Monday, 19 November 2018  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

राम मंदिर निर्माण पर साक्षी महाराज बोले- 6 दिसंबर से पहले कुछ होना चाहिए

जनता जनार्दन संवाददाता , Nov 06, 2018, 14:07 pm IST
Keywords: Ram Mandir   Ayodhya Dispute   Ayodhya Case   Supreme Court   Demand Ordinance   राम मंदिर निर्माण   साक्षी महाराज   भारतीय जनता पार्टी   2019 लोकसभा चुनाव  
फ़ॉन्ट साइज :
राम मंदिर निर्माण पर साक्षी महाराज बोले- 6 दिसंबर से पहले कुछ होना चाहिए

Desk JJ: भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के सांसद साक्षी महाराज ने एक बार फिर कहा है कि राम मंदिर निर्माण को लेकर अब कोई रास्ता नहीं बचा है. उन्होंने कहा कि साधु-संतों की मांग पर 6 दिसबंर से पहले अयोध्या में कुछ न कुछ होना चाहिए.

साक्षी महाराज ने कहा, 'देश की जनता चाहती है कि अयोध्या में श्रीराम का मंदिर बने. हिंदुस्तान के सारे धर्माचार्य भी कह रहे हैं. सभी लोग आंदोलित हैं. मुझे लगता है कि साधु संन्यासियों ने 6 दिसंबर को एक डेडलाइन तय की है. इसलिए 6 दिसंबर तक कुछ न कुछ होना चाहिए. मंदिर निर्माण शुरू हो, यह सारे देशवासी चाहते हैं. सारे संन्यासी भी चाहते हैं. अगर 6 दिसंबर तक कोई निर्णय नहीं होता, तो साधु संन्यासी देशभर में सम्मेलन करेंगे.'

बीजेपी सांसद साक्षी महाराज ने कहा, 'इलाहाबाद में कुंभ आने वाला है. महाकुंभ में साधु संन्यासियों का बड़ा सम्मेलन होगा. ऐसी स्थिति में राम मंदिर निर्माण के अलावा और कोई रास्ता नहीं दिखता. चाहे सरकार अध्यादेश लेकर आए या बिल. साक्षी महाराज ने सलाह दी कि नरसिम्हा राव सरकार की ओर से अधिग्रहित की गई जमीन राम जन्मभूमि न्यास को देना चाहिए.  उन्होंने कहा, 'मेरा मानना है कि 2019 से पहले प्रभु श्रीराम का मंदिर बनना शुरू हो जाएगा. जब सब लोग चाहते हैं कि अयोध्या में मंदिर बने, तो पूरा विश्वास है 2019 लोकसभा चुनाव से पहले मंदिर निर्माण का काम शुरू हो जाएगा.'

बीजेपी सांसद ने कहा, 'बीजेपी आज भी राम मंदिर के साथ है. जब तक राम मंदिर का निर्माण नहीं हो जाता, बीजेपी राम मंदिर के रास्ते पर ही चलेगी. 2019 चुनाव में जाने से पहले मंदिर का निर्माण शुरू हो जाएगा.

यूपी के मुख्यमंत्री की ओर से जल्द ही खुशखबरी देने की बात पर साक्षी महाराज ने कहा कि लगता है मंदिर निर्माण की कोई तारीख जल्द फिक्स हो जाएगी.

अन्य राज्य लेख
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack