आर्यन को जेल में मत रखना, वो टूट जाएगा

जनता जनार्दन संवाददाता , May 19, 2023, 18:03 pm IST
Keywords: Bollywood News   सुपरस्टार शाहरुख खान   समीर वानखेड़े   व्हाट्सऐप चैट आर्यन   सीबीआई   Aryan Khan  
फ़ॉन्ट साइज :
आर्यन को जेल में मत रखना, वो टूट जाएगा बॉलीवुड के सुपरस्टार शाहरुख खान और नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के जोनल डायरेक्टर रहे समीर वानखेड़े की व्हाट्सऐप चैट सामने आई है, जिसमें शाहरुख ने अपने बेटे के प्रति नरम रुख रखने की अपील की है. एनसीबी अफसर समीर वानखेड़े ने ही ड्रग्स केस में शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को सलाखों के पीछे डाला था.

शाहरुख ने समीर को चैट में लिखा है, 'आर्यन पर दया करो,मेरे और मेरे परिवार पर दया करो. कृपया करके मेरे बेटे के खिलाफ नरम रुख अपनाएं. चैट में शाहरुख खान ने आगे लिखा, आर्यन खान को जेल में मत रखना, वो टूट जाएगा, उसके खिलाप नरम रुख अपनाएं. सहयोग के लिए आपका शुक्रिया. शाहरुख ने समीर से कहा कि मुझे तुम्हारी अच्छाई पर भरोसा है. मैंने मीडिया में कोई बयान नहीं दिया. एक पिता के तौर पर मेरे भरोसे को टूटने मत देना.

बता दें कि ये व्हाट्सऐप चैट आर्यन की गिरफ्तारी के बाद की है. चैट में शाहरुख ने बार-बार बेटे के प्रति नरम रुख रखने की अपील की है. उन्होंने कहा कि मैं पूरी कोशिश करूंगा कि आर्यन एक ऐसा इंसान बने, जिस पर मुझे और आपको गर्व होगा.

आर्यन खान को तीन अक्टूबर 2021 को मुंबई से गोवा जा रहे कॉर्डेलिया क्रूज जहाज पर छापेमारी के बाद गिरफ्तार किया गया था. हालांकि, आर्यन पर लगे आरोपों को सही साबित करने के लिए पर्याप्त सबूत पेश करने में NCB के नाकाम रहने पर बंबई हाईकोर्ट ने उन्हें तीन हफ्ते बाद जमानत दे दी थी.

दूसरी ओर समीर वानखेड़े भी खुद विवादों में घिरे हुए हैं. उन पर आर्यन खान को आरोपी न बनाने के एवज में उनसे कथित तौर पर 25 करोड़ रुपये की रिश्वत मांगने के आरोप हैं. सीबीआई ने उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की है. इसे रद्द करने का अनुरोध लेकर  उन्होंने बंबई हाई कोर्ट का रुख किया है. हाईकोर्ट में दाखिल याचिका में वानखेड़े ने यह भी कहा है कि सीबीआई की प्राथमिकी के संबंध में उनके खिलाफ कोई दंडात्मक कार्रवाई न की जाए.  सीबीआई ने वानखेड़े और चार अन्य के खिलाफ हाल ही में एफआईआर दर्ज की थी. मुंबई में सीबीआई अधिकारियों ने वानखेड़े को गुरुवार को मामले में पूछताछ के लिए बुलाया था, लेकिन वह जांच एजेंसी के सामने पेश नहीं हुए थे.

वोट दें

क्या आप कोरोना संकट में केंद्र व राज्य सरकारों की कोशिशों से संतुष्ट हैं?

हां
नहीं
बताना मुश्किल