Saturday, 28 March 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

पैसे नहीं हैं,कैसे दूं सैलरी: विजय माल्या

पैसे नहीं हैं,कैसे दूं सैलरी: विजय माल्या मुंबई: किंगफिशर एयरलाइंस के चेयरमैन विजय माल्या ने कर्मचारियों को बकाया वेतन देने से साफ इन्कार कर दिया है। उन्होंने दो टूक कहा है कि उनके पास वेतन देने के लिए पैसे नहीं हैं। अब तक वे कर्मचारियों को उनके पूरे बकाये का भुगतान करने का आश्वासन देते रहे हैं।

किंगफिशर कर्मचारियों का पिछले साल अगस्त से ही वेतन बकाया है। वहीं, एयरलाइंस की उड़ानें अक्टूबर 2012 से ही ठप है। इसका लाइसेंस भी दिसंबर में समाप्त हो चुका है।

माल्या ने कर्मचारियों को कहा कि मेरे पास आपके वेतन का बकाया चुकाने के लिए पैसे नहीं है। ऐसे में कर्नाटक हाईकोर्ट द्वारा रोक लगाने की वजह से वेतन का भुगतान यूनाइटेड स्पिरिट्स और डियाजियो डील के माध्यम से भी नहीं किया जा सकता।

गौरतलब है कि वित्तीय संकट के चलते परिचालन बंद कर चुकी एयरलाइंस पर कर्मचारियों के वेतन का भारी बकाया है। इसके चलते गुरुवार से ये कर्मचारी किंगफिशर हाउस पर भूख हड़ताल पर बैठ गए हैं।

माल्या ने कर्मचारियों से कहा कि कंपनी के चीफ एक्जीक्यूटिव संजय अग्रवाल उनके साथ मीटिंग करेंगे। हालांकि इस पर कर्मचारियों का कहना है कि उनकी माल्या के साथ इस मसले पर पहले भी बैठक हो चुकी है पर इससे कोई समाधान नहीं निकला । ऐसे में वे अपनी भूख हड़ताल जारी रखेंगे।

दरअसल पिछले साल माल्या ने ब्रिटेन की लिकर दिग्गज डियाजियो के साथ यूनाइटेड स्पिरिट्स की 53.4 फीसदी हिस्सेदारी बेचने की डील की। यह सौदा 11,166 करोड़ रुपये में किया गया। ऐसे में किंगफिशर के कर्मचारियों को उम्मीद थी कि उन्हें इस डील से फायदा मिलेगा और उनके बकाये का भुगतान कर दिया जाएगा।

उनके इस रुख से अब इस बात की संभावना बढ़ गई है कि वे जल्द ही कंपनी बंद करने तक की घोषणा कर सकते हैं। किंगफिशर ने फिर से परिचालन शुरू करने के लिए विमानन नियामक डीजीसीए को पुनरुद्धार योजना सौंप रखी है।

मगर डीजीसीए ने साफ कह दिया है कि कर्मचारियों सहित दूसरी कंपनियों का बकाया चुकाए बगैर उड़ान की अनुमति नहीं दी जाएगी। ऐसे में भुगतान से इन्कार का फैसला स्थायी तालाबंदी का संकेत हो सकता है।

बकाया वेतन भुगतान की मांग को लेकर एयरलाइंस कर्मचारियों ने गुरुवार से भूख हड़ताल शुरू की है। करीब 70 कर्मचारी भूख हड़ताल पर बैठे हैं। बाकी उनका समर्थन कर रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक उनकी मांगे मानने के उलट माल्या ने कह दिया है कि बकाया देने के लिए उनके पास पैसे नहीं हैं।

उन्होंने एयरलाइंस के सीईओ संजय अग्रवाल द्वारा बुलाई गई एक बैठक में कर्मचारियों से यह बात कही। हालांकि, कर्मचारियों का कहना है कि माल्या के साथ हुई बैठक का कोई परिणाम नहीं निकला है। उनकी भूख हड़ताल जारी रहेगी।

इससे पहले उन्होंने आश्वासन दिया था कि डियाजियो सौदे से मिलने वाली राशि से बकाया भुगतान किया जाएगा। नवंबर में माल्या ने ब्रिटिश शराब कंपनी डियाजियो को यूनाइटेड स्प्रिट्स की 53.4 फीसद हिस्सेदारी बेचने के सौदे पर हस्ताक्षर किए थे।

यह सौदा 11,166 करोड़ रुपये में तय हुआ है। सौदे के तहत माल्या भी यूनाइटेड स्प्रिट्स में अपनी 19.3 फीसद हिस्सेदारी डियाजियो को बेचेंगे। इससे उन्हें 5,742 करोड़ रुपये की रकम हासिल होगी। मगर कर्नाटक हाई कोर्ट ने इस सौदे पर रोक लगा दी है।
अन्य उद्योग & कंपनी लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack