Wednesday, 26 September 2018  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

मुस्कान मेल पैग़ामः पौष पूर्णिमा पर नवल वर्ष 2018 की हार्दिक मंगल कामना

मनोज पाठक , Jan 04, 2018, 10:48 am IST
Keywords: New Yera Poem   Muskan Mail   New Year Hindi poem   Hindi poem   Naye saal par kavita   Manoj Pathak   Manoj Pathak poem   हिंदी कविता   नए साल पर कविता   नए साल पर हिंदी कविता   मनोज पाठक   मुस्कान मेल पैग़ाम   मनोज पाठक की कविता  
फ़ॉन्ट साइज :



मुस्कान मेल पैग़ामः पौष पूर्णिमा पर नवल वर्ष 2018 की हार्दिक मंगल कामना नई दिल्लीः यह कविता नव वर्ष के आगमन पर आप सबके प्रिय चिंतक और रेडियो होस्ट मनोज पाठक द्वारा लिखी गई. इसका उद्देश्य आप सब पाठकों को नव वर्ष की शुभकामना देना है. कृपया सुनें और गुनगुनाएं   

मुस्कान मेल पैग़ामः

सोमवार है आज
सोम यानि चंद्रमा
आज पूरे शवाब पर है चांद
पूरनमासी है
व्रत है
हमारा आज

व्रती की कामना

आज के चांद की तरह रौशन रहे आपके चेहरे पर हर वक्त नूर
दूज के चांद से पूर्णिमा के चांद की तरह लगतार बढ़ती रहे आपकी आमदनी
साल भर
।।
पूरनमासी के चांद से अमावस की यात्रा की तरह
घटते रहें
जीवन के हर दुःख
संताप
साल भर
।।
हम और आप
मुस्कराते रहें
साल भर
।।

उछाह ले मन में तरंगे
सागर की लहरों की तरह
आज के चांद को
पूर्णिमा के चांद को
चूमने के लिये
लगा दें पूरा जोर
तन स्वस्थ मन प्रसन्न ले हिलोर
साल भर
।।
नया साल मुबारक हो
जल की तरह
वायु से करें होड़
अग्नि को लें थाम
गगन के विस्तार को दे चीर
धरती समान चलते रहें
सभी संतति को सहेजे
हम और आप
।।
शुभकामना
नव वर्ष की
मुस्कुराते रहें
साल भर
हम और आप
मुस्कान मेल पैग़ाम
मुस्कुराते रहो
साल भर।।
 
stack