Thursday, 20 September 2018  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

भारत दुनिया की 6ठी सबसे बड़ी अर्थव्‍यवस्‍था, फ्रांस पीछे

भारत दुनिया की 6ठी सबसे बड़ी अर्थव्‍यवस्‍था, फ्रांस पीछे नई दिल्लीः भारत अब दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन चुका है, ये जगह भारत ने फ्रांस को सातवें स्थान पर पीछे करके हासिल की है, ये दावा विश्व बैंक के साल 2017 में जारी किए गए आंकड़ों के अध्ययन से पता चला है. पिछले साल के अंत में भारत का सकल घरेलू उत्पाद यानी की जीडीपी 2.597 खरब डॉलर था. जबकि फ्रांस की जीडीपी 2.582 खरब डॉलर थी.

खबर के अनुसार फ्रांस की 2.582 ट्रिलियन डॉलर सकल घरेलू आय (जीडीपी) की तुलना में भारत की जीडीपी 2.597 ट्रिलियन डॉलर हो गई है. रिपोर्ट में कहा गया है कि कई तिमाही गिरावट झेलने के बाद जुलाई 2017 से देश की आर्थिक विकास दर (इकोनॉमिक ग्रोथ) बढ़ी है.

हालांकि प्रति व्यक्ति आय के मामले में भारत फ्रांस से कई गुना पीछे है. भारत 67 मिलियन आबादी वाले फ्रांस से इस मामले में लगभग 20 गुना पीछे है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि नोटबंदी और पिछले साल 1 जुलाई से लागू हुई जीएसटी व्यवस्था के बाद मैन्युफैक्चरिंग और लोगों की क्रय शक्ति (खरीद क्षमता) बढ़ने से मुख्य रूप से यह उछाल आई है.

भारत की अर्थव्यवस्था को जुलाई 2017 के बाद से कई झटके लगे हैं. कई तिमाही में अर्थव्यस्था में धीमी गति का कारण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार द्वारा लिए गए आर्थिक फैसलों को माना गया। भारत की आबादी इस वक्त करीब 134 करोड़ है.

भारत बहुत जल्दी ही दुनिया का सबसे ज्यादा आबादी वाला देश बन जाएगा. जबकि फ्रांस की आबादी सिर्फ 6 करोड़ 70 लाख है.

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के अनुसार इस वित्तीय वर्ष (2018-19) में भारत की जीडीपी 7.4 प्रतिशत और 2019 में इसके 7.8 प्रतिशत रहने के अनुमान हैं.

टॉप अर्थव्यवस्था वाले देशों की सूची में अमेरिका पहले नंबर पर काबिज है. इसके बाद चीन, जापान और जर्मनी का नंबर आता है. लिस्ट में ब्रिटेन आठवें स्थान पर है. रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि 2032 तक भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा अर्थव्यवस्था वाला देश बन जाएगा.

 विश्व बैंक के आंकड़ों की मानें तो इसका अर्थ है कि भारत की प्रति व्यक्ति आय फ्रांस की प्रति व्यक्ति आय की तुलना में करीब 20 गुना कम है.
अन्य व्यापार लेख
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack