Wednesday, 28 October 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

हिमाचल में चुनावी बिगुल,मतदान 9 नवंबर को,18 दिसंबर को नतीजे

जनता जनार्दन डेस्क , Oct 13, 2017, 9:48 am IST
Keywords: Himachal pradesh   himachal election   Himachal pradesh   Election   Assembly Election  
फ़ॉन्ट साइज :
हिमाचल में चुनावी बिगुल,मतदान 9 नवंबर को,18 दिसंबर को नतीजे

दिल्ली: चुनाव आयोग ने हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव का एलान कर दिया है। राज्य में नई सरकार चुनने के लिए नौ नवंबर को मतदान होगा। वोटों की गिनती 18 दिसंबर को होगी। इसी बीच गुजरात के भी विधानसभा चुनाव संपन्न होंगे।माना जा रहा है कि गुजरात चुनाव दो चरणों में 10 से 15 दिसंबर के बीच होगा। इसकी घोषणा अगले एक हफ्ते में हो सकती है। इसके अलावा तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता के निधन से रिक्त आरके नगर विधानसभा का उपचुनाव 31 दिसंबर से पहले करा लिया जाएगा।

मद्रास हाई कोर्ट ने आयोग को इस तारीख से पहले चुनाव करा लेने का निर्देश दिया था। मुख्य चुनाव आयुक्त ए के ज्योति ने वीरवार को हिमाचल में चुनाव कार्यक्रम की घोषणा की। इसके तहत 16 अक्टूबर को अधिसूचना जारी होगी। साथ ही नामाकंन की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। नामांकन की अंतिम तारीख 23 अक्टूबर रहेगी। पिछले दिनों हुए चुनावों में ईवीएम को लेकर भी विवाद रहा था। ऐसे में हिमाचल में पूरा चुनाव वीवीपैट मशीन से होगा।

सभी 68 विधानसभा क्षेत्र के एक बूथ में मशीन और वीपीपैट की पर्ची की गिनती कर मिलान भी होगा। जाहिर है कि यही प्रक्रिया गुजरात में भी अपनाई जा सकती है। हिमाचल का चुनाव गुजरात से पहले कराने के सवाल पर मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि यह फैसला मौसम की स्थितियों को देखते हुए लिया गया है। हिमाचल में जल्द ही बर्फबारी शुरू होने की आशंका रहती है। ज्योति ने बताया कि प्रदेश के सभी पोलिंग बूथ पर दो महिलाएं मौजूद होंगी, जबकि कुल 136 बूथ ऐसे होंगे जहां केवल महिला कर्मी मौजूद होंगी। ज्योति ने बताया कि हिमाचल सरकार ने आग्रह किया था कि चुनाव की घोषणा और मतदान में ज्यादा लंबा वक्त न रखा जाए। आचार संहिता लागू होने के कारण बाढ़ राहत कार्र्यों में अवरोध होगा। उन्होंने यह भी संकेत किया कि गुजरात विधानसभा चुनाव की घोषणा वीरवार को इसी कारण नहीं की गई है। 

कांग्रेस मिशन रिपीट करने के लिए तैयार है। दो दिन के भीतर प्रत्याशियों के नाम फाइनलकर दिए जाएंगे। प्रदेश सरकार ने हर क्षेत्र का विकास करवाया है। समाज के प्रत्येक तबके को लाभ पहुंचाया। इसके चलते कांग्रेस सत्ता में वापसी करेगी। भाजपा के विधानसभा चुनाव जीतने के सपने धरे के धरे रह जाएंगे। 

- वीरभद्र सिंह, मुख्यमंत्री, हिमाचल प्रदेश।

 

हिमाचल की जनता की इंतजार की घडिय़ां खत्म हो गई हैं। झूठी घोषणाओं वाली सरकार के जाने का वक्त आ गया है। भाजपा भारी बहुमत से रिकॉर्ड सीटें जीत लोकप्रिय सरकार प्रदेश में बनाएगी। भ्रष्टाचार, माफियाराज व महिलाओं का सम्मान चुनावी मुद्दे होंगे। शीघ्र ही भाजपा के सभी उम्मीदवारों की सूची जारी होगी।'

-प्रेम कुमार धूमल, पूर्व मुख्यमंत्री, हिमाचल।

कांग्रेस चुनाव के लिए तैयार है और सत्ता में वापसी करेगी। टिकट के लिए निर्धारित प्रपत्र पर आवेदन लिए गए हैं, जिनकी राज्य चुनाव कमेटी छंटनी करेगी। वह सिफारिशें केंद्रीय चुनाव कमेटी को भेजेगी। पार्टी संगठित होकरपूरी ताकत के साथ चुनाव लड़ेगी।

सुशील कुमार शिंदे, कांग्रेस महासचिव एवं प्रदेश प्रभारी।

 हिमाचल में परिवर्तन की लहर है और इसके सुनामी बनने में समय नहीं लगेगा। पार्टी प्रत्याशियों की घोषणा एक-दो दिन में कर दी जाएगी। इस बार हिमाचल प्रदेश में भाजपा की 50 से अधिक सीटें आनी तय है। केंद्र सरकार की उपलब्धियां व प्रदेश सरकार की नाकामियों को भाजपा हथियार बनाएगी।

-मंडल पांडेय, प्रदेश प्रभारी हिमाचल भाजपा।

 पार्टी की चुनाव के लिए पहले से ही तैयारियां चल रही थीं। संगठन के कार्यक्रमों में बूथों पर पूरा फोकस किया गया था। टिकटों का आवंटन दो चार दिन में होगा। अंतिम फैसला संसदीय बोर्ड करेगा। भाजपा मिशन 50 प्लस का लक्ष्य हरहाल में हासिल करेगी। भ्रष्टाचार में आकंठ डूबी कांग्रेस को जनता करारा जवाब देगी।

-सतपाल सत्ती, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष।

 

टिकट आवंटन पर जल्द फैसला होगा। टिकट आवंटन पर वरिष्ठ नेताओं की भी सलाह ली जाएगी। चुनाव मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के नेतृत्व में लड़ा जाएगा। प्रदेश सरकार के विकास और केंद्र सरकार की विफलताओं को चुनावी मुद्दा बनाया जाएगा। राज्य सरकार के काम को जनता के बीच भुनाया जाएगा।

सुखविंदर सिंह सुक्खू, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष।

 

कांग्रेस हिमाचल में संगठित होकर चुनाव लड़ेगी। विकास के मुद्दे पर पार्टी लड़ेगी और सत्ता में वापसी करेगी। केंद्र की नाकामियां भी कांग्रेस का हथियार बनेंगी। चुनाव में वीरभद्र ही पार्टी का चेहरा होंगे और जीतने के बाद वही मुख्यमंत्री बनेंगे। कांग्रेस अध्यक्ष सुक्खू व अन्य नेता उनके साथ मिलकर कार्य करेंगे। 

-आनंद शर्मा, राज्यसभा सदस्य व कांग्रेस नेता। 

अन्य चुनाव लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack