Tuesday, 17 September 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

शिवसेना, विहिप ने अयोध्या में राम मंदिर के लिए बनाया दबाव, ठाकरे ने कहा, भाजपा हिंदुओं की भावनाओं से खिलवाड़ न करे

जनता जनार्दन संवाददाता , Nov 25, 2018, 12:20 pm IST
Keywords: Ram Temple   Ayodhya issue   Shiv Sena   VHP   Ram Mandir construction   Uddhav Thackeray   BJP   Ayodhya Ram Temple   Ram Temple issue   राम की अयोध्या   अयोध्या राम मंदिर   वीएचपी   धर्म सभा   उद्धव ठाकरे   राम मंदिर  
फ़ॉन्ट साइज :
शिवसेना, विहिप ने अयोध्या में राम मंदिर के लिए बनाया दबाव, ठाकरे ने कहा, भाजपा हिंदुओं की भावनाओं से खिलवाड़ न करे अयोध्याः राम की अयोध्या असहज है. सियासत चरम पर है और वोट की राजनीति कहें या समय की मांग एक बार फिर अयोध्या में राम मंदिर को लेकर माहौल गरमा गया है. रविवार को वीएचपी की धर्म सभा से एक दिन पूर्व शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे भी राम की नगरी पहुंचे और कहा कि वे सरकार को कुंभकर्ण की नींद से जगाने आए हैं और वे राम मंदिर का श्रेय लेने नहीं निर्माण की तारीख जानने आए हैं.

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने रामलला का दर्शन किया, जिसके बाद उन्होंने प्रेस को संबोधित किया. पत्रकारों से मुखातिब होते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा कि कल से मैं अयोध्या में हूं. मेरी अयोध्या यात्रा सफल रही. संतों से मैंने कहा कि जो कार्य हम करने जा रहे हैं, वो आपके सहयोग के बिना पूरा नहीं हो सकता. पूरा देश इंतजार कर रहा कि राम मंदिर कब बनेगा. हम कब तक इंतजार करेंगे.

उद्धव ने कहा कि योगी जी कहते हैं कि वहां मंदिर था है और रहेगा. लेकिन ये हमारी धारणा है. मंदिर दिखना चाहिए. वो जल्द से जल्द पूरा होना चाहिए. उसके लिए कानून बनाएं अध्यादेश लाइए, शिवसेना साथ दे कही है. कुछ भी करिए लेकिन मंदिर जल्द बनाइए.

उद्धव ने कहा कि हिंदुओं की भावनाओं से खिलवाड़ नहीं होना चाहिए. अटल जी ने कहा कि था हिंदू मार नहीं खाएगा. वो दिन चले गए. अब हिंदू ताकतवर हो गया है. अब हिंदू मार तो खाएगा ही नहीं, अब चुप भी नहीं बैठेगा.

रामलला के दर्शन पर ठाकरे बोले कि उस जगह में कुछ तो चेतना है. लेकिन दर्शन के लिए जाते वक्त मुझे लगा कि मैं रामलला के दर्शन के लिए मंदिर जा रहा या जेल जा रहा हूं.

ठाकरे ने बीजेपी पर हमला करते हुए कहा कि चुनाव से पहले बीजेपी ने कहा था कि मंदिर बनाने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे. आप सिर्फ चुनाव से पहले ये बात करते हैं. अगर मामला कोर्ट में होने की बात कर रहे तो लोगों से साफ कह दें कि मंदिर भी सिर्फ चुनावी जुमला था. आप लोगों से कह दें कि आपसे ये नहीं हो पाएगा.

हिंदुओं की भावनाओं से खिलवाड़  न करें. मंदिर बनाने के लिए कुछ भी करिए. आज की सरकार ताकतवर है, अगर ये सरकार मंदिर नहीं बनाएगी तो कौन बनाएगा. अगर ये सरकार मंदिर नहीं बनाएगी तो मंदिर तो बनेगा लेकिन फिर ये सरकार नहीं बनेगी.

इससे पहले शनिवार को अपने परिवार के साथ अयोध्या पहुंचे उद्धव ने सरयू तट पर आरती की. उन्होंने साधू संतों और महाराष्ट्र से हजारों की संख्या में आए शिवसैनिकों को संबोधित करते हुए बीजेपी और मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला. उद्धव ठाकरे ने कहा कि वे यहां सिर्फ आशीर्वाद लेने आए हैं, लेकिन अब आते रहेंगे. उन्होंने कहा कि जब वे अयोध्य आ रहे थे, तो लोग उनसे पूछ रहे थे कि क्या राजनीति करने पहुंच रहे हो. मैं यहां राजनीति करने नहीं आया हूं. मैं आज कुंभकर्ण बनी बीजेपी को जगाने आया हूं. कुंभकर्ण तो छह महीने सोता था, लेकिन बीजेपी चार साल से सो रही है. मैं चाहता हूं कि सब मिलकर मंदिर बनाए.

दरअसल, जब 80 के दशक में संघ परिवार और उससे जुड़े संगठन बाबरी मस्जिद की जगह पर राम मंदिर निर्माण का आंदोलन चला रहे थे, तब भी शिवसेना के तत्कालीन बालासाहेब ठाकरे जनता का मू़ड भांपते हुए हिंदुत्व की गाड़ी पर सवार हो गए थे. उन्होंने हिंदुओं के मुद्दे को बीजेपी से ज्यादा आक्रामकता से उठाया. जिसकी वजह से महाराष्ट्र में बीजेपी से ज्यादा शिवसेना को फायदा हुआ और राज्य में शिवसेना बीजेपी का बड़ा भाई बनकर उभरी. उद्धव की दो दिवसीय अयोध्या यात्रा इसी इतिहास को दोहराने जैसी प्रतीत हो रही है.

अब तीन दशक बाद बाल ठाकरे के पुत्र उद्धव ठाकरे भी वही दोहराते हुए दिख रहे हैं. जब हिंदू दक्षिणपंथी संगठन और संत समाज राम मंदिर को लेकर एक बार फिर आक्रामक हुआ तो उद्धव भी मूड को भांपते हुए वही कर रहे हैं जो उनके पिता ने किया था. हालांकि 2018 की स्थिति 1989 जैसी नहीं है, क्योंकि राम मंदिर का मुद्दा अभी उतना बड़ा और उग्र नहीं हुआ है जितना पहले था. तो सवाल उठना लाजमी है कि शिवसेना ऐसा क्यों कर रही है?

राजनीतिक विश्लेषकों की मानें तो हिंदू हार्ड-लाइन एजेंडे से उद्धव को बीजेपी के साथ दोबारा गठबंधन करने का बहाना मिल जाएगा, जबकि वे पिछले चार साल से केंद्र की मोदी सरकार की आलोचना करते आए हैं. दोनो ही दलों के नेता सार्वजनिक तौर पर स्वीकार कर चुके हैं कि कांग्रेस और एनसीपी का मुकाबला करने के लिए शिवसेना-बीजेपी को साथ आना ही पड़ेगा.

उद्धव के अयोध्या दौरे का एक निष्कर्ष यह भी निकाला जा रहा है कि शिवसेना द्वारा हिंदुत्व की लाइन लेने से मुंबई-थाणे-पुणे क्षेत्र के गैर मराठी वोटरों तक पहुंचना आसान होगा. शिवसेना का नेतृत्व यह जानता है कि इस बार मराठी भाषियों का वोट नाकाफी होगा. क्योंकि साल 2014 के चुनावों में बीजेपी ने मुंबई में सेना से ज्यादा सीटें जीती थी. इसलिए यदि शिवसेना को गैर मराठी वोटरों तक पहुंचना है तो उसे विस्तृत एजेंडे पर काम करना होगा. लिहाजा राम मंदिर ही ऐसा मुद्दा है जो उत्तर भारतीयों और गुजराती वोटरों से जुड़ने सेना की मदद करेगा. बता दें कि मुंबई-ठाणे क्षेत्र में महाराष्ट्रियों के बाद उत्तर भारतीय और गुजराती वोटर सबसे ज्यादा हैं.
अन्य प्रांत लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack