Monday, 06 December 2021  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

राजस्थान में गहलोत सरकार का कैबिनेट विस्तार

जनता जनार्दन संवाददाता , Nov 21, 2021, 17:42 pm IST
Keywords: राजस्थान   सीएम अशोक गहलोत   Rajasthan Cabinet Reshuffle   Ashok Gehlot  
फ़ॉन्ट साइज :
राजस्थान में गहलोत सरकार का कैबिनेट विस्तार

राजस्थान में कांग्रेस नेता अशोक गहलोत के नेतृत्व में कैबिनेट का विस्तार  हुआ. हालांकि इसके साथ ही पार्टी में संग्राम शुरू हो गया है. कैबिनेट में जगह न मिलने से कई विधायक नाराज बताए जा रहे हैं. 

राज्यपाल कलराज मिश्रा ने राजभवन में नए मंत्रियों को शपथ दिलाई. कैबिनेट मंत्रियों के रूप में हेमाराम चौधरी, महेंद्रजीत सिंह मालवीय, रामलाल जाट, महेश जोशी, विश्वेंद्र सिंह, रमेश मीणा, ममता भूपेश बैरवा, भजनलाल जाटव, टीकाराम जूली, गोविंदराम मेघवाल और शकुंतला रावत ने शपथ ली.  

वहीं जाहिदा बेगम, बृजेंद्र सिंह ओला, राजेंद्र गुढ़ा और मुरारीलाल मीणा को राज्यमंत्री पद की शपथ दिलाई गई. इस शपथ ग्रहण समारोह में सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) और उनके मंत्रिपरिषद के मौजूदा मंत्री राजभवन पहुंचे. उनके अलावा वे 15 विधायक भी इस बैठक में पहुंचे, जिन्हें पुनर्गठन के तहत मंत्रिपरिषद में जगह मिली.  

राजस्थान में कैबिनेट विस्तार के बाद इसमें शामिल महिला मंत्रियों की संख्या एक से बढ़कर तीन हो गई है. इस पुनर्गठन में राज्यमंत्री ममता भूपेश को प्रमोट कर कैबिनेट मंत्री बनाया गया. वहीं दो नए चेहरों शकुंतला रावत (बानसूर) को कैबिनेट और जाहिदा खान (कामां) को बतौर राज्यमंत्री मंत्रिपरिषद में शामिल किया गया है. राजस्थान के कुल 200 विधायकों में से कांग्रेस के 108 विधायक हैं, जिनमें 15 महिलाएं हैं.

उधर मंत्री न बनने से नाराज कांग्रेस विधायक जौहरीलाल मीणा ने आरोप लगाया कि पूरे जिले में टीकाराम झूली के भ्रष्टाचार की चर्चा है. इसके बावजूद उसे उसे प्रमोट किया गया. इस नाइंसाफी के बावजूद वे कांग्रेस में रहेंगे और जैसी स्थिति होगी, उसे देखेंगे. MLA शफिया जुबैर ने कहा कि कैबिनेट में दागी लोगों को प्रमोट किया गया है. महिलाओं को कैबिनेट में 33 प्रतिशत आरक्षण नहीं दिया गया. कुल मिलाकर लोगों में खराब संदेश भेजा जा रहा है. 

अन्य राज्य लेख
वोट दें

क्या आप कोरोना संकट में केंद्र व राज्य सरकारों की कोशिशों से संतुष्ट हैं?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख