मन की बात: पीएम मोदी ने कहा- गरीब-मजदूर पर बड़ी चोट पड़ी
मजदूरों को लेकर पीएम मोदी ने कहा, ''हमारे देश में भी कोई वर्ग ऐसा नहीं है जो आगे पढ़ें...
आगे और... 
by : सुजाता शिवेन
साहित्य के नोबेल पुरस्कार इस साल विवादों के चलते नहीं दिए जा  आगे पढ़ें...
आगे और...
चाणक्य नीति: विद्यार्थी जीवन बहुत ही महत्वपूर्ण होता है

चाणक्य नीति: विद्यार्थी जीवन बहुत ही महत्वपूर्ण होता है

जनता जनार्दन संवाददाता
आचार्य चाणक्य स्वयं एक शिक्षक थे. वे विश्वविख्यात तक्षशिला विश्वविद्यालय के आचार्य थे. इसलिए छात्रों की मनोदशा का उन्हें अच्छी तरह से ज्ञान था. चाणक्य ने विद्यार्थी जीवन को प्रभावित करने वाली हर अच्छी और बुरी चीजों का अध्ययन किय...  खबर पढ़ें...
बी.एच.यू मेरी साँसों में बसता है

बी.एच.यू मेरी साँसों में बसता है

डॉ महबूब हसन
अज़ीज़ दोस्तों! बी.एच.यू. मेरे लिए हसीन यादों का एक बेश-किमती एल्बम है..कोलाज़ है, जिस में ज़िन्दगी के सारे रंग मौजूद हैं। बी.एच.यू. मेरी साँसों में बसता है! मेरे दिल की धड़कनों में शामिल है। बी.एच.यू. मेरी मुहब्बत है, मेरा इश्क़ है, मेरा ...  लेख पढ़ें...
प्रवासी मजदूरों के लिए केंद्र ने बनाया ऑनलाइन डैशबोर्ड

प्रवासी मजदूरों के लिए केंद्र ने बनाया ऑनलाइन डैशबोर्ड

जनता जनार्दन संवाददाता
केंद्र सरकार ने प्रवासी मजदूरों के लिए ऑनलाइन डैशबोर्ड बनाया है. केंद्रीय गृह सचिव ने सभी राज्यों के मुख्य सचिवों को चिट्ठी लिखी है. इसमें प्रवासी मजदूरों के लिए सुविधाएं बढ़ाने और उनके डेटाबेस पर जोर दिया गया है. साथ ही यह भी कहा ...  खबर पढ़ें...
आपसे इन बड़ी बातों को छुपाती हैं Credit Card कंपनियां

आपसे इन बड़ी बातों को छुपाती हैं Credit Card कंपनियां

जनता जनार्दन संवाददाता
क्रेडिट कार्ड रखने का शौक हर किसी को होता है. आए दिन कंपनियां लोगों को क्रेडिट कार्ड देने के लिए फोन भी करती रहती हैं. यही नहीं क्रेडिट लिमिट बढ़ाने को लेकर भी कंपनियां अक्सर ग्राहकों को फोन करती हैं. फोन पर आपको क्रेडिट कार्ड के फा...  खबर पढ़ें...
अमेरिका में अश्वेतों की अंधाधुंध हत्या और विद्रोह का एक नया अध्याय

अमेरिका में अश्वेतों की अंधाधुंध हत्या और विद्रोह का एक नया अध्याय

पार्थ बैनर्जी
1968 में रेवरेंड मार्टिन लूथर किंग की हत्या के बाद अमेरिकी अंतरात्मा को झकझोर देने वाली भारी जन-आक्रोश अब 2020 के कोरोनावायरस संकट में अचंभित कर रही है...  लेख पढ़ें...
लॉकडाउन के उपरांत- एक नए प्रकार की उद्यमिता

लॉकडाउन के उपरांत- एक नए प्रकार की उद्यमिता

अनिल कुमार राय
हमारे पास कोई स्पष्टता नहीं है कि कब लॉकडाउन पूरी तरह से समाप्त होने जा रहे हैं। यह एक दिन, एक सप्ताह, तीन सप्ताह और अब अंतहीन रूप से चल रहा है। माइक्रो लॉकडाउन कोविद -19 के साथ चल रही चुनौतियों में पेश किए गए नए नियम और प्रक्रिया हैं। ...  खबर पढ़ें...
एंग्जाइटी से छुटकारा पाने के लिए अपनाएं ये TIPS

एंग्जाइटी से छुटकारा पाने के लिए अपनाएं ये TIPS

जनता जनार्दन संवाददाता
एंग्जायटी एक ऐसा मनोविकार है जिसे हर व्यक्ति समय-समय पर अनुभव करता है. व्यस्त रहने के दौरान या अत्यधिक उत्तेजित अवस्था में तनाव अनुभव करना स्वभाविक होता है. लेकिन एंग्जायटी एक साधारण से 'तनाव' से बहुत आगे की अवस्था होती है. इससे...  खबर पढ़ें...
कोरोना महामारी, भारत की आर्थिक पैकेज का निहितार्थ एवं राजनीतिक विवशता

कोरोना महामारी, भारत की आर्थिक पैकेज का निहितार्थ एवं राजनीतिक विवशता

डॉ. संजय कुमार
12 मई को रात 8 बजे पुनः प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी जी ने राष्ट्र को संबोधित किया. जिसमे कोरोना महामारी के पश्चात उत्पन्न आर्थिक व्यवस्था के मद्देनज़र जी.डी.पी के लगभग 10 प्रतिशत फण्ड, यानि 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज की घोषणा की. इसकी प...  लेख पढ़ें...
Bamfaad Review: आदित्य रावल की 'बमफाड़' हो चुकी है रिलीज

Bamfaad Review: आदित्य रावल की 'बमफाड़' हो चुकी है रिलीज

जनता जनार्दन संवाददाता
कोरोना वायरस के चलते देशभर में सिनेमाघरों को तो फिलहाल बंद किया गया है लेकिन इस सब के बीच भी एक स्टारकिड ने बॉलीवुड में डेब्यू कर लिया है. परेश रावल के बेटे आदित्य रावल वैसे तो बड़ी स्क्रीन पर अपना डेब्यू करने वाले थे लेकिन कोरोना व...  खबर पढ़ें...
कहीं भूखमरी की काल कोठरी में ही न समा जाएं ग्लैमर की दुनिया का यह अनदेखा तबका

कहीं भूखमरी की काल कोठरी में ही न समा जाएं ग्लैमर की दुनिया का यह अनदेखा तबका

आशीष कौल
यह कहते हुए दुःख हो रहा लेकिन ऐसा समझाया और दिखाया जाता है कि सब कुछ ठीक है और फिल्म कामगार पैसे और सम्पन्नता के तालाब में गोते लगा रहे हैं | सच्चाई ये है कि इनकी हालत अच्छी नहीं है और बहुत कम लोग सामने आकर इन लोगों की मदद करते हैं | इस ...  लेख पढ़ें...
jantajanardan Twitter हम यहां भी फेसबुक पर फैन बने
jantajanardan youtube
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल