सीआईबीआईएल क्रेडिट स्कोर से तय होगी होम लोन की ईएमआई

सीआईबीआईएल क्रेडिट स्कोर से तय होगी होम लोन की ईएमआई मुंबई: यदि आप भविष्य में होम लोन लेने की तैयारी कर रहे हैं, तो आपको अपनी क्रेडिट रेटिंग पर भी ध्यान रखना होगा. कारण यह कि अब अगर भविष्य में होम लोन लेते हैं, तो आपकी क्रेडिट रेटिंग ही आपके होम लोन और उसकी ईएमआई को निर्धारित करेगी.

यदि आप अपनी क्रेडिट रेंटिंग को इंप्रूव करते हैं, तो आपको कम ईएमआई का भुगतान करना होगा या फिर आपकी ईएमआई कम से कम निर्धारित की जायेगी.

बैंक ऑफ बड़ौदा ने ब्याज दर का किया ऐलान

अभी हाल ही में बैंक ऑफ बड़ौदा ने क्रेडिट रेटिंग्स के आधार पर होम लोन की ब्याज दर तय करने की घोषणा की है. बैंक ऑफ बड़ौदा देश का ऐसा पहला बैंक है, जिसने क्रेडिट रेटिंग्स के आधार पर होम लोन की ब्याज दरों को तय करने का ऐलान किया है.

बैंक ऑफ बड़ौदा की ओर से की गयी घोषणा के अनुसार, क्रेडिट स्कोर की आरंभिक जानकारी के लिए बैंक क्रेडिट इन्फॉर्मेशन ब्यूरो (सीआईबीआईएल) से संपर्क करेगा.

यदि सीआईबीआईएल से मिली जानकारी के अनुसार आपका क्रेडिट स्कोर 760 प्वाइंट है, तो आपके होम लोन पर 8.35 फीसदी ब्याज दर निर्धारित की जायेगी.

बताया यह जा रहा है कि देश के दूसरे बैंक भी बैंक ऑफ बड़ौदा के नियमों के आधार पर ही क्रेडिट रेटिंग्स के अनुसार ब्याज दरों को निर्धारित करेंगे.

इकोनॉमिक टाइम्स की वेबसाइट पर प्रकाशित समाचार के अनुसार, यदि बैंक ऑफ बड़ौदा के ग्राहकों का क्रेडिट स्कोर 725 से 759 प्वाइंट है, तो उसकी ब्याज दर 8.85 फीसदी तय की जायेगी.

वहीं, यदि इस बैंक के किसी ग्राहक का क्रेडिट स्कोर 724 प्वाइंट से नीचे है, तो उसके होम लोन पर ब्याज दर 9.35 फीसदी तय की जायेगी. इसके साथ ही, यदि पहली बार किसी ग्राहक के क्रेडिट स्कोर की जानकारी क्रेडिट इन्फॉर्मेशन ब्यूरो की ओर से नहीं दी जाती है, तो उसके होम लोन पर बैंक की ओर से 8.85 फीसदी ब्याज दर तय की जायेगी.

नाम न छापने के बैंक ऑफ बड़ौदा के अधिकारी ने बताया कि हम बेहतर क्रेडिट रेटिंग्स वाले ग्राहकों को पुरस्कृत करने के लिए बेहतरीन ब्याज दर का ऑफर दे रहे हैं. उनका कहना है कि बैंक की ओर से नयी दरें होम लोन की राशि और उसकी अवधि पर तय की जायेगी.

हालांकि, बैंक ऑफ बड़ौदा की ओर से दिये जाने वाले होम लोन की ब्याज दरें अन्य बैंकों की तुलना में काफी कम 8.35 फीसदी है. वहीं, देश के अन्य बड़े बैंकों में भारतीय स्टेट बैंक और आईसीआईसीआई बैंक की ओर से होम लोन पर कम से कम 8.65 फीसदी से 8.70 फीसदी ब्याज दर ली जा रही है.

बताया यह जा रहा है कि सीआईबीआईएल स्कोर इस बात की ओर इशारा करता है कि ग्राहकों का वित्तीय लेन-देन दुरुस्त रहता है, तो उसके बकाया भुगतान के लिए फिर से दरें तय की जा सकती हैं.

देश के सभी बैंकों की ओर से सीआईबीआईएल के जरिये उनके वित्तीय लेन-देन से संबंधित क्रेडिट रेटिंग्स के आंकड़े जुटाये जा रहे हैं, जिसके आधार पर ग्राहकों का क्रेडिट स्कोर का पता लगाया जा सकेगा.

वहीं, बैंक ऑफ बड़ौदा की ओर से बेहतर रेटिंग वाले ग्राहकों के लिए सालाना आधार पर सीमांत लागत उधारी दर (एमसीएलआर) 8.35 फीसदी तय की गयी है.

हालांकि, बैंक की ओर से अभी तक अच्छी क्रेडिट रेटिंग वाले ग्राहकों के लिए कोई दर तय नहीं की गयी है. यदि भारतीय स्टेट बैंक की ओर से 65 बेसिस प्वाइंट रखा जाता है, तो उसके होम लोन पर सालाना सीमांत लागत उधारी दर 8 फीसदी तय की जा सकती है.

किसी भी व्यक्ति का बेहतर या खराब सिबिल स्कोर पूरी तरह से इस बात पर निर्भर करता है कि व्यक्ति ने अपना पिछला लोन चुकाने में कितना अनुशासन बरता है और हाल ही में लिए गए लोन का रीपेमेंट वह कितने अंतराल पर कर रहा है.

सभी बैंकों को उनके ग्राहकों की लोन हिस्ट्री सिबिल जैसे क्रेडिट इन्फर्मेशन ब्यूरोज को मुहैया करानी होती है. इन्हीं आकंड़ों के आधार पर क्रेडिट स्कोर तैयार होता है.
अन्य निवेश लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack