Sunday, 20 September 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

डॉ.लोहिया ने मानव स्वतंत्रता व न्याय के लिए संघर्ष कियाः उपराष्ट्रपति अंसारी

डॉ.लोहिया ने मानव स्वतंत्रता व न्याय के लिए संघर्ष कियाः उपराष्ट्रपति अंसारी ग्वालियर: डॉ. लोहिया एक आदर्शवादी व्यक्ति थे और उन्होंने महात्मा गांधी ने सपने, पंडित नेहरू ने इच्छा और सुभाषचंद्र बोस ने उनके कार्य का प्रतिनिधित्व किया। यही नहीं उन्होंने हमेशा मानव स्वतंत्रता, न्याय और गरिमा से जुड़े मामलों के लिए संघर्ष भी किया ।

यह बात उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने ग्वालियर की आटीएम यूनीवर्सिटी में डॉ. राम मनोहर लोहिया स्मृति राष्ट्रीय व्याख्यान में कही।

उन्होंने कहा कि डॉ. लोहिया ने प्रजातंत्र को जिंदा रखने के लिए एक राजनीतिक दल के एकाधिकार को चुनौती दी। उन्होंने कहा कि किसी का प्रतिरोध करना लोकतांत्रिक अधिकार में शामिल है। उपराष्ट्रपति ने अलबर्ट आइंस्टाइन की बात कहते हुए कहा कि , सत्ता के प्रति अंधविश्वास, सच का सबसे बड़ा शत्रु है।

उपराष्ट्रपति के मुताबिक कोई भी विशेषण राम मनोहर लोहिया का पूरी तरह से निरूपण नहीं कर सकता। लोहिया उन गिने-चुने लोगों में से थे, जिन्होंने समाजवाद की विचारधारा को यूरोप से गैर यूरोपीय क्षेत्रों तक स्थानांतरित करने के लिए संघर्ष किया।

जाति व्यवस्था और भारतीय जन मानस को इसके फलस्वरूप होने वाले नुकसान के प्रति उनका स्पष्ट दृष्टिकोण था। यही कारण था कि उन्होंने प्रत्यक्ष जनभागीदारी के विकल्प के साथ-साथ उन्होंने इसकी वकालत की।

राज्यपाल यादव ने भी दिया भाषण
इस मौके पर मप्र के राज्यपाल रामनरेश यादव ने कहा कि डॉ. लोहिया राष्ट्रीयता के प्रबल पुजारी थे। उनके विचारों को आत्मसात करने की भी जरूरत है। उनके विचारों पर चलने से आतंकवाद, हिंसा, अनैतिकता व नक्सलवाद पर प्रभावी अंकुश लगेगा। राज्यपाल ने कहा आईटीएम यूनिवर्सिटी ने डॉ. लोहिया के विचारों को याद करने के लिये सराहनीय पहल की है।

सांसद एवं समाजवादी विचारक केसी त्यागी ने बताया कि डॉ. लोहिया ने सही मायने में गांधी जी के दर्शन को ऊँचाईयाँ प्रदान कीं। सांसद डीपी त्रिपाठी ने उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी के जीवन से जुड़े अनछुए पहलुओं पर प्रकाश डाला।

अंत में आईटीएम यूनिवर्सिटी के कुलाधिपति रमाशंकर सिंह ने कहा कि डॉ. लोहिया के विचार आज भी प्रासंगिक हैं। नई पीढ़ी इसे समझे और उस पर अमल करे। इसी मकसद से यह व्याख्यान माला आयोजित की गई।यूनीवर्सिटी कैंपस में उपराष्ट्रपति अंसारी ने गांधी प्रतिमा का अनावरण भी किया।
अन्य शिक्षा लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack