Thursday, 21 November 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

फीफा विश्‍व कप 2018 फाइनलः फ्रांस बनाम क्रोएशिया; फ्रांस ने क्रोएशिया को 4-2 से मात दे जीता विश्वकप

फीफा विश्‍व कप 2018 फाइनलः फ्रांस बनाम क्रोएशिया; फ्रांस ने क्रोएशिया को 4-2 से मात दे जीता विश्वकप मॉस्को: यह एक ऐसा मुकाबला था, जिसमें ताज किसी और ने जीता और दिल किसी और ने. फीफा विश्‍व कप 2018 का खिताब फ्रांस के सिर सजा। क्रोएशिया मैच हार गया पर उसने करोड़ों फुटबॉल प्रेमियों का दिल जीत लिया. मॉस्को के लुज्निकी स्टेडियम में फ्रांस और क्रोएशिया के बीच खेले गए फाइनल मुकाबले में फ्रांस ने क्रोएशिया को 4-2 से मात देकर विश्‍व फुटबॉल का सिरमौर होने का गौरव हासिल किया।

फ्रांस दूसरी बार विश्व कप जीतने में सफल रहा है। इससे पहले उसने 1998 में अपने घर में पहला विश्व कप जीता था। वहीं अपने पहले विश्व कप के फाइनल में क्रोएशिया को हार मिली।

पहली बार विश्व कप जीतने का क्रोएशिया का सपना अधूरा रह गया. महज 42 लाख की अाबादी वाले इस देश ने टूर्नामेंट में शानदार खेल का प्रदर्शन कर फाइनल में जगह बनाई थी. फाइनल में भी उसने शुरू में अच्छा खेल दिखाया. लेकिन इतिहास, भाग्य और युवा खिलाड़ियोंं की ऊर्जा फ्रांस के साथ थी. दूसरे हाफ में क्रोएशिया का डिफेंस बिखर गया और फ्रांस ने मैच जीत लिया.

क्रोएशिया ने मैच की शुरुआत आक्रामक ढंग से की. शुरुआत के पंद्रह मिनट में क्रोएशिया ने खेल पर पूरा नियंत्रण रखा. लेकिन खेल के 18 वें मिनट में क्रोएशिया की ओर से एक गैरजरूरी फाउल हुआ और फ्रांस को स्कोरिंग रेंज से फ्री किक मिल गई. यहां से फ्रांस के खिलाड़ी ग्रीजमैन ने शानदार शॉट लगाया. तेज गति के इस शॉट पर क्रोएशिया के खिलाड़ी मारियो मंजुकिच ने हेडर लगाया. लेकिन वे हेडर को नियंत्रित नहीं कर पाए और गेंद क्रोएशिया के गोल पोस्ट में चली गई. मंजुकिच के इस सेल्फ गोल ने फ्रांस को तोहफे में पहला गोल दे दिया.

खेल शुरू होने के बाद, 19वें मिनट में क्रोएशिया ने सेल्‍फ गोल कर फ्रांस को 1-0 से बढ़त दी। एंटनी ग्रीजमन ने फ्री-किक ली और मंडजुकिक के हेडर ने गेंद को अपने ही जाल में भेज दिया। 28वें मिनट में क्रोएशिया के लिए इवन पेरिसिक ने गोल कर टीम को बराबरी दिलाई। 38वें मिनट में फ्रांस को पेनाल्‍टी मिली और ग्रीजमन ने गोल कर फ्रांस को 2-1 से आगे कर दिया। हॉफ टाइम तक स्‍कोर 2-1 से फ्रांस के पक्ष में रहा।

हॉफ टाइम के बाद दोनों टीमों के बीच कड़ी टक्‍कर देखने को मिली। 61वें मिनट में पॉल पोग्‍बा ने शानदार किक लगाकर फ्रांस की बढ़त 3-1 कर दी। छह मिनट बाद कीलियन एमबाप्पे ने फ्रांस को 4-1 से आगे कर दिया। क्रोएशिया के मांजुकिक ने फ्रांस के गोलकीपर ह्यूगो लोरिस की गलती का फायदा उठाकर अपनी टीम के लिए दूसरा गोल किया। इसके बाद गोल नहीं हो सका और फ्रांस की टीम दूसरी बार विश्व विजेता बनने में सफल रही।

कितना इनाम मिलेगा: फीफा ने इस साल विजेता टीम को 3.8 करोड़ डॉलर देने का ऐलान किया है। रनर-अप टीम को 2.8 करोड़ डॉलर मिलेंगे जबकि तीसरे स्थान पर रही बेल्जियम को 2.4 करोड़ डॉलर का पुरस्कार मिलेगा। चौथे स्थान पर आने वाली टीम को 2.2 करोड़ डॉलर मिलेंगे। यही नहीं, क्वार्टर फाइनल तक का सफर तय करने वाली टीमों को 1.6 करोड़ डॉलर तथा अंतिम-16 में पहुंचने वाली टीमों को भी 1.2 करोड़ डॉलर मिलेंगे।

इससे पहले फीफा विश्व कप के 21वें संस्करण का समापन समारोह कई भव्य रंगारंग कार्यक्रमों का गवाह बना। समापन के दौरान हॉलीवुड स्टार विल स्मिथ, निक जेम्स, इरा इस्त्रेफेली ने अपनी प्रस्तुति दी। सबसे पहले गायक रोबी विलियम्स ने दर्शकों का मनोरंजन किया। इसके बाद निक जेम्स ने अपनी धुन पर स्टेडियम को नचाया। कुछ देर बाद इरा उनके साथ आई और फिर स्मिथ ने तिगड़ी पूरी की। इन तीनों ने मिलकर इस विश्व कप का गाना ‘लिव इट अप’ गाया। इस दौरान स्टेडियम में नीले रंग की जमीन तैयार की गई जिस पर कई कलाकारों ने इस विश्व कप के पुराने पलों को दिखाया। अंत में इन कलाकारों ने फाइनल खेल रहीं फ्रांस और क्रोएशिया के झंडे तैयार किए।

फ्रांस फीफा विश्व कप 2018 का आधिकारिक रूप से विजेता बना। फ्रांस के कप्तान ह्यूगो लॉरिस ने फीफा अध्यक्ष से ट्रॉफी हासिल की। मास्को से लेकर पेरिस तक जश्न का माहौल।

गोल्डन ग्लव्स का अवॉर्ड बेल्जियम के थियाबाउट कोरटूइस को मिला

फीफा वर्ल्ड कप 2018 में गोल्डन बॉल विनर बने क्रोएशिया के कप्तान लुका मोड्रिक।

फीफा यंग प्लेयर ऑफ द वर्ल्ड कप का खिताब फ्रांस के कायलिन मबापे को मिला। टूर्नामेंट में चार गोल किए।

हैरी केन इंग्लैंड के दूसरे खिलाड़ी बन गए हैं, जिन्होंने गोल्डन बूट अवॉर्ड जीता। इससे पहले गैरी लिनेकर ने 1986 में यह खिताब जीता था। केन ने मौजूदा विश्व कप में कुल 6 गोल दागे।

फुल टाइम: फ्रांस 4-2 क्रोएशिया

फ्रांस को पहला गोल मारियो मैंडजुकिच के आत्मघाती गोल के कारण मिला।

एंटोनी ग्रीजमैन ने 38वें मिनट में दूसरा गोल दागा।

पॉल पोग्बा ने 59वें मिनट में तीसरा गोल किया।

कायलिन मबापे ने 65वें मिनट में चौथा गोल दागा।

क्रोएशिया की तरफ से इवान पेरिसिच ने 28वें मिनट में गोल किया।

मारियो मैंडजुकिच ने 69वें मिनट में दूसरा गोल दागा।

93 मिनट: फ्रांस एक बार फिर गोल करने का मौका चूका। पॉल पोग्बा के सामने सिर्फ दो डिफेंडर और एक गोलकीपर था, लेकिन वह आए लंबे पास पर अपना पैर टच भी नहीं कर पाए।

92 मिनट: फ्रांस ने गोल करने का दोबारा प्रयास किया। मबापे और पॉल पोग्बा गेंद के साथ आगे बढ़े। मगर गेंद पर नियंत्रण नहीं रख पाए और मौका चूक गए।

90+5: 5 मिनट का अतिरिक्त समय जोड़ा गया है। फ्रांस इतिहास रखने रचने की दहलीज पर।

87 मिनट: इवान राकिटिच ने बहुत दूर से गोल करने के लिए किक जमाई। थकान उनके शरीर पर असर दिखा रही है।

85 मिनट: क्रोएशिया के हमले बेहद तेज, लेकिन गोल करने में सफलता नहीं मिली। फ्रांस की टीम बस मिनट गिन रही है।

80 मिनट: ओलिवर जिरू को फ्रांस ने बाहर बुला लिया है। क्रोएशिया के पास अब कोई चमत्कार करने के लिए सिर्फ 10 मिनट का समय बचा है।

76 मिनट: क्रोएशिया की जीत की उम्मीद बरकरार। इवान राकिटिच ने गोल करने का प्रयास किया। मगर सफल नहीं हुए। फ्रांस अब डिफेंसिव मोड पर।

71 मिनट: क्रोएशिया ने किया बदलाव। रेबिच की जगह आंद्रेस क्रैमरिच को मैदान में भेजा गया है।

69 मिनट: सुपर फाइनल! उमटीटी ने गोलकीपर लॉरिस के पास आसान पास दिया। मारियो मैंडजुकिच गोलकीपर की तरफ दौड़कर गए। लॉरिस क्रोएशिया के मैंडजुकिच को छका नहीं पाए और वह गोल करने में कामयाब हो गए।

65 मिनट: गोल!!! फ्रांस कर रहा गोलों की बरसात। लुकाज हेर्नांडेज ने मबापे को पास दिया, जिस पर युवा स्ट्राइकर ने शानदार गोल दागा। 60 वर्षों में पेले के बाद मबापे पहले युवा खिलाड़ी बन गए हैं, जिन्होंने विश्व कप फाइनल में गोल किया। मबापे ने 25 यार्ड की दूरी से शानदार गोल जमाया।

59 मिनट: गोल!!! पॉल पोग्बा ने फ्रांस को दिलाई बढ़त। एंटोनी ग्रीजमैन ने पॉल पोग्बा से हासिल की और क्रोएशियाई गोलपोस्ट की तरफ किक जमाई, यह ब्लॉक कर दिया गया। पोग्बा ने फिर सेंटर पोजीशन से किक जमाया, जो डिफेंडर से टकराया और गेंद वापस पोग्बा के पास गई। उन्होंने लगातार दूसरा किक जमाया और सुबासिच के बाएं ओर से गेंद जाली में भेद दी। फ्रांस की बढ़त अब 3-1 हो गई है।

55 मिनट: फ्रांस ने किया मैच में पहला बदलाव। पीला कार्ड हासिल करने वाले एन'गोलो कांटे की जगह स्टीवन एनजोंजी को मैदान में भेजा गया।

52 मिनट: फैंस के लिए पलक झपकाना हो रहा मुश्किल। बहुत ही तेजी से दोनों टीमें गोल करने का प्रयास कर रही हैं। फ्रांस के कायलिन मबापे को विडा ने रोकने का प्रयास किया और सुबासिच ने आगे आकर ब्लॉक किया।

50 मिनट: फ्रांस पर दबाव बढ़ा। राफेल वराने ने लंबा पास दिया, लॉरिस बॉक्स के बाहर आए और मारियो मैंडजुकिच का शॉट रोक दिया।

48 मिनट: दूसरे हाफ में फ्रांस ने अपने आक्रमण तेज किए। एंटोनी ग्रीजमैन ने नीचा शॉट खेला, जिसे ब्लॉक कर लिया गया। इसके बाद क्रोएशिया ने अटैक किया, जिसे लॉरिस ने डाइव लगाकर अच्छे से बचाव किया।

मजेदार फैक्ट: एंटोनी ग्रीजमैन फ्रांस के तीसरे खिलाड़ी हैं, जिन्होंने यूरो कप और विश्व कप के फाइनल में गोल किया है।

46 मिनट: दोनों टीमें बिना बदलाव के मैदान में उतरी हैं। क्रोएशिया फिलहाल एक गोल से पीछे। फ्रांस की 2-1 की बढ़त बरकरार।

मजेदार फैक्ट: 1974 में वेस्ट जर्मनी और नीदरलैंड्स के बीच पहले हाफ में तीन गोल होने के बाद यह पहला मौका है जब किसी विश्व कप फाइनल में तीन गोल लगे हो। तब पहले हाफ की समाप्ति पर जर्मनी ने नीदरलैंड्स पर 2-1 की बढ़त बना रखी थी।

हाफ टाइम : फ्रांस 2-1 क्रोएशिया

फ्रांस की ओर से एंटोनी ग्रीजमैन ने एक गोल किया जबकि मैंडजुकिच के आत्मघाती गोल की मदद से उसे बढ़त मिली।

क्रोएशिया की तरफ से इवान पेरिसिच ने 28वें मिनट में दागा गोल।

45+1 मिनट: एक मिनट का अतिरिक्त समय जोड़ा गया. क्या क्रोएशिया कोई कमाल कर पाएगा?

43 मिनट: क्रोएशिया ने हिम्मत नहीं हारी और वह लगातार गोल करने का प्रयास कर रहा है। पेरिसिच ने डेजन लोवरेन को अच्छा पास दिया। मगर लोवरेन का किक उमटीटी ने ब्लॉक कर दिया।

39 मिनट: गोल!!! एंटोनी ग्रीजमैन ने बड़े ही आसानी से गोल दागा और फ्रांस की बढ़त 2-1 की। वीएआर सिस्टम के मुताबिक क्या वाकई यह पेनल्टी थी? यह स्पष्ट नहीं हुआ है, इस पर विचार होना जरूरी है।

34 मिनट: VAR के इस्तेमाल से फ्रांस को मिली पेनल्टी। इवान पेरिसिच का हैंडबॉल हुआ। अर्जेंटीना के रेफरी पिटानी ने वीएआर की मदद से फ्रांस को पेनल्टी दी।

28 मिनट: गोल!!! इवान पेरिसिच ने दिलाई क्रोएशिया को बराबरी। फ्रांस फ्री किक को क्लियर करने में सफल नहीं हुआ और गेंद बॉक्स के बाहर पेरिसिच को मिली। उन्होंने पहले टच में कांटे को छकाया और फिर दूसरे किक पर गोल दाग दिया। फ्रांस के लॉरिस के पास गोल रोकने का कोई मौका नहीं। कांटे को फ्री किक के दौरान फाउल करने के लिए पीला कार्ड भी दिखाया गया।

मजेदार फैक्ट: मारियो मैंडजुकिच पहले खिलाड़ी हैं, जिन्होंने विश्व कप के फाइनल में आत्मघाती गोल किया हो।

24 मिनट: क्रोएशिया ने दो सेट पीस के साथ जवाबी हमला बोला। डोमगोज विडा ने पहले हेडर जमाया जबकि दूसरी बार फ्रेंच गोलकीपर ह्यूगो लॉरिस ने गेंद पर पंच जमाकर गोल का मौका टाल दिया।

18 मिनट: गोल!!! क्रोएशिया के आत्मघाती गोल से फ्रांस को मिला फायदा। विश्व कप 2018 का पहला गोल। क्रोएशिया के मारियो मैंडजुकिच के हेडर से फ्रांस को मिली 1-0 की बढ़त।

14 मिनट: फ्रांस की रणनीति समझना मुश्किल। ग्रीजमैन जैसे दिग्गज खिलाड़ी क्रोएशिया के खेमे में नहीं जा पा रहे हैं।

10 मिनट: क्रोएशिया ने एक बार फिर गोल करने का मौका बनाया। राकिटिच ने मिडफील्ड से गेंद अच्छे से चिप करते हुए स्ट्राइकर पेरीसिच को पास दिया। मगर उमटीटी ने पेरीसिच को अच्छे से ब्लॉक किया। क्रोएशिया बढ़त लेते-लेते रह गया।

8 मिनट: क्रोएशिया को फ्रांस ने गोल करने से रोका। क्रोएशिया की टीम शुरुआत में फ्रांस पर पूरी तरह हावी रहने की कोशिश कर रही है। फ्रांस को कार्नर किक मिला, लेकिन फ्रांस के गोलकीपर ह्यूगो लॉरिस ने अच्छा बचाव किया। स्ट्राइकर कायलिन मबापे को डिफेंस करते हुए देख अच्छा लगा।

4 मिनट: मैच की अच्छी शुरुआत। क्रोएशिया पर थकान नजर नहीं आ रही है जबकि उसने पिछले तीन मैच एक्स्ट्रा टाइम में जीते हैं। क्रोएशिया ने गोल करने का प्रयास भी किया, फ्रांस दबाव में।

2 मिनट: फ्रांस ने शुरुआती मिनटों में गेंद अपने पास रखी। क्रोएशिया ने कांटे को रोकने के लिए दूसरे मिनट में मैच का पहला फाउल किया।

क्रोएशिया की टीम लाल और सफेद रंग की चेकर्स जर्सी में हैं। फ्रांस की टीम नीली जर्सी में खेल रही है।

दोनों टीमों के नेशनल एंथम पूरे हो चुके हैं। और खेल शुरू हो चुका है।

मजेदार फैक्ट: फ्रांस और क्रोएशिया के बीच अब तक पांच मुकाबले हुए हैं, जिसमें ने फ्रांस (1998, 1999 और 2000) ने तीन मुकाबले जीते। दो मुकाबले (2004 और 2011) ड्रॉ हुए।

-पहली बार विश्व कप के फाइनल में पहुंचने वाली सिर्फ दो ही टीम चैंपियन बनने में कामयाब हुई हैं। फ्रांस ने 1998 जबकि स्पेन ने 2010 में खिताब जीता था।

-फ्रांस के एंटोनी ग्रीजमैन ने मेजर टूर्नामेंट्स (विश्व कप और यूरो)  के 9 नॉकआउट मैचों में 11 गोल करने में अहम भूमिका निभाई। उन्होंने इस दौरान गोल किए और सहायक भी बने। पिछले 50 वर्षों में ग्रीजमैन से ज्यादा शानदार काम किसी फ्रेंच खिलाड़ी ने नहीं किया है। जिनेदिन जिदाने (8) और माइकल प्लाटिनी (6) क्रमशः दूसरे व तीसरे स्थान पर है।

-राफेल वराने सिर्फ पांचवें फ्रेंच खिलाड़ी हैं, जो एक ही साल में चैंपियंस लीग और विश्व कप का फाइनल खेल रहे हैं। इससे पहेल थिएरा हेनरी (2006), जिनेदिन जिदाने, डिडिएर डेसचैंप्स और क्रिस्चियन कारेमबियू (सभी 1998) में यह कारनामा कर चुके हैं।

-फ्रांस की टीम कभी मुकाबला नहीं हारी अगर कांटे और पॉल पोग्बा शुरुआती एकादश का हिस्सा हो

-फ्रांस के फुटबॉल इतिहास पर नजर डाले तो 6 मेजर टूर्नामेंट के फाइनल में से 4 में डिडिएर डेसचैंप्स ने हिस्सा लिया (वर्ल्ड कप 1998 और यूरो 2000 में बतौर खिलाड़ी व यूरो 2016 और विश्व कप 2018 में बतौर मैनेजर)। ऐतिहासिक।

दोनों टीम की शुरुआती लाइन अप

क्रोएशिया की टीम:

गोलकीपर: डेनिजेल सुबासिक, लोवरो कालिनिक और डोमिनिक लिवाकोविक डिफेंडर: वेद्रन कोलुर्का, डोमागोज विदा, इवान स्ट्रिनीक, डेजान लोवरेन, सिमे वसाल्जको, जोसिप पीवारिक, टिन जेडवेज, डुजे सालेटा कार मिडफील्डर: लुका मोड्रिक, मटिओ कोवाचिक, इवान रेकिटिक, मिलान बाडेल्ज, मासेर्लो ब्राजोविक और फिलिप ब्राडेरिक फारवर्ड: मारियो मांजुकिक, इवान पेरीसिक, निकोला कालिनीक, एंद्रेज करामारिक, मार्को पीजासा और एंटे रेबिक

फ्रांस की टीम:

गोलकीपर: लोरिस, स्टीव मन्दंदा, अल्फोन्स एरोओला। डिफेंडर: लुकास हर्नान्डेज, प्रेसनेल किम्पेम्बे, बेंजामिन मेन्डी, बेंजामिन पावर्ड, आदिल रामी, जिब्रिल सिदीबे, सैमुअल उम्तीती, राफेल वरान। मिडफील्डर: एनगोलो कान्ते, ब्लेस मातुइदी, स्टीवन एंजोंजी, पॉल पोग्बा, कोरेंटिन टोलिसो। फारवर्ड: ओउस्मान डेम्बेले, नाबिल फकीर, ओलिवियर जीरू, एंटोनी ग्रीजमैन, थॉमस लेमार, कीलियन एम्बाप्पे, फ्लोरियन थौविन।
अन्य खेल- खिलाड़ी लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack