Monday, 16 December 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री व सोनिया सहित देश भर से उरी आतंकी हमले की कड़ी निंदा

जनता जनार्दन रक्षा संवाददाता , Sep 18, 2016, 17:39 pm IST
Keywords: Uri terror attack   President Pranab Mukherjee   PM Narendra Modi   Sonia Gandhi   Political leaders   Terror attack condemns   Uri Army camp attack   उरी आतंकी हमला   उरी हमला   कश्मीर हमला   सेना कैंप पर हमला  
फ़ॉन्ट साइज :
राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री व सोनिया सहित देश भर से उरी आतंकी हमले की कड़ी निंदा

नई दिल्लीः जम्मू-कश्मीर के उरी में हुए आतंकी हमले को लेकर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी सहित देश भर के राजनितिक नेताओं से काफी कड़ी प्रतिक्रिया आई है.

पीएम मोदी ने उरी हमले की निंदा करते हुए ट्वीट किया है और कहा है- मैं राष्ट्र को विश्वास दिलाता हूं कि इस कुत्सित हमले के पीछे जो भी हैं, उन्हें बख्शा नहीं जाएगा. उन्होंने कहा कि उरी में शहीद हुए जवानों को हम नमन करते हैं. राष्ट्र उनकी कुर्बानी सदैव याद रखेगा. मेरी संवेदनाएं शोकसंतप्त परिवारों के साथ हैं.

यूपी में एक रैली के दौरान राहुल गांधी ने आतंकी हमले की निंदा करते हुए कहा कि हमारे 17 जवान जम्मू-कश्मीर में आतंकियों से लड़ते हुए मारे गए। उन्होंने हमले में शहीद जवानों के लिए 30 सेंकेड का मौन रखने की भी अपील की।

वहीं, राहुल गांधी ने ट्विटर पर लिखा, ‘उरी में सेना शिविर पर आतंकी हमले की घोर निंदा करता हूं और इस हमले में शहीद बहादुर सैनिकों के परिजनों के प्रति हार्दिक संवेदना व्यक्त करता हूं।’ वहीं यूपी की राजधानी लखनऊ में उरी हमलों में शहीद हुए जवानों के लिए विशेष नमाज अदा की गई।

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार, गृह सचिव एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ आज यहां जम्मू एवं कश्मीर में सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की।

राजनाथ सिंह ने उरी में हुई आतंकी घटना एवं 7 बहादुर जवानों की मृत्यु पर शोक जताया और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की। गृहमंत्री ने शहीदों के परिवारों के प्रति सहानुभूति व्यक्त करते हुए कहा कि इस आतंकी हमले के पीछे जो भी लोग हैं, उन्हें बख्शा नहीं जाएगा।

पाकिस्तान एक आतंकी देश है और उसकी पहचान ऐसे ही की जानी चाहिए तथा उसे अलग-थलग किया जाना चाहिए। इसके स्पष्ट संकेत हैं कि हमलावर काफी प्रशिक्षित, पूरी तरह सशस्त्र और विशेष रूप से हथियारों से लैस थे।

राजनाथ सिंह ने पाकिस्तान द्वारा आतंकवाद और आतंकवादी समूहों पर लगातार एवं प्रत्यक्ष समर्थन किये जाने पर गहरी निराशा जतायी

गौरतलब है कि रविवार सुबह जम्मू-कश्मीर के उरी में सेना मुख्यालय पर किए गए आतंकी हमले में 17 जवानों शहीद हो गए हैं। उरी हमले के लिए पाकिस्तान को जिम्मेदार ठहराते हुए पूर्व गृह सचिव और बीजेपी सांसद आरके सिंह ने कड़ी निंदा की है।

आरके सिंह ने कहा कि आतंकी संगठन केवल चेहरा है, इस हमले की साजिश पाकिस्तान सेना और आईएसआई की ओर से रची गई है। यह राज्य प्रयोजित हमला है। उन्होंने आगे कहा कि अगर आप इसे आतंकी हमला करार देते हैं तो खुद को गुमराह करते हैं। इस तरह के हमलों से निपटने का सिर्फ जवाबी हमला ही एक रास्ता है।

सोनिया गांधी ने इस कायराना आतंकी हमले को देश की अन्तश्चेतना का दुखद अपमान करार देते हुए इसमें शामिल अपराधियों से सख्ती से निपटने और उन पर कार्रवाई करने की उम्मीद व्यक्त की है।

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी हमले पर दुख जाहिर किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी हमले की कड़ी निंदा करते हुए आतंकियों के खिलाफ तल्ख लहजे में कहा कि उन्हें किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा।

जम्मू-कश्मीर के उरी में सेना के ब्रिगेड मुख्यालय पर आंतकी हमले की बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार व राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने निंदा की है। नीतीश कुमार ने कहा है कि देश इस शहादत को कभी नहीं भूलेगा। दूसरी ओर लालू प्रसाद ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसते हुए पूछा है कि उनका 56 इंच का सीना कहां गया?

जम्मू-कश्मीर के उरी में सेना के ब्रिगेड मुख्यालय पर रविवार की सुबह आतंकी हमले में 17 जवान शहीद हो गए। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस हमले की निंदा करते हुए शहीदों के घरवालों के प्रति संवेदना प्रकट की है। नीतीश कुमार ने हमले की निंदा करते हुए कहा कि हमारे वीर सैनिकों ने इसका मुंहतोड़ जवाब दिया।

राजद सुप्रीमो ने कहा कि कश्मीर में हुआ ताजा आतंकी हमला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नाकामी के कारण हुआ। प्रधानमंत्री का 56 इंच का सीना कहां गया, पता नहीं। लालू प्रसाद ने शहीदों के परिजनों के प्रति संवदेना प्रकट की है।

लालू ने कहा कि प्रधानमंत्री की लापरवाही से हमारे जवान मारे जा रहे हैं। प्रधानमंत्री हमेशा आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब देने की बात करते हैं, लेकिन जब जवाब देने का समय आता है तो भाग जाते हैं।

गौरतलब है कि उत्तरी कश्मीर के उरी में स्थित सेना मुख्यालय में आज तड़के आतंकी हमला हुआ। इस हमले में सेना के 17 जवान शहीद हुए हैं और चार आतंकी भी मारे गए हैं। आठ जुलाई को सुरक्षाबलों द्वारा एक मुठभेड़ में हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकी बुरहान वानी को ढेर किए जाने के बाद से पिछले करीब दो माह से कश्मीर घाटी में अशांति बनी हुई है।
अन्य सुरक्षा लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack