भारत में कोविड-19 के दैनिक मरीज घटे, टीकाकरण अभियान जारी

जनता जनार्दन संवाददाता , Jan 18, 2021, 12:27 pm IST
Keywords: Covid-19   Covid-19 India   कोविड-19   टीकाकरण अभियान   Covid-19 fatalities   Covid-19 record   Vaccine Distribution   Vaccine Distribution India   Covid Vaccine  
फ़ॉन्ट साइज :
भारत में कोविड-19 के दैनिक मरीज घटे, टीकाकरण अभियान जारी नई दिल्ली: भारत में कोविड-19 के दैनिक मामलों की संख्या में कमी जारी है, यहां पिछले 24 घंटों में 13,788 नए मामले सामने आए हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार देश में कुल मामलों की संख्या 1,05,71,773 हो गई है.

इस बीच, देश में 2 कोविड टीकों को अप्रूवल मिलने के बाद 16 जनवरी से टीकाकरण अभियान शुरू हो चुका है. बीते 2 दिनों में 2,24,311 लोगों को वैक्सीन डोज दिये जा चुके हैं.

देश में पिछले 11 दिनों से दैनिक मामलों की संख्या 20 हजार से कम रही है. साथ ही पिछले 24 दिनों से दैनिक मौतों का आंकड़ा 300 से कम रहा है.

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने कहा कि पिछले 24 घंटों में 145 लोगों की मौत हुई है जिससे कुल मौतों की संख्या 1,52,419 हो गई है. वहीं 1,02,11,342 लोग बीमारी से उबर चुके हैं. देश में रिकवरी दर 96.59 प्रतिशत और मृत्यु दर 1.44 प्रतिशत है.

दैनिक नए मामलों में से लगभग 81 प्रतिशत मामले 8 राज्यों – केरल, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश और गुजरात के हैं. वहीं दैनिक मौतों में से 66 फीसदी मौतें महाराष्ट्र, केरल, पश्चिम बंगाल, पंजाब और उत्तर प्रदेश में हुईं हैं.

देश में 2 कोविड टीकों को अप्रूवल मिलने के बाद 16 जनवरी से टीकाकरण अभियान शुरू हो चुका है. बीते 2 दिनों में 2,24,311 लोगों को वैक्सीन डोज दिये जा चुके हैं. टीकाकरण के दौरान 447 लोगों में प्रतिकूल घटनाएं देखने को मिली हैं.

देश में कोरोना वायरस वैक्सीन 16 जनवरी से लोगों को दिए जाने के बाद कुछ इलाकों से इसके साइड इफेक्ट की ख़बरें आ रही थीं.

रविवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक संवाददाता सम्मेलन कर इसकी जानकारी दी और कहा है कि कोरोना वायरस टीकाकरण दिए जाने के बाद 16 और 17 जनवरी को 447 एइएफ़आई (एडवर्स इवेंट फॉलोइंग इम्युनाइजेशन) रिपोर्ट किए गए हैं.

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव डॉक्टर मनोहर अगनानी ने बताया कि अधिकांश मामलों में इसका प्रतिकूल प्रभाव मामूली स्तर का था.

अगर टीकाकरण के बाद किसी को अस्पताल में भर्ती करना पड़े तो उसे सीरियस एएफ़आई में दर्ज किया जाता है. उन्होंने बताया कि केवल तीन ऐसे मामले हुए जिसमें लोगों को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा.

उनके मुताबिक इनमें से एक मामले में, जिन्हें नॉर्दर्न रेलवे अस्पताल में भर्ती किया गया था, 24 घंटे के भीतर डिस्चार्ज किया जा चुका है. वहीं एक अन्य मरीज़ को भी एम्स दिल्ली से छुट्टी दी जा चुकी है. जबकि तीसरे मरीज़ एम्स ऋषिकेश में हैं और उनकी स्थिति भी अच्छी है.

वैक्सीन के साइड इफेक्ट के बारे में उन्होंने बताया कि ज़्यादातर मामलों में लोगों को हल्का बुखार, सिरदर्द और जी मिचलाने की शिकायत रही.

स्वास्थ्य सचिव ने बताया कि "पहले दिन 2,07,229 लोगों को वैक्सीन दी जा चुकी है. यह किसी भी देश में पहले दिन वैक्सीन दिए जाने का सबसे बड़ा आंकड़ा है. भारत इस मामले में अमेरिका, ब्रिटेन और फ़्रांस से आगे रहा."

"दूसरे दिन वैक्सीन छह राज्यों में दी गई. आंध्र प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, कर्नाटक, केरल, मणिपुर और तमिलनाडु में कुल 553 सत्र आयोजित किए गए. रविवार को क़रीब 17 हज़ार लोगों को टीका दिया गया है."

इस दौरान स्वास्थ्य सचिव ने बताया कि पहले दो दिनों में कुल दो लाख 24 हज़ार लोगों का टीकाकरण किया गया है.

गौरतलब है कि पहले चरण में कोरोना वायरस वैक्सीन 30 करोड़ लोगों को लगाने की योजना है. इस वैक्सीन की दो डोज़ होंगी. इसमें पहली डोज़ और दूसरे डोज़ के बीच का अंतर 21 से 28 दिन का होगा.

पब्लिक हेल्थ फ़ाउंडेशन की उपाध्यक्ष डॉ. प्रीति कुमार ने बीबीसी से बातचीत में कहा था कि वैक्सीन दिए जाने के बाद मामूली बुख़ार, सिरदर्द या इंजेक्शन लगाने वाली जगह पर दर्द होता है. उन्होंने कहा था कि अगर कोई वैक्सीन 50 फ़ीसदी तक प्रभावी होती है तो उसे सफल माना जाता है.

डॉ. प्रीति कुमार के मुताबिक पहला डोज़ लगने के 10-14 दिन के बाद असर होना शुरू हो जाता है और यह बढ़ता चला जाता है.

हालाँकि उनका कहना है कि वैक्सीन लगाने के बाद भी मास्क लगाना ज़रूरी है. वो कहती हैं वैक्सीन एक अतिरिक्त सुरक्षा उपाय है. सामाजिक दूरी, मास्क और वायरस से बचने के अन्य उपाय करना वैक्सीन लगवाने के बाद भी ज़रूरी होगा.
अन्य स्वास्थ्य लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack