मून जी-इनः दक्षिण कोरिया चुनाव में ऐतिहासिक जीत की ओर मानवाधिकार कार्यकर्ता

मून जी-इनः दक्षिण कोरिया चुनाव में ऐतिहासिक जीत की ओर मानवाधिकार कार्यकर्ता सोल: पूर्व मानवाधिकार अधिवक्ता एवं वाम की ओर झुकाव रखने वाले मून जी-इन कई माह से हो रहे ओपिनियन पोल में जीत हासिल कर रहे हैं. 'गैल्लप कोरिया सर्वे' ने अंतिम सर्वेक्षण में उन्हें 38 प्रतिशत समर्थन मिला और पूर्व टेक मुगल अहं शियोल-सू को 20 प्रतिशत समर्थन हासिल हुआ.

दक्षिण कोरिया की पूर्व राष्ट्रपति को हटाए, हिरासत में लिए जाने और भ्रष्टाचार का मामला चलाए जाने के बाद आज यहां नए राष्ट्रपति के लिए मतदान हो गए. दक्षिण कोरिया के परमाणु संपन्न उत्तर कोरिया के साथ मौजूदा तनाव की पृष्ठभूमि पर यह चुनाव हुए.

देशभर में स्थानीय समयानुसार छह बजे करीब 1,39,000 मतदान केन्द्र वोटिंग के लिए खोल दिए गए. इस बार यहां भारी मतदान होने की उम्मीद थी. एक्जिट पोल के नतीजे रात आठ बजे मतदान खत्म होने के बाद आने शुरू हो जाएंगे.

मतदाता पार्क के सत्ता के दुरूपयोग एवं कथित रिश्वत लेने के मामले से क्रोधित है, जिससे रोजगार में कमी आई एवं विकास भी धीमा हुआ है.

पार्क की लिबर्टी कोरिया पार्टी के होंग जून-प्यू 13 मजबूत पार्टियों की सूची में 16 प्रतिशत समर्थन के साथ तीसरे स्थान पर रहे.

पश्चिम सोल स्थित मतदान केंद्र पर मून ने अपनी पत्नी के साथ मत डालने के बाद कहा, ‘मैं लोगों की सरकार बदलने की प्रबल इच्छा महसूस कर सकता हूं. हम इसे वास्तविक रूप मत डाल कर ही दें सकते हैं.'
अन्य पूरब लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack