भोपाल में नेताओं के स्वागत में लटकी जूतों की माला

भोपाल में नेताओं के स्वागत में लटकी जूतों की माला भोपाल: आमतौर पर नेताओं के स्वागत में वंदनवार, स्वागत-द्वार और फूल-मालाओं के गजरों का सहारा लिया जाता है, मगर मध्य प्रदेश की राजधानी की एक बस्ती के लोगों ने सड़कों पर जूते-चप्पल की माला लटका रखी है। वे अपनी सड़क संबंधी समस्या का निदान न होने से नेताओं से बेहद खफा हैं और उनका निराले अंदाज में स्वागत कर रहे हैं।

मामला राजधानी के कोलार इलाके की ओम नगर बस्ती का है, यहां की सड़कें मानसून की पहली ही बारिश में कीचड़ से सराबोर हो गई। इससे यहां के निवासियों का गुस्सा सातवें आसमान पर है। यहां के रहवासी विनेाद का कहना है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान राजधानी की सड़कों को अमेरिका से बेहतर बताते हैं, यहां भी आकर कभी देख लें तो पता चल जाएगा कि वास्तव में हाल क्या है।

डी़ बी़ खंडाले कहते हैं कि चुनाव आते हैं, तो नेता वोट मांगने आ जाते हैं, मगर उनकी समस्या पर किसी का ध्यान नहीं है। यही कारण है कि यहां आने वाले नेताओं का स्वागत जूतों की माला से किया जा रहा है। यहां के लोग सालों से अपनी सड़क संबंधी समस्या से तमाम नेताओं का अवगत कराते आ रहे हैं, मगर कोई भी इस तरफ ध्यान नहीं दे रहा है।

सीता देवी तो नेताओं की बात सुनते ही भड़क उठती हैं, उनका कहना है, यहां के रहवासियों ने हर अफसर व नेता के दर पर माथा टेका, पर हालात नहीं सुधरे, तो परेशान होकर उन्होंने जूतों की माला तैयार की है। जैसे ही नेता यहां पर वोट मांगने आएंगे तो उन्हें दिखाएंगे कि स्वागत कैसे होता है!

कांग्रेस नेता राहुल राठौर का कहना है कि चुनाव आने वाले हैं। यहां की जनता को जो परेशानी हो रही है, उसका वह सबक सिखाने में पीछे नहीं रहेंगी।

इस इलाके से भाजपा की पार्षद मन फूल मीणा जनता का गुस्सा जायज मानते हुए कहती हैं कि वे मजबूर हैं, क्योंकि अधिकारी और ठेकदार उनकी सुनते ही नहीं हैं।

बताते चलें कि स्वच्छता सर्वेक्षण में भोपाल को देश में दूसरा स्थान मिला है। इसको लेकर नगर निगम से सरकार तक खूब वाहवाही लूट रही है, मगर ओमनगर निवासियों का हाल देखें तो पता चलेगा कि हकीकत कुछ और है।
अन्य राज्य लेख
वोट दें

क्या 2019 लोकसभा चुनाव में NDA पूर्ण बहुमत से सत्ता में आ सकती है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack