढ़ें
वोट दें

बिहार में क्या भाजपा का सहयोग ले नीतीश का सरकार बनाना नैतिक है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख