Sunday, 24 October 2021  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
समाज
खतरों से भरी है सबसे अमीर जेफ बेजोस की स्पेस यात्रा, जो कहते हैं- धरती को अंतरिक्ष से देखना, आपको बदल देता है ऋचा पांडेय ,  Jun 13, 2021
दुनिया में अपनी तरह के वे अकेले हैं. व्यावसाय हो या अमीरी, जिसे सोचते हैं अंजाम देते हैं. धरती के सबसे अमीर अरबपति और ऐमजॉन कंपनी सीईओ जेफ बेजोस ने अपने बचपन के सपने को साकार करने के लिए अंतरिक्ष की यात्रा पर रवाना होने जा रहे हैं, जबकि इसमें खतरा बहुत है. ....  लेख पढ़ें
इंटरनेशनल टी डे मनाएं या नहीं, पर जान लें ग्रीन टी के फायदे भी, नुकसान भी जनता जनार्दन डेस्क ,  May 21, 2021
चाय को लेकर जितने मुंह उतनी बात होती है, कुछ लोग आज इंटरनेशनल टी डे भी मना रहे हैं, पर ग्रीन टी को सेहत के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है. ....  लेख पढ़ें
समर स्किन केयर टिप्स इस सीज़न में ज़रूर अपनाएं जनता जनार्दन संवाददाता ,  Mar 17, 2021
अगर आप वर्किंअग वुमन हैं तो आपके पास घर से बाहर निकलने के अलावा कोई चारा नहीं होता. बाहर निकलने का मतलब है धूप, धूल और गर्मी से सामना होना. प्रदूषण और सूरज की तीक्ष्ण किरणें आपकी त्वचा की कड़ी परीक्षा लेने के लिए तैयार होती हैं. आप इन परिस्थितियों से तो समझौता नहीं कर सकते, इसलिए आपकी त्वचा को अतिरिक्त देखभाल की ज़रूरत होगी. ....  लेख पढ़ें
जीना है तो सोचें अवश्य: रोशनी के पहियों पर हमने रख दिया अँधेरे का रथ!  त्रिभुवन ,  Jun 24, 2020
न दिनों दुनिया भर के अख़बार हर मोबाइल में घूम रहे हैं। ऐसा लग रहा है कि हर देश कलह, वेदना, आँसू और असंतोष के अनचीन्हे रास्तों पर है। हर देश अपने भीतर एक अघोषित गृहयुद्ध युद्ध लड़ रहा है। अख़बार में, रेडियो पर, वेबसाइट्स पर, मोबाइल फोन्स पर, ट्विटर, फेसबुक और इन्स्टाग्राम पर! ऐसा लगता है, लोगों ने अपनी आत्माओं और अपने दिलो-दिमाग़ को बिना सोचे-समझे कुरुक्षेत्र बना लिया है। हर जगह घृणा, जुगुप्सा, मान-अपमान और असंतोष का दरिया फूटा पड़ा है। हर व्यक्ति परस्पर सहमा-सहमा है।  ....  लेख पढ़ें
आपके फोन से तस्वीरें चोरी कर रहे हैं ये 29 एप्स जनता जनार्दन संवाददाता ,  Dec 30, 2019
गूगल ने इस साल एक हजार से अधिक एप्स को प्लेस्टोर से डिलीट कर दिया. इनमें से कुछ एडवेयर एप थे, कुछ मालवेयर एप थे और कुछ ऐसे एप थे जो आपकी मंजूरी के बिना आपकी बातचीत, लोकेशन आदि रिकॉर्ड करते थे. अब ऐसे 29 एप्स के बारे में पता चला है जो आपके फोन से बिना आपकी मर्जी के फोटो चोरी करते हैं. ....  लेख पढ़ें
टिप्पणी: आम आदमी को अमित मौर्य ,  Feb 04, 2019
आम आदमी को "आम" की तरह चूस रहे है मोदी जी मुग़ल कालीन जुमला है "कत्ले आम" यानी यहाँ भी आम आदमी का ही क़त्ल होता था ...अंग्रेजों के समय भी आम आदमी ही गुलाम था ...नेहरू से लेकर मोदी तक कभी भी आम आदमी की खैर नहीं रही ...आजादी के बाद से अब तक हर साल बजट लाखों करोड़ों की योजनाओं के बाद भी निम्न वर्ग आज भी वही खड़ा है जहाँ वो पहले खड़ा था किसान आज भी वैसे ही परेशान है जैसे पहले भी परेशान था लेकिन हुक्मरानों के चेहरों पर बेशर्मो की तरह मुस्कान है मध्य वर्ग के लोग लोन पर मकान या कार ख ....  लेख पढ़ें
जब मुंह खोलेंगे झूठ ही बोलेंगे, साहेब का मुंह है या झूठ का छापाखाना अमित मौर्या ,  Feb 01, 2019
साहेब से 'लल्लनटॉप मैजिक' की उम्मीद लगाई जनता सब सुनती रही देखती रही। टाइम बीतता गया तो कुछ जनता बिदकने लगी और कुछ इनके मैजिक पर सवाल खड़ी करने लगी।हद तो तब हो गयी जब जमूरे 'शाह' ने साहेब के एक मैजिक, की सबके जेब (खाते) में पन्द्रह लाख रुपये होंगे को जनता को सम्मोहित करने का 'जुमला मंत्र' बता दिया यहीं से जनता की हिप्नोटाइज हो चुकी आंखे खुलने लगी। ....  लेख पढ़ें
गणतंत्र बनाम गनतंत्र, हर तंत्र पर हावी होता गन अमित मौर्या ,  Jan 26, 2019
गणतंत्र का मतलब जहां का शासक राजा नही होता और देश की संम्पति पर उनका निजी हक नही होता। हमारा देश कहने को गणतांत्रिक व्यवस्था से चलता है, मगर यहां गनतंत्र यानी बंदूक का राज हर जगह है। जैसे बॉर्डर पर सैनिक गन लेकर ही सीमा रेखा की सुरक्षा करता है,देश में पुलिस फोर्स जनता की सुरक्षा में लगी रहती है। किसी विवादित धार्मिक परिसर को भी अर्धसैनिक बल गन लेकर ही सुरक्षा में रहते हैं। रेलेवे स्टेशन से लेकर हवाई अड्डों की सुरक्षा भी गनो की साये में रहती है। ....  लेख पढ़ें
भईया के नईया की खेवइया बनेंगी कार्यकर्ताओं की प्रिय, प्रियंका गांधी अमित मौर्या ,  Jan 23, 2019
हाल ही में तीन प्रदेश में बीजेपी को धूल चटा चुकी कांग्रेस आगामी लोकसभा चुनाव में पूरी तैयारी और दम के साथ खम ठोकेंगी। इसलिए लंबे समय से पार्टी के बड़े नेताओं की यह मांग की प्रियंका गांधी को यूपी में लगाया जाय,को स्वीकारते हुए आज पार्टी का राष्ट्रीय महासचिव बनाकर यूपी का प्रभारी बना दिया। कारण एक तो प्रियंका गांधी की छवि में कोई नरात्मकता नही है दूसरी बात की कार्यकर्ता प्रियंका में इंद्रा गांधी की झलक देखते हैं।बताया जाता है कि कार्यकर्ताओ से जल्दी घुलमिल जाने वाली प्रियंका को यूपी में प्रभारी बना कर इनके राजनीति कौशल को भी पार्टी परखेगी। यूपी ....  लेख पढ़ें
क्या हम ज्ञान, विज्ञान, विवेक और अपने मानसिक स्वस्थता से विमुख नहीं हो रहे हैं? त्रिभुवन ,  Jul 24, 2018
यह एक ख़तरनाक़ समानता है कि देश में निरीह मुस्लिमों के मॉब लिंचिंग मर्डर, ज्ञान-विज्ञान और विवेकवाद की बात करने वालों की हत्याएं और उन पर हमले और सुकुमार और असहाय बालिकाओं से नृशंस बलात्कार की घटनाएं एक साथ और एक ही तरह से चिंताजनक ढंग से बढ़ी हैं। यह सोचने की बात है कि क्या इन तीनों तरह की घटनाओं के बीच कोई अंतर्संबंध है? ....  लेख पढ़ें
वोट दें

क्या आप कोरोना संकट में केंद्र व राज्य सरकारों की कोशिशों से संतुष्ट हैं?

हां
नहीं
बताना मुश्किल