Wednesday, 20 November 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
स्थान
वाह रे हमारा भारत महान! एसी बार में शराब पीएं या गुरू से पढ़ें ट्यूशन, टैक्स बराबर जनता जनार्दन डेस्क ,  Nov 03, 2017
देश की कर व्यवस्था सवालों के घेरे में है, क्योंकि वातानुकूलित रेस्टोरेंट में खाना खाएं और चाहे अपना भविष्य संवारने के लिए छात्र प्राइवेट कोचिंग या ट्यूशन पढ़ें, दोनों पर लगने वाला केंद्रीय सेवा कर (सर्विस टैक्स) अब जीएसटी जैसा है. शराब के जीएसटी से बाहर होने पर राज्य सरकारें लगभग 18 फीसदी कर वैट के जरिए वसूल रही हैं. ....  लेख पढ़ें
सोनपुरः दुनिया के सबसे बड़े पशु मेले में इस साल नहीं चहकेंगी चिड़ियां जनता जनार्दन डेस्क ,  Nov 01, 2017
बिहार के विश्व प्रसिद्ध हरिहर क्षेत्र सोनपुर मेले में इस बार आने वाले लोगों को न ही चिड़ियों की चहचहाहट सुनाई देगी और न ही खरीदार देश-विदेश की चिड़ियों को ही खरीद सकेंगे। यही नहीं, इस वर्ष हाथी दौड़ प्रतियोगिता भी नहीं होगी। हाथी केवल सांस्कृतिक कार्यक्रमों में ही दिखाई देंगे। न्यायालय के आदेश पर प्रशासन ने सोनपुर मेले में आकर्षण का केंद्र 'चिड़िया बाजार' पर रोक लगा दी गई है। सोनपुर में लगने वाला पशु मेला इस बार दो नवंबर से शुरू हो रहा है। ....  लेख पढ़ें
नोटबंदी के असर से अभी भी उबर नहीं पाए हैं पंजाब के किसान जयदीप सरीन ,  Oct 31, 2017
'हरित क्रांति' का नुमाइंदा कृषि प्रधान राज्य पंजाब अभी भी नोटबंदी के असर से उबर नहीं सका है। नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा यह घोषणा अचानक की गई थी और पंजाब एवं इसके पड़ोसी राज्य हरियाणा में किसानों के लिए यह सबसे बुरा दौर था, क्योंकि उस समय धान की खरीद चरम पर थी। किसान समुदाय के 20,000 करोड़ रुपये से ज्यादा के लेन-देन किए जाने थे। ....  लेख पढ़ें
मधुबनी स्टेशन की पहचान बनेगी 'पेंटिंग' जनता जनार्दन डेस्क ,  Oct 08, 2017
अगर आप बिहार के मधुबनी रेलवे स्टेशन पर आने वाले हैं, तो आपको यहां का नजारा बदला बदला सा नजर आने वाला है। लोक चित्रकारी के लिए विख्यात मधुबनी का रेलवे स्टेशन आपको न केवल मधुबनी पेंटिंग के लिए आकर्षित करेगा, बल्कि इन पेंटिंग के जरिए आप इस क्षेत्र की पुरानी कहानियों और स्थानीय सामाजिक सरोकारों से भी रूबरू हो सकेंगे। ....  लेख पढ़ें
15 अगस्त का दिन कहता आजादी अभी अधूरी है जनता जनार्दन डेस्क ,  Aug 15, 2017
देश के पूर्व प्रधानमंत्री और मध्य प्रदेश के ग्वालियर से नाता रखने वाले अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा आजादी के एक दिन पूर्व अर्थात 14 अगस्त, 1947 को लिखी कविता '15 अगस्त का दिन कहता आजादी अभी अधूरी है' आज भी उतनी ही प्रासांगिक है, जितनी तब रही होगी। ऐसा इसलिए, क्योंकि खेतों में हल में बैल की जगह किसान जुतने को मजबूर हैं। ....  लेख पढ़ें
...और तोड़ दिया गया गांधी का 'दूसरा राजघाट' जनता जनार्दन डेस्क ,  Jul 30, 2017
मध्यप्रदेश में नर्मदा तट पर स्थित महात्मा गांधी का दूसरा राजघाट गुरुवार को मिट्टी में मिल गया। यहां लोग सत्य, अहिंसा और शांति की प्रेरणा लेने आते थे। ऐसे गांधीवादियों को कुछ दिन बाद वहां सिर्फ पानी ही पानी नजर आएगा। प्रशासन ने दूसरे स्थान पर गांधी स्मारक बनाने के मकसद से इस राजघाट के अवशेषों को सुरक्षित निकाल लिया है। ....  लेख पढ़ें
राम नाथ कोविन्द, और भारत के राष्ट्रपति के रूप में उनके पहले भाषण का मूल पाठ जनता जनार्दन संवाददाता ,  Jul 25, 2017
एक वकील, अनुभवी राजनीतिक प्रतिनिधि तथा भारतीय सार्वजनिक जीवन और समाज के समतावाद और एकता के लंबे समय से समर्थक व्यक्ति श्री राम नाथ कोविंद का जन्म 1 अक्तूबर, 1945 में कानपुर के निकट, उत्तर प्रदेश के परौंख गांव में हुआ था। उनके पिता श्री मैकू लाल और माता श्रीमती कलावती थी। ....  लेख पढ़ें
तो गांधी-कस्तूरबा की धरोहर भी नर्मदा में विसर्जित हो जाएगी! जनता जनार्दन डेस्क ,  Jul 09, 2017
राजघाट का जिक्र आते ही नई दिल्ली की राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की समाधि की तस्वीर आंखों के सामने उभर आती है, मगर देश में एक और राजघाट है, जो मध्यप्रदेश के बड़वानी जिले में नर्मदा नदी के तट पर है। यहां बनाई गई समाधि में महात्मा गांधी ही नहीं, कस्तूरबा गांधी और उनके सचिव रहे महादेव देसाई की देह-राख रखी हुई है। ....  लेख पढ़ें
आपन चंदौली ! जहाँ क बोली ह भोजपुरी अमिय पाण्डेय ,  Jul 06, 2017
उत्तरप्रदेश का पूर्वी छोर और बिहार का पड़ोसी जिला चंदौली की एक परिचय आपकी अपनी आपने तेजी से हमे पढ़ा, और अपना प्यार दिया आप पाठको का जनता जनार्दन मीडिया परिवार की तरफ से दिल से सुक्रिया,आप पाठकों के लिए जुलाई के अपने अंक में मै लिख रहा हूँ आपन चंदौली जहाँ क बोली ह भोजपुरी उम्मीद है आपको यह लेख बहुत पसंद आएगा खासकर ....  लेख पढ़ें
बिहार के किसानों को इंद्र देवता की मेहरबानी का इंतजार जनता जनार्दन डेस्क ,  Jul 05, 2017
वे अकेले नहीं हैं। बिहार में हजारों-लाखों किसानों की निगाहें बीते एक हफ्ते से आसमान पर टिकी हुईं हैं। बादल आते तो हैं, लेकिन एक-आध बूंद टपका कर चले जाते हैं। बिहार में मानसून के पहुंचने की तारीख आम तौर से 12 से 14 जून के बीच मानी जाती है। ....  लेख पढ़ें
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल