Tuesday, 21 August 2018  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

हरियाणा की दसवीं की लापता दलित छात्रा के साथ सामूहिक बलात्कार, निर्भया की तरह बर्बरता

हरियाणा की दसवीं की लापता दलित छात्रा के साथ सामूहिक बलात्कार, निर्भया की तरह बर्बरता जींदः देश में एक बार फिर 16 दिसंबर, 2012 दिल्ली गैंगरेप जैसे जघन्य अपराध को अंजाम दिया गया है. यह मामला हरियाणा के जींद का है जहां पर 15 वर्षीय एक लड़की के साथ आरोपियों ने गैंगरेप कर उसके प्राइवेट पार्ट से बर्बरता कर उसकी हत्या कर दी.

शुक्रवार को सफिदौन शहर के बुधखेड़ा गांव की नहर से लड़की का शव बरामद किया गया. पुलिस द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक, दलित लड़की की पहचान कुरुक्षेत्र के झांसा गांव निवासी के रूप में हुई है. लड़की 9 जनवरी से लापता थी. शव के निचले हिस्से पर एक भी कपड़ा मौजूद नहीं था.

फिलहाल पुलिस ने रोहतक के पोस्ट-ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (पीजीआईएमएस) में पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है. पीजीआईएमएस में फोरेंसिक डिपार्टमेंट के हेड डॉक्टर एसके ढट्टरवाल ने जानकारी दी की, पीड़िता के चेहरे, उसके मुंह के अंदर काफी गंभीर चोट के निशान पाए गए.

डॉक्टर का कहना है कि ऐसा प्रतीत होता है कि कई लोगों ने मिलकर लड़की का अपहरण किया था जिन्होंने उसके द्वारा शोर न मचा पाने की पुरजोर कोशिश की थी.

डॉक्टर ने कहा, "इस घटना से पता चलता है कि इस कृत्य को कुंठा के कारण अंजाम दिया गया था. पीड़िता के प्राइवेट पार्ट के साथ की गई बर्बरता को देखकर लगता है कि उसकी हत्या करने और नहर में डूबोने के बाद ऐसा किया गया था. यह केवल एक बंदे का काम नहीं है.

यह काम एक से ज्यादा लोगों ने मिलकर किया है, जो कि पीड़िता को शारीरिक रूप से प्रताड़ना देने में नाकाम हो गए थे जब वह जिंदा थी." इस मामले की जांच के लिए दो डीएसपी के अंडर में जींद पुलिस ने दो एसआईटी टीम का गठन किया है.

मामले पर बात करते हुए एक एसआईटी टीम का नेतृत्व कर रहे डीएसपी कप्तान सिंह ने कहा "हो सकता है कि किसी अन्य जगह पर पीड़िता के शव को फेंका गया हो और अन्य जगह से इसे निकाला गया हो."

कप्तान सिंह ने बताया कि डॉक्टर ने पुष्टि की है कि पीड़िता की 24-48 घंटे पहले हत्या की गई है. सफिदौन पुलिस थाने में अज्ञात आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आने के बाद आरोपियों के खिलाफ उचित धाराएं लगाई जाएंगी.
अन्य अपराध लेख
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख
  • खबरें
  • लेख
 
stack