शहर
पिंडदानियों के लिए ही तो सजीधजी है 'विष्णुनगरी' गया मनोज पाठक ,  Sep 18, 2016
पितृपक्ष में पितरों को मोक्ष दिलाने की कामना के साथ बिहार के गया आने वाले पिंडदानियों के लिए 'विष्णुनगरी' गया सज-धज कर तैयार हो गया है। इस साल पितृपक्ष मेला 15 सितंबर से शुरू हो रहा है। पुरखों (पूर्वजों) को पिंडदान करने के लिए आने वाले देश-दुनिया के पिंडदानियों का यहां इंतजार हो रहा है। वैसे कई पिंडदानी यहां पहुंच भी गए हैं। ....  लेख पढ़ें
कावेरी का 50 फीसदी पानी बर्बाद करता है बेंगलुरू जनता जनार्दन डेस्क ,  Sep 18, 2016
कर्नाटक कावेरी नदी से जल छोड़ने को लेकर जहां अदालत में है, वहीं पूरी तरह कावेरी के जल पर आश्रित राजधानी बेंगलुरू कावेरी से मिला आधा जल बर्बाद कर देता है। ....  लेख पढ़ें
लखनऊ और मॉस्को: यातायात नियमों के उल्लंघन में क्या है फर्क? मोहित दुबे ,  Jun 06, 2016
भारत के सबसे अधिक जनसंख्या वाले राज्य की राजधानी लखनऊ और दुनिया के सबसे बड़े देश की राजधानी मास्को में तुलना करना आसान नहीं है. दोनों शहरों के बीच भिन्नताएं अनेक हैं, लेकिन अन्य शहरों की जगह इन दोनों ने मेरा ध्यान आकर्षित किया. यातयात नियमों का उल्लंघन करना उत्तर प्रदेश में आम बात है. इन्हें खबरों में जगह तो मिलती है, लेकिन आगे की खबरों के लिए इसे चुपचाप दफना दिया जाता है. ....  लेख पढ़ें
गर्मी ने छीन लिया बेंगलुरू का सुहानापन शैरोन थंबाला ,  May 22, 2016
यह रमणीय और ठंडा शहर था. यहां के मौसम के कारण बड़ी संख्या में लोग यहां आते थे. भीषण गर्मी के मौसम में भी यहां पंखे की जरूरत नहीं पड़ती थी. अब बेंगलुरू धधक रहा है. गर्मी के मौसम में पिछले कई सालों से लोग एयर कंडीशनर खरीद रहे हैं. पंखों और एयर कंडीशनर का इस्तेमाल मार्च महीने से ही होने लगता है. ....  लेख पढ़ें
बीजिंग में सिकुड़ रही साइकिल सवारी की जगह गौरव शर्मा ,  May 14, 2016
बीजिंग के गाओ रू लुंग हर सुबह अपनी साइकिल से कारों की भीड़ और भीषण यातायात को चीरते हुए अपना सफर तय करते हैं, लेकिन जब वह साइकिल लेन पर अपनी साइकिल खड़ी करने जाते हैं तो उन्हें वहां भी मौजूद कारों से जूझना पड़ता है. ....  लेख पढ़ें
पटना उच्च न्यायालय का इतिहास गौरवशाली जनता जनार्दन डेस्क ,  Mar 06, 2016
पटना उच्च न्यायालय के 100 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में घोषित शताब्दी वर्ष के समापन समारोह में भाग लेने के लिए 12 मार्च को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पटना पहुंच रहे हैं। पटना उच्च न्यायालय अपने अतीत और विरासत के कारण चर्चित रहा है। पटना उच्च न्यायालय के गौरवशाली इतिहास का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि इस अदालत में देश के प्रथम राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद और संविधान सभा के प्रथम अध्यक्ष डॉ़ सच्चिदानंद सिन्हा सहित कई चर्चित हस्तियां ने भी यहां वकालत की थीं। ....  लेख पढ़ें
सफाई पर रिपोर्ट कार्ड: टॉप टेन में सबसे साफ और गंदे सिटीज की लिस्ट जनता जनार्दन डेस्क ,  Feb 16, 2016
लगातार दूसरी बार स्वच्छ शहरों की सूची में मैसूरू को सर्वाधिक स्वच्छ शहर बताया गया है। उसके बाद चंडीगढ़ का स्थान आता है जबकि धनबाद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी देश के 10 कम स्वच्छ शहरों में है। यह जानकारी 2014 में स्वच्छ भारत मिशन शुरू किए जाने के बाद किए गए पहले सर्वेक्षण से मिली है। ....  लेख पढ़ें
स्‍मार्ट सिटी योजना में पेश 'विजन स्‍टेटमेंट' अजय पुंज ,  Jan 03, 2016
शहरी विकास मंत्रालय में 95 नगरों के लिए प्राप्‍त स्‍मार्ट सिटी योजनाओं में स्‍वच्‍छ एवं हरित नगर बनने से लेकर एक बहु-कार्य जनजातीय हब बनने तक के विजन स्‍टेटमेंट की एक व्‍यापक श्रृंखला शामिल है। ....  लेख पढ़ें
पटना पुस्तक मेला: पढ़ेगा बिहार, बढ़ेगा बिहार जनता जनार्दन डेस्क ,  Dec 15, 2015
बिहार की राजधानी के ऐतिहासिक गांधी मैदान में आयोजित 22वां 'पटना पुस्तक मेला' इस वर्ष कुछ खास है.इसका थीम है 'पढ़ेगा बिहार, बढ़ेगा बिहार.' चार दिसम्बर को शुरू मेले में आई नई किताबें जहां अक्षर प्रेमियों को आकर्षित कर रही हैं, वहीं शिल्प व संस्कृति के नजारे भी कला प्रेमियों लुभा रही हैं. मेला 15 दिसम्बर तक चलेगा. ....  लेख पढ़ें
किसी को नहीं है भोपाल के रासायनिक कचरे की चिंता जनता जनार्दन डेस्क ,  Nov 24, 2015
भोपाल में 31 वर्ष पहले हुई गैस त्रासदी के बाद से यूनियन कार्बाइड प्‍लांट परिसर में जमा हजारों टन रासायनिक कचरे से पर्यावरण प्रदूषण का दायरा लगातार बढ़ता जा रहा है, पर फिक्र किसे है? सरकारें पर्यावरणीय नुकसान का वैज्ञानिक आकलन कराने तक को तैयार नहीं हैं।भोपाल गैस हादसे को लोग अब तक भूले नहीं हैं। दो-तीन दिसंबर, 1984 की रात को यूनियन कार्बाइड प्‍लांट से मिथाइल आइसो साइनाइड (मिक) गैस रिसी थी, इससे हजारों लोगों की मौत हो गई थी। मौत का सिलसिला अब भी जारी है, जिसकी वजह बीमारियां और पर्यावरणीय प्रदूषण है। ....  लेख पढ़ें
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल