इतने लाख में बिका नमक के दाने से भी छोटा बैग, देखने के लिए चाहिए माइक्रोस्कोप

जनता जनार्दन संवाददाता , Jun 29, 2023, 20:07 pm IST
Keywords: Louis Vuitton   इंटरनेशनल लग्जरी ब्रांड   शॉपिंग का शौक   Microscopic Bag   Smallest Bag   Louis Vuitton News  
फ़ॉन्ट साइज :
इतने लाख में बिका नमक के दाने से भी छोटा बैग, देखने के लिए चाहिए माइक्रोस्कोप शॉपिंग का शौक किसे नहीं होता. अकसर मार्केट में जाकर अलग-अलग स्टाइल के कपड़े, एक्सेसरीज, जूलरी , जूते या पर्स खरीदते हैं. लेकिन ऑनलाइन ऑक्शन में 'एक नमक के दाने से भी छोटा' बैग 51.6 लाख रुपये में बिका है. यह जानकारी CNN ने दी है. पिछले कुछ वक्त से इस छोटे से बैग की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं. यह बैग इतना छोटा है कि इसको देखने के लिए भी माइक्रोस्कोप की जरूरत पड़ती है. वहीं यूजर्स का कहना है कि इस बैग का किस काम में इस्तेमाल किया जाएगा. 


सीएनएन के मुताबिक, पिछले दिनों एक ऑनलाइन ऑक्शन में 'इस नमक के दाने से छोटे बैग'  को 63000 डॉलर (51.6 लाख रुपये) में बेचा गया. इसके साथ डिजिटल डिस्प्ले वाला माइक्रोस्कोप भी बेचा गया है, ताकि खरीदने वाला इसको देख सके. यह फ्लोरोसेंट पील-हरे रंग का है.  इसका साइज  657×222×700 माइक्रोमीटर है.

बैग इतना छोटा है कि किसी सुई के छेद से भी आर-पार हो जाएगा. जून महीने की शुरुआत में जब इस बैग की तस्वीर MSCHF के इंस्टाग्राम अकाउंट से पोस्ट की गई थी, तब यह खूब सुर्खियों में छाया था. इस बैग पर इसे बनाने वाली कंपनी Louis Vuitton का लोगो LV बना हुआ है.

इस बैग का ऑनलाइन ऑक्शन नीलामी घर जूपिटर ने किया था, जिसको अमेरिकी संगीतकार फैरेल विलियम्स ने स्थापित किया था. विलियम्स फिलहाल  Louis Vuitton के मेन्सवियर में क्रिएटिव डायरेक्टर हैं. 

लोगों ने किए ऐसे कमेंट्स

बैग की तस्वीरें सामने आने के बाद यूजर्स ने मजेदार कमेंट्स किए हैं. एक यूजर ने लिखा- आखिर यह बैग किस काम आएगा? दूसरे यूजर ने लिखा- इसको बनाने में कितनी सावधानी बरती गई होगी. जबकि तीसरे ने लिखा- यह हैंडबैग तो चींटी से भी छोटा है. 

बता दें कि Louis Vuitton के के बैग की कीमत ही लाखों रुपये में होती है. यह एक इंटरनेशनल लग्जरी ब्रांड है. नामी सेलिब्रिटी और अमीर लोग ही इस कंपनी के बैग लेना पसंद करते हैं. Louis Vuitoon बैग्स बनाने के मामले में अपने प्रतिद्धंदियों से काफी आगे हैं.  

वोट दें

क्या आप कोरोना संकट में केंद्र व राज्य सरकारों की कोशिशों से संतुष्ट हैं?

हां
नहीं
बताना मुश्किल