गुवाहाटी में प्रधान एयरलाइन हब बनने की क्षमता: स्पाइसजेट मुखिया अजय सिंह

गुवाहाटी में प्रधान एयरलाइन हब बनने की क्षमता: स्पाइसजेट मुखिया अजय सिंह नई दिल्लीः स्पाइस जेट के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक अजय सिंह का कहना है कि राज्य सरकार के सहयोग से भारत के पूर्वोत्तर के प्रवेश द्वार और असम के प्रमुख शहर गुवाहाटी में प्रमुख एयरलाइन हब बनने की क्षमता है।

सिंह का मानना है कि पूर्वोत्तर की सामरिक स्थिति की वजह से यह एक महत्वपूर्ण एयरलाइन कार्गो हब बन सकता है। इससे सैकड़ों नौकरियां पैदा होंगी।

सिंह ने देर शाम शनिवार को एक संगोष्ठी ‘असम ट्राइलेमा : क्रिएट जॉब्स, इनहांस स्किल, प्रमोट इंटरप्रिन्योरशिप’ में कहा कि पूर्वोत्तर को एक कार्गो हब बनाया जा सकता है, यदि सरकार के समर्थन से एक प्रशिक्षण संस्थान शुरू किया जाए तो इससे सैकड़ों नौकरियां पैदा होंगी।

इस संगोष्ठी का आयोजन दिल्ली एल्यूमनी एसोसिएशन, असम के एक समूह ने किया था। इस समूह में राज्य के विभिन्न व्यवसायों के लोग शामिल हैं जो राष्ट्रीय राजधानी में एक छात्र के रूप में रह चुके हैं।

सिंह ने कहा कि नौकरियां तब पैदा हो सकेंगी जब जीडीपी बढ़ेगी और परिवहन संपर्क इस तरह की वृद्धि का प्रमुख स्रोत होगा। उन्होंने कहा कि इलाके में पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं।

सिंह ने कहा कि स्पाइसजेट में पूर्वोत्तर के बहुत से कर्मचारी हैं। उन्होंने इलाके के लोग साहसिक एवं विनम्र होते हैं।

हालांकि गुवाहाटी के देश के सबसे व्यस्त हवाईअड्डों में से एक है। सिंह का मानना है कि यह समय असम के दूसरे हवाईअड्डों जोरहाट और लखीमपुर की तरफ देखने की जरूरत है।

सिंह ने आईएएनएस से बातचीत करते हुए कहा कि उनकी कंपनी असम सरकार से गुवाहाटी को स्पाइसजेट के हब बनाने के बारे में बात कर रही है।

उन्होंने दो बातों पर जोर दिया। पहली अपनी एयरलाइन के लिए लोकप्रिय गोपीनाथ बोरदोलोई (एलजीबी) अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे गुवाहाटी पर एक हैंगर प्रदान करने और विमानन ईंघन पर बिक्री कर कम करने की बात कही।

सिंह ने कहा कि यदि स्पाइसजेट को हैंगर मिलता है तो यह अपने विमानों को यहां रात भर रोक सकेगी और गुवाहाटी से सुबह भारत के दूसरे प्रमुख शहरों के लिए पहली उड़ान भर सकेगी।

उन्होंने कहा, “हमारी कोलकाता से गुवाहाटी और सिलचर के लिए उड़ानें है और हम अब जोरहाट और लखीमपुर के लिए उड़ानों के लिए सोच रहे हैं।”

असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल के व्यापार के प्रति सकारात्मक रुख की बात करते हुए सिंह ने कहा कि यदि सरकार विमानन ईंधन पर बिक्री कर कम करती है तो स्पाइसजेट गुवाहाटी को अपना एक केंद्र बनाएगा।

केंद्र के एक्ट ईस्ट पर जोर देने से दक्षिणपूर्व एशिया से भी संपर्क बहाल हो सकेगा।

भारत म्यांमार और थाईलैंड के साथ त्रिपक्षीय राजमार्ग पर कार्य चल रहा है, सिंह ने कहा कि इस तरह की बुनियादी परियोजनाओं को पूरा होने में समय लगता है। लेकिन यदि गुवाहाटी को एक एयरलाइन हब बना दिया जाए तो दक्षिणपूर्व एशिया से उड़ानें कल ही शुरू हो सकती हैं।

स्पाइस जेट ने शुक्रवार को साल 2016-17 की अपनी दूसरी तिमाही में शुद्ध लाभ में 103 प्रतिशत की वृद्धि की सूचना दी थी।
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack