Sunday, 23 January 2022  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

होली का रंग बढ़ाएगी ठंडई की खुशबू

जनता जनार्दन डेस्क , Mar 05, 2015, 12:10 pm IST
Keywords: Holi   Holi Festival   Beverages   Thandai   Water gun   Color   होली   त्योहार   पेय पदार्थ   ठंडई   होली मे ठंडई पिचकारी   रंग   
फ़ॉन्ट साइज :
होली का रंग बढ़ाएगी ठंडई की खुशबू नई दिल्ली: होली के मौके पर यूं तो अब नशे के लिए कई तरह के पेय पदार्थ हैं, लेकिन देश के इस हिस्से में देश के उत्तरी हिस्से की तरह होली बच्चाुओं के लिए एक खेल का एक ब़डा टिकट ही लेकर आता है। भांति-भांति की पिचकारी से भले ही मौसम अपना जो रंग दिखाए यहां शहर के विस्तृत भूभाग में शुक्रवार को होली धूमधाम से होना तय है।

और जब लोग विभिन्न रंगों, ब्रांडों और स्वादों वाले पेय में डुबकी लगाने के लिए जमा होंगे तब बिना नशे का पेय पदार्थो का राजा ठंडई अपने शबाब पर होगा। यह पेय मेबों, केसरिया और चुने हुए मसालों का मिश्रण होता है। इससे इतर भांग का योगदान शहर के पुराने लोगों को अपने बाल खुले रखने में मददगार होगा। लेकिन बदलते समय में ठंडई में बहुत सा बदलाव आ चुका है।

चूंकि त्योहार के रंग में अन्य चीजें भी शामिल हैं तो ठंडई भी अब कई रंगों और प्रकारों में उपलब्ध है। पुराने शहर में ठंडई की पुरानी परंपरा आज भी चलन में है जिसमें ढेर सारा दूध, काली मिर्च का पाउडर, सौंफ, गुलाब, काजू, बादाम और बहुत कुछ रहता है।

नए युग की ठंडई निश्चित रूप से व्यस्त रहने वालों की पहली पसंद है। बाजार में उपलब्ध ठंडई मिश्रण नए स्वादों और खुशबुओं की पेशकश है। इसमें आम इमली, स्ट्राबेरी, नींबू,शाही केव़डा, आम, गुलाब, केसरिया और सूखे बादाम का सीरप आदि होते हैं।

इस बार की होली के लिए अपनी पसंद के ब्रांडों की ठंडई की बोतलें लेने वाले पुलकित टंडन ने बताया, विभिन्न श्रेणी के कई प्रकार हमें बेहतर स्थिति में ला करते हैं। हमारे पास स्वाद भी होता है और हम पुरानी परंपरा के साथ भी जु़डे रहते हैं।

आईटी पेशेवर गौरव सिंह ने होली के लिए ठंडई के बेहतर विकल्प होने के पक्ष में दलील पेश करते हुए कहा, जहां अन्य नशीले पेय हर समय के लिए होते हैं, वहीं ठंडई एक दिन के लिए है और हम पूरी तरह इसका आनंद लेते हैं।
वोट दें

क्या आप कोरोना संकट में केंद्र व राज्य सरकारों की कोशिशों से संतुष्ट हैं?

हां
नहीं
बताना मुश्किल