माता-पिता से मिलने के बाद सीएम खट्टर का ऐलान, सीबीआई करेगी प्रद्युम्न हत्याकांड की जांच

जनता जनार्दन डेस्क , Sep 15, 2017, 18:47 pm IST
Keywords: Pradyumna murder case   Ryan International School   Pradhuman murder case   gururgram student murder   प्रद्युम्न मर्डर केस   रायन इंटरनेशनल स्कूल  
फ़ॉन्ट साइज :
माता-पिता से मिलने के बाद सीएम खट्टर का ऐलान, सीबीआई करेगी प्रद्युम्न हत्याकांड की जांच गुडगांव: प्रद्युम्न हत्याकांड की जांच अब सीबीआई करेगी. सरकार ने इस हत्या की जांच सीबीआई के हवाले करने का मन लिया है. इस बात ऐलान खुद हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने प्रद्युम्न के माता-पिता से मुलाकात करने के बाद किया. यही नहीं गुडगांव का रेयान इंटरनेशनल स्कूल भी तीन माह के लिए सरकार के अधीन रहेगा.

प्रद्युम्न हत्याकांड की जांच को लेकर पहले दिन से ही उसके माता-पिता सीबीआई जांच की मांग कर रहे थे. इस दौरान लगातार इस मामले में नए-नए खुलासे होते रहे. दो दिन पहले ही इस केस की जांच के लिए गठित की गई एसआईटी ने स्कूल सारे स्टाफ से पूछताछ की थी. इसके बाद कल फिर से पूछताछ जारी रही.

इस दौरान शुक्रवार को प्रद्युम्न के माता-पिता ने मुख्यमंत्री खट्टर से मुलाकात कर फिर से सीबीआई जांच की मांग को दोहराया. ठीक इसके बाद मुख्यमंत्री ने इस मामले में सीबीआई जांच का ऐलान कर दिया. उन्होंने बताया कि अगले तीन माह के लिए गुडगांव का रेयान इंटरनेशनल स्कूल सरकार के अधीन रहेगा.

बताते चलें कि शुक्रवार को ही प्रद्युम्न हत्याकांड के आरोपी कंडक्टर अशोक के वकील ने दावा किया कि इस हत्या के मामले में अशोक को फंसाया जा रहा है. इससे पहले भी अशोक की भूमिका को लेकर सवाल उठते रहे हैं. हालांकि ये भी कहा जा सकता है कि अशोक का वकील वही कर रहा है, जो बचाव पक्ष के वकील को करना चाहिए.

प्रद्युम्न की हत्या के बाद बस कंडक्टर अशोक ने पुलिस के सामने अपना गुनाह कबूल किया था. यहां तक उसने आजतक के कैमरे पर भी हत्या की बात कबूल की थी. लेकिन इस मामले में अब नया मोड़ आ गया है. दरअसल, अशोक के वकील मोहित वर्मा ने दावा किया है कि अशोक बेगुनाह है.

बस कंडक्टर अशोक के वकील मोहित वर्मा का कहना है कि अशोक को इस मामले में फंसाया गया है. पुलिस और स्कूल प्रबंधन ने अशोक पर दबाव बनाया और आरोप कबूल करवाने के लिए के पुलिस ने उसे बुरी तरह टार्चर किया. इस खुलासे ने एक बार फिर इस पूरे मामले पर सवालिया निशान लगा दिए हैं.
अन्य विधि एवं न्याय लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack