कोरोना वाली सोच उसका असर और बचने के उपाय

अनिल कुमार राय , Apr 18, 2020, 10:35 am IST
Keywords: Corona Thoughts   Corona India   Corona   Psycologist   Negaive Thoughts   नियमित नींद लें  
फ़ॉन्ट साइज :
कोरोना वाली सोच उसका असर और बचने के उपाय

हर इंसान को एक सुंदर, परिष्कृत, तेजस्वी और अत्यधिक लचीला दिमाग उपहार में मिला है। यह मन लगातार हर दिन लाखों विचारों को प्राप्त करता है और प्रसारित करता है। हमें विभिन्न प्रकार के विचार मिलते हैं जिनमें प्रेरक, निराशाजनक, हर्षित, शक्तिशाली, दु:खी, चिंतित और बहुत सारे शामिल हैं।

कोरोना सोच / विचार क्या हैं?

हमारे विचारों को स्पष्ट रूप से दो श्रेणियों में वर्गीकृत किया जा सकता है- सकारात्मक विचार और नकारात्मक विचार। सकारात्मक विचार वे हैं जो आपको ऊर्जा, आनंद, खुशी, शक्तिशाली और स्वास्थ्य से भर देते हैं। जबकि नकारात्मक विचार वे हैं जो आपके थकान, निराशा, उदासी, कमजोरी का कारण बन सकते हैं और बीमारी का कारण भी बन सकते हैं। नकारात्मक विचार आपके शरीर के लिए एक वायरस की तरह काम करते हैं और दीर्घकालिक नुकसान का कारण बनते हैं। उन गंभीर नकारात्मक और संक्रामक विचारों को परिभाषित करने का एक और तरीका हो सकता है और मैं उन्हें कोरोना विचारों के रूप में परिभाषित करना चाहूंगा। इन विचारों को आपके आत्म निदान के माध्यम से आसानी से पहचाना जा सकता है।

इनके प्रमुख लक्षण इस प्रकार हैं-


- वे विचार जो आपके अंदर घुटन / सांस लेने की समस्या पैदा कर रहे हैं।
- उन संक्रामक विचारों को जो किसी अन्य व्यक्ति द्वारा पहले साझा किया गया था और अब आपको नकारात्मक भावनाओं का कारण बन रहा है - कभी-कभी तुरंत और कभी-कभी कुछ दिनों के बाद।
- आपने सार्वजनिक स्थानों- मार्केट, पार्क, ऑफिस, बस, ट्रेन, कॉलेज आदि की यात्रा करते हुए उन बातों को सुना / कैप्चर किया -जो आपने सुना, अब उन्हें सोच रहे हैं और उदास, हताशा के मूड में हैं।
- वे विचार जो आपके दिमाग में घूम रहे हैं और आपको कोई दवाई नहीं मिल रही है ताकि आप उनसे छुटकारा पा सकें।

कोरोना वाली सोच उसका असर और बचने के उपाय

कोरोना सोच / विचारों के प्रभाव क्या हैं?

ये विचार एक नकारात्मक ऊर्जा लाते हैं, उनके साथ नकारात्मक कंपन होते हैं। आप जितना उन बातों को सोचते हैं, वे सीधे आपके तंत्रिका तंत्र पर हमला करते हैं जो आपको थका हुआ, निराशाजनक, कमजोर महसूस कराता है और आपको लड़ाई / उड़ान मोड में लाता है। इस मोड के दौरान सिम्पैथेटिक नर्वस सिस्टम (Sympathetic Nervous System) सक्रिय हो जाता है और इससे उच्च रक्त परिसंचरण होता है जिससे उच्च रक्तचाप होता है। यह उच्च बीपी (High Blood Pressure) यहीं नहीं रुकता है और मधुमेह Daibetes), हृदय के मुद्दों, गठिया (arthritis) और थायराइड आदि जैसी विभिन्न अन्य ऑटो प्रतिरक्षा (Auto Immune diseases) उर्फ मनो-दैहिक (Psycho Somatic) बीमारियों को प्रकट / उत्पन्न करना शुरू कर देता है। लगातार नकारात्मक विचारों और शरीर में लंबे समय तक जुड़े कमजोरी के कारण कम मनोबल, अवसाद और कई बार लोग अपने जीवन को समाप्त करने का विचार करते हैं क्योंकि वो मानते हैं की यही एकमात्र हल है, एकमात्र समाधान है।

हम कोरोना विचारों से कैसे छुटकारा पा सकते हैं?

हम सभी ने कोरोना वायरस के लिए सुझाई गई क्रियाओं को देखा, पढ़ा और सुना है। चूंकि ये नकारात्मक विचार घातक वायरस से बहुत अलग नहीं हैं, इसलिए हमें अब उपलब्ध समाधानों पर नए सिरे से विचार करना होगा। ऑटो प्रतिरक्षा मुद्दों के इलाज के लिए अभी तक कोई टीका नहीं है और आत्म-नियंत्रण, खुद को बचाने के लिए सबसे अच्छा तरीका है। इस तरह के विचारों से दूर रहने के लिए आपको अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने के लिए निम्नलिखित उपाय करने होंगे। आइए कोरोना की तरह इन विचारों से दूर रहने के इन 10 प्रमुख उपायों पर नजर डालें-

स्व-अलगाव / मन अपने मूल स्थिति पर

हम सभी अपने मन में ही रहते हैं। हमारा मन शुद्ध विचारों से बना होता है और वो ऐसा ही रहेगा जब तक कि हम उसे बुरी ख़बरों,कर्कश स्थितियों, नकारात्मक भावनाओं से उजागर नहीं करते। अगर हम अपने दिमाग को उसके मूल स्थिति (खुशी, प्यार, देखभाल और हिस्सेदारी, सम्मान) तक ही सीमित रखते हैं, तो यह उन कोरोना विचारों को पीछे हटाने के लिए काफी मजबूत है और उन्हें आपके मस्तिष्क और शरीर में प्रवेश करने की अनुमति नहीं देता है।


सार्वजनिक स्थानों पर ईयर / आई मास्क का उपयोग करें

आपको बहुत सावधान रहने की जरूरत है, जब आप सार्वजनिक स्थानों पर घूमते हैं। आपका दिमाग अल्ट्रा-सक्रिय है और हमेशा सचेत और अनजाने में सब कुछ सीखता रहता है| यह देखने के साथ-साथ सुनता भी रहता है जो भी आपके आस-पास हो रहा है। एक अच्छी बात यह है कि आपका मन हमेशा सीखने के लिए तैयार रहता है। आप अपने दिमाग को कुछ चीजें चुनने और नकारात्मक विचारों को अस्वीकार करने के लिए सिखा सकते हैं। यह मन आपकी आंखों और कानों में उस फिल्टर / मास्क को लगाना सीखता है जो आपको उन वायरल विचारों से बचाता है।

सोशल डिस्टेंसिंग - दूसरों के विचारों को नमस्कार / मदद करें

ऐसे अवसर आते हैं जहां हम किसी और की जिंदगी की समस्यायों में इतने रम जाते हैं और अवांछित मुद्दों को अनुबंधित करते हैं। हम उनकी दयनीय जीवन वाली सोच को जीने लगते हैं जैसे कि यह हमारा अपना है। यह महत्वपूर्ण है कि आप दूसरों की मदद करें लेकिन इसे अपना मुद्दा न बनाएं और इसे अपनी जिंदगी का सक्रिय भाग न बनायें। प्रत्येक चिकित्सक के जीवन की कल्पना करें यदि वह अपने सभी आने वाले रोगियों के रोगों को अपना मान ले और उन्हें उपचार बताने और फॉलोअप के लिए कहने के बजाय उन्हें अपने शरीर पर ले ले और उसे ठीक करने की कोशिश करे। दूसरे के बीमारी ठीक हो न हो , चिकित्सक जरूर गंभीर रूप से बीमार हो जायेगा ।
जागरूक रहें, दूसरे के मुद्दे से सुरक्षित दूरी बनाए रखें, लेकिन यदि आप सक्षम, जानते हैं, तो उन्हें कार्यों को करने का सही तरीका अवश्य बताएं| उनकी मदद करें , लेकिन उचित दुरी बनाये रखें ताकि आपका विचार दूषित न हो | इस बात का हमेशा पालन करें।

नए कौशल बनाने के लिए अपने खाली समय का उपयोग करें

हर किसी के पास कम या ज्यादा खाली समय जरूर होता है और सभी के पास कुछ न कुछ छिपा हुआ कौशल होता है। इसके लिए बस कुछ आत्मनिरीक्षण (Introspection) की आवश्यकता होती है। आत्मनिरीक्षण के लिए कुछ समय दें और सोचें कि क्या आपको किस बात से ज्यादा खुशी मिलती है (पुस्तक पढ़ना, लिखना, कविता, खेल, संगीत, कॉमेडी आदि), आप इसका पता लगा पाएंगे, और फिर आपके नए कौशल का विकास होना शुरू हो जायेगा। कुछ समय तक इस ख़ुशी देने वाली बात को एक बराबर अंतराल पर करते और अपने साथ हो रहे जादू को देखें। आपका जीवन बिलकुल बदल जायेगा और आप एक नयी ऊर्जा, ख़ुशी का अहसास करेंगे। अपना खाली समय सिर्फ टीवी चैनलों को शिफ्ट करने के बीच या उन चीज़ों में बर्बाद होने से रोकें जिसमे आप रुचि नहीं रखते हैं| आप उन
कामों को बंद करें जो सिर्फ दूसरों को खुश करने के लिए करते हैं। आपका समय अपने आप बचने लगेगा।

 

नोट: यदि आपको अपने कौशल विकास के लिए कोई अतिरिक्त समय उपलब्ध नहीं है, तो आपको समय प्रबंधन (Time Management) और काम की प्राथमिकता (Priortisation) पर प्रशिक्षण लेने की आवश्यकता है।

नियमित रूप से योग / प्राणायाम में शामिल हों
योग / प्राणायाम आपके शरीर से विषाक्त पदार्थों, विचारों को बाहर निकालता है। इससे आपको पर्याप्त ऑक्सीजन मिलती है जो आपके अंग की कार्यक्षमता को शुद्ध और संतुलित करती है और आपके नर्वस सिस्टम को को पैरा सिंपैथेटिक (Para Sympathetic) मोड में रखती है। शांत और खुश रहना आपके प्रतिरोधकता स्तर (Immunity Level) को बढ़ाता है और साथ ही उन सभी विचारों को भी छानता है, जो आपको कमजोर बनाते हैं।

नियमित नींद लें


हमारा शरीर ऊर्जा पर चलता है जो सर्वोच्च स्रोत से प्राप्त होता है, वह अनंत ऊर्जा स्रोत है। सोना, एक ऐसा कार्य है जो हमारे शरीर को चार्ज करता है और एटीपी (एडेनोसिन ट्राइ-फॉस्फेट) नामक रसायन बनाता है। यह ऊर्जा का स्तर धीरे-धीरे बिगड़ता है जब आप सोच रहे होते हैं और कुछ नियमित गतिविधियों को करते हैं। एटीपी धीरे-धीरे एडीपी (एडेनोसिन डी-फॉस्फेट) में बदल जाता है और फिर आप थकावट महसूस करते हैं और आपका शरीर रिचार्ज के लिए आराम लेना चाहता है। नकारात्मक विचार इस ऊर्जा को बहुत जल्द निचले स्तर पर ला देते हैं । इसलिए नकारात्मक विचारों में शामिल होने से बचें और पर्याप्त एटीपी होने के लिए एक आवश्यक नींद अनुसूची (Sleeping Schedule) का निर्माण और पालन करें।

जरूरतमंद लोगों की देखभाल


मित्र वही जो मुसीबत में काम आये। आपको जरूरतमंद लोगों की यथासंभव मदद करनी चाहिए और जितनी बार आप कर सकते हैं, उतनी बार करनी चाहिए। दूसरों की मदद करने से आपको खुशी मिलती है और यह कार्य करने से हमारा मन एक सेरोटोनिन (Serotonin) नामक रसायन छोड़ता है जो आपको खुश रखता है और आपको उन नकारात्मक विचारों से बचाता है। स्वास्थ्य कर्मियों के प्रति आभारी रहें आपको उन सभी स्वास्थ्य कर्मचारियों के प्रति आभारी और सम्मानजनक होना चाहिए जो आपके स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए लगातार काम कर रहे हैं। बीमार पड़ने का इंतजार न करें और फिर चेकअप या टेस्ट के लिए डॉक्टर के पास जाएँ। आपको इस लेख में
सुझाई गई गतिविधियों का पालन करके अपने स्वयं के स्वास्थ्य का ध्यान रखना चाहिए। यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने मन में किसी भी संघर्ष / भ्रम की स्थिति में परामर्शदाताओं (Counsellors) / मनोवैज्ञानिकों (Psychologists) से मिलें जो आपको बीमार पड़ने से दूर रहने में मदद कर सकते हैं।

 

किसी से लड़ाई / परेशानी न करें
अपने पड़ोसी से प्यार करो। अपने साथियों से प्यार करो। अपने सम्बन्धियों को प्यार करो। अपने परिवार से प्यार करो। छोटी-छोटी बातों, मामलों के लिए लड़ाई न करें। लड़ाई आपको कमजोर बनाती है और यह आपके प्रतिरक्षा स्तर (Immunity Level) को नीचे लाता है। लड़ाई आपको उस कोरोना की तरह विचारों से प्रेरित करती है और आपके स्वास्थ्य को प्रभावित करती है। प्यार का एहसास बहुत शक्तिशाली है और यह निश्चित रूप से आपको स्वस्थ और खुश रखने में मदद करता है। इसको अक्सर करते रहें, जब-जब अवसर तब-तब करें।

सर्वशक्तिमान / सर्वोच्च सत्ता में विश्वास


कोरोना वायरस ने हमें कई सबक सिखाए हैं और एक प्रमुख सबक है कि हर बीमारी की दवाई नहीं होती है। ऐसे ही नकारात्मक सोच से होने वाली बिमारियों की कोई दवाई नहीं है । इससे बचना ही सर्वोत्तम इलाज है । यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने मन में किसी भी संघर्ष / भ्रम की स्थिति में परामर्शदाताओं (Counsellors) / मनोवैज्ञानिकों (Psychologists) से मिलें जो आपको बीमार पड़ने से दूर रहने में मदद कर सकते हैं। यह हमेशा से सच है कि रोकथाम इलाज से बेहतर है और रोकथाम केवल तभी संभव है जब आप अपने विश्वास को उस सर्वोच्च शक्ति में बनाए रखें जिसमें आप विश्वास करते हैं। यह सर्वोच्च शक्ति, प्रकृति हमें समय-समय पर दिखाती है कि अगर हम इसके खिलाफ जाते हैं तो हमारे आविष्कार का कोई फायदा नहीं हो सकता है। जागरूक रहें और हमेशा तैयार रहें।
तो, याद रखें कि नकारात्मक विचार भी एक खतरनाक विचार की तरह ही हैं जो आपके प्रतिरक्षा स्तर को नीचे लाता है और आपको समय के साथ उदास और बीमार बनाता है। जागरूक रहें, ध्यान रखें और स्वाभाविक रूप से स्वस्थ और खुश रहें।

वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack