Tuesday, 17 September 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

केवल 8 खरबपतियों के पास आधी दुनिया की दौलत, भारत के 1% के पास देश की 58% संपत्ति: ऑक्सफैम

केवल 8 खरबपतियों के पास आधी दुनिया की दौलत, भारत के 1% के पास देश की 58% संपत्ति: ऑक्सफैम दावोस: ह्यूमन राइट्स ग्रुप की नई रिपोर्ट में आय में असमानता को लेकर चिंता जताई गई है. रिपोर्ट के मुताबिक, भारत के महज 1% लोगों के पास देश की 58% वेल्थ है. वहीं, दुनिया की आधी आबादी (करीब 3.6 अरब लोग) के बराबर संपत्ति दुनिया के सिर्फ 8 लोगों के पास है.

बता दें कि पिछले साल ऑक्सफैम की रिपोर्ट में कहा गया था कि 62 लोगों के पास दुनिया की आधी आबादी के बराबर वेल्थ है. ये रिपोर्ट उस वक्त आई है जब मंगलवार से वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (WEF) की मीटिंग होने वाली है.

आठ लोगों के पास उतनी संपत्ति है जितनी दुनिया की आधी आबादी के पास है. ऑक्सफैम ने सोमवार को एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी। खास बात यह है कि ये सभी आठों व्यक्ति पुरुष हैं. जिन आठ उद्योगपतियों का जिक्र ऑक्सफेम ने किया है उनमें अमेरिका के छह, स्पेन और मेक्सिको के एक-एक उद्योगपति शामिल हैं.

वर्ल्ड इकॉनमिक फोरम की सालाना मीटिंग के पहले ऑक्सफेम ने कहा कि धन की खाई पहले से कहीं ज्यादा व्यापक हुई है. भारत और चीन के नए आंकड़ों पर गौर करें तो पता चलता है कि दुनिया के आधे गरीब पहले से और गरीब हुए हैं.

ऑक्सफैम ने इसे अशुभ बताते हुए कहा कि अगर यह डेटा थोड़ा पहले मिल जाता तो पता चलता कि 2016 में इतनी ही संपत्ति नौ लोगों के पास होती. 2010 में 43 लोगों के पास दुनिया के आधे लोगों के बराबर संपत्ति हुआ करती थी.

उद्योगपतियों का चयन फोर्ब्स की अरबपतियों की सूची से किया गया है, जिनमें माइक्रोसॉफ्ट के फाउंडर बिल गेट्स, फेसबुक के को-फाउंडर मार्क जकरबर्ग और ऐमजॉन के फाउंडर जेफ बेजोज शामिल हैं.

ऑक्सफेम ने दुनिया में अमीर और गरीबों के बीच के व्यापक अंतर और मुख्यधारा की राजनीति में उत्पन्न हो रहे असंतोष को रेखांकित किया है.

इस सूची में माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स करीब 5 लाख करोड़ रुपए की संपत्ति के साथ शीर्ष पर हैं. उनके बाद अमांसियो ऑर्तेगा (करीब 4.5 लाख करोड़ रुपए), वॉरेन बफेट (करीब 4.14 लाख करोड़ रुपए) का नंबर आता है. चौथे नंबर पर 3.6 लाख करोड़ के साथ मैक्सिकन कारोबारी कार्रोस स्लिम, पांचवें पर जेफ बेजोस (3 लाख करोड़), उसके बाद फेसबुक के संस्थापक और सीईओ मार्क जकरबर्ग (2.95 लाख करोड़ रुपए), लैरी एलिसन, ओरेकल कॉर्प (2.9 लाख करोड़ रुपए), माइकल ब्लूमबर्ग (2.7 लाख करोड़) का नाम आता है.

अपनी एक नई रिपोर्ट 'ऐन इकॉनमी फॉर द 99 पर्सेंट' में ऑक्सफैम ने कहा, 'ब्रेक्जिट से लेकर डॉनल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति बनने की सफलता तक, नस्लवाद में वृद्धि और मुख्यधारा की राजनीति में अस्पष्टता से चिंता बढ़ रही है. वहीं संपन्न देशों में अधिक से अधिक लोगों में यथा स्थिति बर्दाशत न करने के संकेत भी अधिक दिख रहे हैं.

देश के 57 अरबपतियों के पास 70% आबादी के बराबर वेल्थ...

- रिपोर्ट के मुताबिक, भारत के 57 खरबपतियों के पास 14 लाख 72 हजार करोड़ रु. (21 हजार 600 करोड़ डॉलर) संपत्ति है. इतनी वेल्थ देश की 70 फीसदी आबादी के पास है.
- 'भारत के 84 अरबतियों के पास 16 लाख 90 हजार करोड़ रु. (248 बिलियन डॉलर) की संपत्ति है. इनमें 19.3 बिलियन डॉलर की वेल्थ के साथ मुकेश अंबानी टॉप पर हैं.'
- '16.7 बिलियन डॉलर की संपत्ति के साथ दिलीप सांघवी दूसरे नंबर पर और 15 बिलियन डॉलर की संपत्ति के साथ अजीम प्रेमजी तीसरे नंबर पर हैं.'
- 'भारत की कुल वेल्थ 3.1 ट्रिलियन डॉलर है.'
- 3.6 अरब लोगों के बराबर संपत्ति जिन 8 लोगों के पास है, उनमें अमेरिका के 6, एक स्पैनिश और एक मेक्सिको का बिजनेसमैन शामिल है.

8 बिजनेसमैन जिनकी वेल्थ आधी दुनिया की आबादी के बराबर
- बिल गेट्स: माइक्रोसॉफ्ट के फाउंडर बिल गेट्स
- मार्क जुकरबर्ग: फेसबुक के को-फाउंडर
- जेफ बेजोस: ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन के फाउंडर
- वॉरेन बफे: इन्वेस्टर
- अमेंसियो ओर्टेगा: इंडिटेक्स के फाउंडर
- कार्लोस स्लिम: मेक्सिको के बिजनेसमैन
- लैरी एलीसन: ओरैकल के फाउंडर
- माइकल ब्लूमबर्ग: न्यूयॉर्क के पूर्व मेयर

रिपोर्ट में और क्या
- ऑक्सफैम के मुताबिक, "ब्रिटेन के यूरोपीय यूनियन से अलग होने (ब्रैग्जिट) से लेकर डोनाल्ड ट्रम्प के यूएस प्रेसिडेंशियल इलेक्शन में जीतने तक रेसिज्म को लेकर चिंता बढ़ रही है."
- "दुनियाभर में मजदूर जहां मामूली तनख्वाह को लेकर मशक्कत कर रहे हैं, वहीं 'सुपर रिच' लोगों की संपत्ति में 2009 से हर साल करीब 11% का इजाफा हो रहा है."
- "लोगों में मेनस्ट्रीम पॉलिटिक्स को लेकर एक भ्रम की स्थिति है. अमीर देशों में ज्यादातर लोग अब अपने स्टेटस को बरकरार रखने की हालत में नहीं हैं."

'भारत-चीन तेजी से बढ़ रहे हैं'
- रिपोर्ट के मुताबिक, "भारत और चीन में संपत्ति के बंटवारे में काफी बदलाव आए हैं."
- एक साल पहले की रिपोर्ट में कहा गया था कि दुनिया की संपत्ति 62 लोगों के पास है.
- रिपोर्ट ये भी कहा गया है कि अमीर लोगों और संस्थाओं पर ज्यादा टैक्स लगाया जाए.
- बता दें कि रिपोर्ट उस वक्त आई है, जब दावोस में 17 जनवरी से वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की एनुअल मीटिंग शुरू हो रही है. इसमें असमानता के मुद्दे पर ही चर्चा होनी है. मीटिंग में करीब 3 हजार लोग शामिल होंगे.
अन्य उद्योग घरानें लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack