Wednesday, 20 January 2021  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

BJP विधायक का विवादित बयान, कहा- चिकन बिरयानी खिलाकर बर्ड फ्लू फैलाने की साजिश

जनता जनार्दन संवाददाता , Jan 10, 2021, 19:28 pm IST
Keywords: BJP M   LA   BJP India   BJP Farmers Movment  
फ़ॉन्ट साइज :
BJP विधायक का विवादित बयान, कहा- चिकन बिरयानी खिलाकर बर्ड फ्लू फैलाने की साजिश दिल्ली: कृषि कानून के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों को लेकर बीजेपी नेता और विधायक मदन दिलावर ने बेहद आपत्तिजनक बयान दिया है. दिलावर ने किसानों के आंदोलन को पिकनिक करार देते हुए कहा कि ये चिकन बिरयानी खिलाकर देश में बर्ड फ्लू फैलान की साजिश है.

राजस्थान के रामगंजमंडी, कोटा से बीजेपी के विधायक मदन दिलावर ने कहा, "तथाकथित किसान आंदोलित हैं. किस बात के लिए आंदोलनरत हैं? जो किसानों के लिए बिल लाए गए हैं उन तीनों बिलों को निरस्त किया जाय ताकि किसानों को लाभ न मिले. इन तथाकथित किसानों को देश की चिंता नहीं है, देश के लोगों की भी चिंता नहीं है, उनके लिए आंदोलन क्या है. वे एक पिकनिक मना रहे हैं, चिकेन बिरयानी खा रहे हैं, काजू बादाम खा रहे हैं. सब प्रकार के ऐशो-आराम कर रहे हैं और वेश बदल-बदलकर वहां आ रहे हैं, उसमें आतंकवादी भी हो सकते हैं. उसमें कोई चोर लूटेरे भी हो सकते हैं. कुछ किसानों के दुश्मन भी हो सकते हैं. ये सब लोग देश को बर्बाद करना चाहते हैं."


बीजेपी नेता ने आगे कहा, “चिकन बिरायानी खिलाकर, मैं समझता हूं बर्ड फ्लू फैलाने का षडयंत्र है ये. और मुझे पूरी आशंका है कि कुछ दिनों तक सरकार ने इनको नहीं हटाया तो देश में बर्ड फ्लू का प्रकोप बड़ा रूप ले सकता है. मेरी प्रार्थना है कि इन आंदोलनकारियों को तुरंत एकत्र होने से रोकें. उनको प्रेम से, मन जाए तो ठीक नहीं तो सख्ती बरतें ताकि देश वासियों को बर्ड फ्लू के प्रकोप से बचाया जा सके.”

कांग्रेस ने बीजेपी विधायक के इस बयान की कड़ी निंदा की है. राजस्थान कांग्रेस प्रमुख गोविंद सिंह डोटासरा ने बीजेपी विधायक के बयान का वीडियो शेयर करते हुए ट्विटर पर लिखा, "बीजेपी, राजस्थान के विधायक मदन दिलावर जी का किसानों के लिए आतंकवादी, लुटेरे जैसे शब्दों का इस्तेमाल करना शर्मनाक है. जिस अन्नदाता ने आपके पेट में अन्न पहुंचाया उनके आंदोलन को आप पिकनिक बता रहे हैं, बर्ड फ्लू के लिए ज़िम्मेदार बता रहे हैं ? आपका यह बयान बीजेपी की सोच दर्शाता है."

गौरतलब है कि कड़ाके की ठंड में दिल्ली की सीमाओं पर एक महीने से ज्यादा समय से किसान आंदोलन डटे हुए हैं. किसान कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग पर अड़े हैं, जिसको लेकर किसानों और केंद्र सरकार के बीच कई राउंड की बातचीत हो चुकी है लेकिन अभी तक कोई हल नहीं निकला है.


अन्य राज्य लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack