Friday, 15 November 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
खास लोग
  • खबरें
  • लेख
लता मंगेशकर की सेहत में हो रहा है सुधार, पूरी तरह से ठीक होने‌ पर होंगी डिस्चार्ज जनता जनार्दन संवाददाता ,  Nov 13, 2019
लता मंगेशकर परिवार की भतीजी रचना ने बताया कि उनकी तबीयत पहले से बेहतर और स्थिर है. उन्होंने आगे जानकारी देते हुए बताया कि लता मंगेशकर की तबीयत में लगातार सुधार हो रहा है और वो अच्छे से रेस्पॉन्ड कर रही हैं. उन ....  समाचार पढ़ें
राकेश रौशन इंडियन रियल हीरोज अवार्ड से हुए सम्मानित अमिय पाण्डेय ,  Nov 10, 2019
जिले के मतदाता जागरूकता अभियान के ब्रांड अम्बेसडर और सामाजिक संस्था रौशन फाउंडेशन के संस्थापक राकेश यादव रौशन को इंडियन रीयल हीरोज अवार्ड से सम्मानित किया गया। यह सम्मान उन्हें नई दिल्ली की संस्था एआर फाउंडेशन और वाराणसी की संस्था अनमोल सेवा समिति द्वारा बीएचयू के समता भवन में आयोजित एक  कार्यक्रम में मुख्य अतिथि आकाशवाणी वाराणसी ....  समाचार पढ़ें
चंदौली: बीपीएस पब्लिक स्कूल में मना गाँधी व शास्त्री जयंती  अमिय पाण्डेय ,  Oct 02, 2019
बीपीएस पब्लिक स्कूल नौबतपुर चन्दौली में गाँधी व शास्त्री जयंती के शुभ अवसर पर भारत के पूर्व प्रधानमंत्री व आज़ादी के लिए लड़ने वाले महापुरुष की  जयंती मनायी गयी। शिक्षकों व बच्चो द्वारा गाँधी जी व शास्त्री जी  के चित्र पर माल्यार्पण कर उनको याद किया गया उनके सत्य व अहिंसा ईमानदारी से बच्चो को रूबरू कराया गया ....  समाचार पढ़ें
बसंत रामनगीना पीजी कालेज धराव चंदौली ने गाँधी व शास्त्री जी की जयंती पर उनके बारे में विस्तार से बताया अमिय पाण्डेय ,  Oct 02, 2019
2 अक्टूबर का दिन भारत के लिए राष्ट्रीय गौरव का दिन है. आज ही के दिन देश की दो बड़ी शख्सियतों का जन्मदिन है. आज जहां राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती है तो वहीं जय जवान जय किसान का नारा देने वाले लोकप्रिय प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की भी जयंती आज ही है. आज ही के दिन साल 1904 में उत्तर प्रदेश के मुगलसराय में उनका जन्म हुआ था. बाद में वह आजाद भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के निधन के बाद देश के दूसरे प्रधानमंत्री बने. नेहरू के ....  समाचार पढ़ें
सुदामा देवी महिला महाविद्यालय चंदौली में धूमधाम से मना गाँधी व शास्त्री जयंती  अमिय पाण्डेय ,  Oct 02, 2019
जिला मुख्यालय स्थित बीएड बीटीसी कालेज सुदामा देवी महिला महाविद्यालय चन्दौली में गाँधी शास्त्री जयंती के शुभ अवसर पर भारत के पूर्व प्रधानमंत्री व आज़ादी के लिए लड़ने वाले महापुरुष की  जयंती मनायी गयी। शिक्षकों द्वारा गाँधी जी व शास्त्री जी  के चित्र पर माल्यार्पण कर उनको याद किया गया.  ....  समाचार पढ़ें
दूसरी पुण्यतिथि पर याद की गई समाजसेविका विंध्यवासिनी देवी जनता जनार्दन संवाददाता ,  Sep 22, 2019
नेशनल सीनियर सिटीजन एसोसियशन के दिवंगत पूर्व वरिष्ठ सदस्या एवं समाजसेवीका स्व. विंध्यवासिनी देवी को उनके दूसरी पुण्यतिथि पर स्थानीय सतेंद्र नगर औरंगाबाद में श्रधांजलि सभा एस एन सिन्हा कॉलेज के हिंदी विभाग के पूर्व विभागाध्यक्ष डॉ सिधेश्वर प्रसाद सिंह की अध्यक्षता एव सूरज कुमार पाण्डेय की संचालन में आयोजित कर श्रधांजलि दी गई। संगठन के विस्तार में उनके सहयोग को याद करते हुए अतिथियों ने कहा की वे परोपकारी एवं नेक दिल वाली महिला थी जो गरीबो व असहायों का हमेशा ख्याल रखती थी। उनके असमय चले जाने से संगठन तथा समाज को अपूर्णीय क्षति हुई है। संगठन सूत्रों ने बताया की उनकी पैतृक गांव रोहतास जिले के पांडेय डीही में पिछले साल आयोजित उनकी पहली पुण्य ....  समाचार पढ़ें
22 सितंबर को औरंगाबाद में मनायी जाएगी समाजसेवी की पुण्यतिथि  जनता जनार्दन संवाददाता ,  Sep 14, 2019
राष्ट्रीय सीनियर सिटीजन एसोसिएशन की पूर्व सदस्या व समाजसेवी स्वर्गीय विंध्यवासिनी देवी की द्वितीय पुण्यतिथि आगामी 22 सितंबर 2019 को सत्येंद्र नगर औरंगाबाद बमें मनाई जाएगी। इस अवसर पर श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया है। उनके पुत्र सूरज कुमार पांडेय ने बताया कि स्वर्गीय विंध्यवासिनी देवी के स्मृति में उनके पैतृक ग्राम रोहतास जिला के चेनारी प्रखंड के डीही ....  समाचार पढ़ें
अंग्रेजों के छक्के छुड़ाने वाले शूरवीर फतेह बहादुर शाही को याद रखिए, भले ही इतिहासकारों ने उन्हें भुला दिया गोपाल जी राय ,  Aug 14, 2019
जब जब भारत में स्वतंत्रता संग्राम के मूर्त-अमूर्त वीरों की गाथा गाई जाती है, तब तब भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के 'प्रथम उद्घोषक' रहे महानायक फतेह बहादुर शाही की याद सबसे पहले आती है। क्योंकि इतिहास में उनके नायकत्व और जुझारूपन को वह स्थान नहीं मिला, जिसके वह पात्र थे, काबिल थे। उन्होंने 1765 में हीं कम्पनी सरकार के विरुद्ध न केवल भारी विद्रोह किया, बल्कि ए ....  समाचार पढ़ें
दिल्ली ने एक साल के भीतर खोए तीन पूर्व सीएम जनता जनार्दन संवाददाता ,  Aug 07, 2019
मंगलवार रात सुषमा स्वराज के निधन के साथ ही दिल्ली ने पिछले एक साल से कम समय के अंतराल में अपने तीन पूर्व मुख्यमंत्री खो दिए हैं. स्वराज अक्टूबर से दिसंबर 1998 तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रही थीं. मंगलवार की रात हृदय गति रुक जाने से उनका निधन हो गया. वहीं, दिल्ली की तीन बार मुख्यमंत्री रहीं शीला दीक्षित का इस साल जुलाई में ....  समाचार पढ़ें
निधन के एक घंटे पहले हरीश साल्वे से हुई थी सुषमा स्वराज की बात जनता जनार्दन संवाददाता ,  Aug 07, 2019
पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने मंगलवार रात दिल्ली के एम्स अस्पताल में अंतिम सांस ली. रात करीब 12.30 बजे सुषमा स्वराज के पार्थिव शरीर को उनके दिल्ली स्थित घर ले जाया गया. सुबह 8 बजे से 11 बजे तक जंतर-मंतर स्थित उनके आवास पर उनका अंतिम दर्शन किया जा सकेगा. आज शाम करीब तीन बजे लोधी रोड पर सुषमा स्वराज का अंतिम संस्कार होगा. ....  समाचार पढ़ें
डॉ. संजय गुप्ताः लाखों चेहरों पर मुस्कान बिखेरने वाले 'खुशहाली गुरु'  अमिय पाण्डेय ,  Sep 27, 2018
वह बाबा भोलेनाथ के भक्त हैं और काशी में रहते हैं. बाबा हर हर महादेव उनके लिए मंत्र वाक्य से कहीं अधिक है. वह किसी शिव मंदिर के पुजारी नहीं, पर किसी शिवभक्त से कम नहीं. स्वभाव से मस्त और अपने हुनर के माहिर, इतने कि बिगड़े से बिगड़ा केस इनके छूने भर से ठीक. हम बात कर रहे हैं खुशहाली गुरु के नाम से प्रसिद्ध डॉ संजय गुप्ता की ....  लेख पढ़ें
यादेंः अटल थे, अटल हैं, अटल रहेंगे! राजशेखर व्यास ,  Aug 17, 2018
वे साधारण परिवार में जन्मे, साधारण से प्राइमरी स्कूल में पढ़े और साधारण से प्राइमरी स्कूल टीचर के बच्चे हैं। उनके पिता का नाम था कृष्णबिहारी वाजपेयी और दादा थे पंडित श्यामलाल वाजपेयी। उन्होंने सारे देश के सामने एक बार कहा था- 'मैं अटल तो हूं पर 'बिहारी' नहीं हूं। ....  लेख पढ़ें
अवध से था ऐसा लगाव कि लखनऊ की जनता के दिल पर राज करते थे अटल जनता जनार्दन डेस्क ,  Aug 17, 2018
देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी वर्ष 1991 से 2004 तक लगातार लखनऊ से सांसद चुने गए। उनका उत्तर प्रदेश की राजधानी से गहरा नाता रहा। वह एक कुशल राजनेता, कवि, प्रखर वक्ता और पत्रकार के रूप में राजनेताओं और जनता के बीच लोकप्रिय रहे और उन्होंने हमेशा लखनऊवासियों के दिल पर राज किया। ....  लेख पढ़ें
वाजपेयी ने मौत की आंखों में झांककर लिखी थी कविताएं जनता जनार्दन डेस्क ,  Aug 17, 2018
पूर्व प्रधानमंत्री दिवंगत अटल बिहारी वाजपेयी जितने राजनेता के रूप में सराहे गए उससे कहीं ज्यादा अपनी कविताओं के लिए चर्चित रहे। वाजपेयी ने कई दफे अभिव्यक्ति के लिए कविता को माध्यम बनाया। वर्ष 1988 में जब वह किडनी के इलाज के लिए अमेरिका गए तो प्रसिद्ध साहित्यकार धर्मवीर भारती को पत्र लिखा। ....  लेख पढ़ें
ठंडाई और भांग के बीच अटल और बनारस, एक अलहदा नाता उत्पल पाठक ,  Aug 17, 2018
काशी के अटल या बनारस के अटल में अगर समानताएं हैं तो भिन्नता भी उतनी ही हैं. काशी के अटल बीजेपी और संघ के अटल हैं. हिंदुत्व और कट्टरवाद के अटल हैं. लेकिन बनारस के अटल ठंडाई और पान के अटल हैं. वे जमीन पर बैठ कर पंगत में खाने वाले, रिक्शे पर बैठ कर रात में शहर को नापने वाले और इस शहर की समाजवादी और गैर राजनीतिक छवि को अपने भीतर घोलने के बाद खुल कर ठठा कर हंसकर जीने वाले अटल हैं. ....  लेख पढ़ें
गुरु गोलवलकर ने इंदिरा को कहा था 'दुर्गा', अटल ने बस दोहराया था जनता जनार्दन डेस्क ,  Aug 17, 2018
सन् 1971 में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के साहस की सराहना करते हुए उन्हें 'दुर्गा' कहा था तो उनके ही दल के लोगों ने इसकी कड़ी आलोचना की थी, मगर यह कम लोगों को पता होगा कि इंदिरा गांधी को तो यह उपमा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक गुरु गोलवरकर ने दी थी, अटल ने तो उसे सिर्फ दोहराया था। ....  लेख पढ़ें
वाजपेयी की राजनीति को करीब से न देख पाने की बदनसीबी... जनता जनार्दन डेस्क ,  Aug 17, 2018
साल 2002 में दूरदर्शन पर 'सर्व शिक्षा अभियान' के तहत एक विज्ञापन देखा करते थे, जिसकी शुरुआत में अटल बिहारी वाजपेयी नजर आते थे। आज जब वह हमारे बीच नहीं हैं, तो उनका वही सौम्य चेहरा और आत्मविश्वास से लबरेज आवाज दिलो-दिमाग में गूंज रही है। उनका निधन एक सदी का अंत नहीं, बल्कि एक तरह की राजनीति का अंत है। ....  लेख पढ़ें
अटल बिहारी वाजपेयी, जिन्होंने संसद से संयुक्त राष्ट्र तक लहराया था हिंदी का परचम जनता जनार्दन डेस्क ,  Aug 17, 2018
'एक-दो नहीं, कर लो बीसियों समझौते, पर स्वतंत्र भारत का मस्तक नहीं झुकेगा', संसद में पोखरण परीक्षण के बाद दिए गए तेजस्वी भाषण और सन् 1977 में संयुक्त राष्ट्र के 32वें अधिवेशन में हिंदी में भाषण देने वाले पहले व्यक्ति विख्यात कवि, लेखक, पत्रकार और दिग्गज राजनेता भारतरत्न अटल बिहारी वाजपेयी की एम्स में अंतिम सांसें थमने के साथ एक युग का गुरुवार को अंत हो गया। ....  लेख पढ़ें
अटल बिहारी वाजपेयी: नए भारत के सारथी और सूत्रधार जनता जनार्दन डेस्क ,  Aug 17, 2018
भारत रत्न, सरस्वती पुत्र और देश की राजनीति के युगवाहक पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का संपूर्ण जीवन राष्ट्रसेवा और जनसेवा को समर्पित रहा। वे सच्चे अर्थों में नवीन भारत के सारथी और सूत्रधार थे। वे एक ऐसे युग मनीषी थे, जिनके हाथों में काल के कपाल पर लिखने व मिटाने का अमरत्व था। ....  लेख पढ़ें
ऐसे थे कवि अटलः 'रार नहीं मानूंगा' कहने वाले की जब 'मौत से ठन गई' जनता जनार्दन संवाददाता ,  Aug 16, 2018
अटल जी बेहद जिंदादिल इनसान थे. ऊंचाई पर पहुंचकर भी गर्व ने उन्हें नहीं छुआ था. अटल बिहारी वाजपेयी अगर राजनेता और भारत के प्रधानमंत्री न भी होते तो भी एक कवि, पत्रकार और हिंदी सेवी के रूप में देश की अनन्य सेवा करने के लिए जाने-पहचाने जाते. अटल जी एक राजनेता के साथ ही बेहतरीन वक्ता और कवि के तौर पर पूरे देश में चर्चित रहे. ....  लेख पढ़ें
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल