Sunday, 20 September 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

कोई सांप्रदायिक राजनीति नहीं, गुजरात नहीं है यूपी: मुलायम

कोई सांप्रदायिक राजनीति नहीं, गुजरात नहीं है यूपी: मुलायम आगरा: पार्टी शासित उत्तर प्रदेश में सांप्रदायिक हिंसा को लेकर निशाने पर आने के बाद समाजवादी पार्टी प्रमुख मुलायम सिंह यादव ने गुजरात में साल 2002 में गोधरा कांड के बाद हुए दंगों से मुजफ्फरनगर में हुए दंगों की किसी भी तरह की तुलना को खारिज कर दिया और दोषियों के खिलाफ ‘सख्त कार्रवाई’ और पीड़ितों के लिए ‘न्याय’ का गुरुवार को वादा किया।

कांग्रेस और रालोद ने सांप्रदायिक भावना भड़काने के लिए सपा और भाजपा दोनों पर हमला करने के दौरान आरोप लगाया था कि उत्तर प्रदेश में गुजरात जैसा खेल खेलने की कोशिश की जा रही है।

यादव ने यहां अपनी पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के समापन पर संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि गुजरात में कोई न्याय नहीं हुआ लेकिन उत्तर प्रदेश में न्याय किया जाएगा। मैंने कभी जाति और धर्म की राजनीति नहीं की है। दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। हम उन्हें (दंगा पीड़ितों को) अधिकतम संभव सहायता प्रदान करेंगे।

मुलायम रालोद प्रमुख अजीत सिंह के उस बयान के संबंध में पूछे गए सवाल का जवाब दे रहे थे जिसमें उन्होंने कहा था कि सपा मतों का ध्रुवीकरण करने के लिए वही कर रही है जो मोदी ने गुजरात में किया था। सिंह ने इससे पहले कहा था कि अगर आप पीछे जाएं और गौर करें कि मोदी ने गुजरात में मूलत: कार्रवाई नहीं की थी। उन्होंने पुलिस को कोई भी कार्रवाई करने से रोक दिया और यही उत्तर प्रदेश में हुआ है।

आरोपों को खारिज करते हुए यादव ने कहा कि उनकी पार्टी की सरकार इतनी सख्त कार्रवाई (अपराधियों के खिलाफ) करेगी कि वे इसे दोहराने का कभी साहस नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने अनेक लोगों को हिरासत में लिया है और उन सभी लोगों को गिरफ्तार करेगी जो फरार हैं। दंगे को रोकने में समय पर कार्रवाई करने में कुछ अधिकारियों के लापरवाही बरतने के आरोपों के संबंध में पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा कि अगर लापरवाही हुई है तो कार्रवाई की जाएगी।

सपा प्रमुख ने इन आरोपों को खारिज कर दिया कि दंगों के पीछे राजनीति है। उन्होंने कहा कि हम इस संबंध में राजनीति नहीं करेंगे। मौतें हुई हैं। हम इस पर राजनीति नहीं करेंगे।
अन्य राज्य लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack