Friday, 27 November 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
विधि एवं न्याय
मस्जिद इस्लाम का अभिन्न अंग नहीं, अयोध्या विवाद पर उच्चतम न्यायालय; संघ ने किया स्वागत जनता जनार्दन संवाददाता ,  Sep 27, 2018
उच्चतम न्यायालय ने 'मस्जिद इस्लाम का अभिन्न अंग है या नहीं' के बारे में शीर्ष अदालत के 1994 के फैसले को फिर से विचार के लिए पांच सदस्यीय संविधान पीठ के पास भेजने से गुरुवार को इनकार कर दिया। यह मुद्दा अयोध्या भूमि विवाद की सुनवाई के दौरान उठा था। ....  समाचार पढ़ें
व्यभिचार अपराध नहीं, धारा 497 असंवैधानिक करार; उच्चतम न्यायालय ने कहा, महिला पति की संपत्ति नहीं जनता जनार्दन संवाददाता ,  Sep 27, 2018
व्यभिचार को अपराध की श्रेणी से बाहर करते हुए उच्चतम न्यायालय ने गुरुवार को इससे संबंधित भारतीय दंड संहिता की धारा 497 को असंवैधानिक करार देते हुए निरस्त कर दिया और कहा कि यह महिलाओं की व्यक्तिकता को ठेस पहुंचाता है और इस प्रावधान ने महिलाओं को 'पतियों की संपत्ति' बना दिया था। ....  समाचार पढ़ें
आधार योजना संवैधानिक रूप से वैध, पर कई जगह अनिवार्यता गैरजरूरीः उच्चतम न्यायालय जनता जनार्दन संवाददाता ,  Sep 26, 2018
उच्चतम न्यायालय ने अपने फैसले में केन्द्र की महत्वाकांक्षी योजना आधार को संवैधानिक रूप से वैध करार दिया। शीर्ष अदालत ने कहा कि आधार जनहित में बड़ा काम कर रहा है और आधार का मतलब है अनोखा और सर्वश्रेष्ठ होने के मुकाबले अनोखा होना बेहतर है। ....  समाचार पढ़ें
कोरेगांव-भीमा हिंसा मामलाः उच्चतम न्यायालय ने कार्यकर्ताओं की नजरबंदी की अवधि 17 सितंबर तक बढ़ाई जनता जनार्दन संवाददाता ,  Sep 12, 2018
उच्चतम न्यायालय ने कोरेगांव-भीमा हिंसा मामले के संबंध में गिरफ्तार किये गये पांच कार्यकर्ताओं की घरों में नजरबंदी की अवधि बुधवार को 17 सितंबर तक के लिये बढ़ा दी। ....  समाचार पढ़ें
परस्पर सहमति से समलैंगिक यौन संबंध अपराध नहीं: उच्चतम न्यायालय जनता जनार्दन संवाददाता ,  Sep 06, 2018
उच्चतम न्यायालय की पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने गुरूवार को एकमत से 158 साल पुरानी भारतीय दंड संहिता की धारा 377 के उस हिस्से को निरस्त कर दिया जिसके तहत परस्पर सहमति से अप्राकृतिक यौन संबंध बनाना अपराध था। न्यायालय ने कहा कि यह प्रावधान संविधान में प्रदत्त समता के अधिकार का उल्लंघन करता है। ....  समाचार पढ़ें
पुलिस ऐसा कैसे कर सकती है? बंबई उच्च न्यायालय ने अदालती मामले में पत्रकारवार्ता करने पर लगाई लताड़ जनता जनार्दन संवाददाता ,  Sep 03, 2018
'पुलिस ऐसा कैसे कर सकती है? मामला विचाराधीन है. उच्चतम न्यायालय मामले पर विचार कर रहा है. ऐसे में मामले से संबंधित सूचनाओं का खुलासा करना गलत है.' ....  समाचार पढ़ें
भीमा कोरेगांव हिंसा केस: बड़े दावे करने वाली पुना पुलिस को चार्जशीट के लिए चाहिए और 90 दिन जनता जनार्दन संवाददाता ,  Sep 02, 2018
भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में यलगार परिषद की भूमिका की जांच कर रही पुने पुलिस ने देश भर से वामपंथी विचारकों को गिरफ्तार कर अंतरिम ही सही सुप्रीम कोर्ट से मुंह की खाने के बाद अब आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल करने के लिए पुने सेशन कोर्ट से 90 दिन यानी 3 महीने का समय मांगा है, जो उन्हें अदालत से मिल गया है. ....  समाचार पढ़ें
असहमति प्रजातंत्र का सेफ्टीवॉल्व है, अगर आपने रोका तो फटेगा, सर्वोच्च न्यायालय ने वामपंथी विचारकों को जेल भेजने से रोका जनता जनार्दन संवाददाता ,  Aug 29, 2018
सुप्रीम कोर्ट ने आज वामपंथी विचारकों की गिरफ्तारी पर सरकार को जमकर लताड़ लगाते हुए कहा है कि मंगलवार को गिरफ़्तार किए गए पाँच मानवाधिकार कार्यकर्ताओं को फ़िलहाल रिमांड पर नहीं भेजा जाएगा. कोर्ट ने कहा है कि अगली सुनवाई होने तक इन सभी लोगों को घर में नज़रबंद रखा जाए. ....  समाचार पढ़ें
सुप्रीम कोर्ट ने 2007 के भड़काऊ भाषण मामले में पूछा कि योगी पर क्यों न चले मुकदमा? जनता जनार्दन संवाददाता ,  Aug 20, 2018
भड़काऊ भाषण के 11 साल पुराने मामले में इलाहाबाद हाई कोर्ट से राहत पा चुके उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. सुप्रीम कोर्ट ने इस कथित भड़काऊ भाषण के मामले में उत्तर-प्रदेश सरकार को नोटिस जारी किया है और पूछा है कि योगी आदित्यनाथ के खिलाफ केस क्यों न चलाया जाए? ....  समाचार पढ़ें
लेफ्ट, राइट, सेंटर हर जगह रेप हो रहे हैं, देश में ये चल क्या रहा है? नाराज उच्चतम न्यायालय की तल्ख टिप्पणी जनता जनार्दन संवाददाता ,  Aug 07, 2018
उच्चतम न्यायालय ने देश में बलात्कार की बढ़ती घटनाओं पर मंगलवार को गंभीर चिंता व्यक्त की और कहा कि जिधर देखो, उधर ही, महिलाओं का बलात्कार हो रहा है. कोर्ट ने बिहार सरकार को फटकार लगाते हुए कहा, 'लेफ्ट, राइट, सेंटर... हर जगह रेप हो रहे हैं. देश में ये चल क्या रहा है? ....  समाचार पढ़ें
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल