Saturday, 16 December 2017  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

आज का पंचांग, इतिहास में आज और सुभाषित- यादॄशै: सन्निविशते

पंडित शशिपाल शर्मा 'बालमित्र' , Aug 12, 2017, 6:53 am IST
Keywords: Inspirational quote   Daily Quote   Dainik Subhashit   Dainik Panchang   12 August 2017 ka Panchang   Days in History   Aaj ka Subhashit   Shashi Pal Sharma   Shashi Pal Sharma Balamitra   दैनिक सुभाषित   आज का सुभाषित   दैनिक पंचांग   इतिहास में आज का दिन   12 अगस्त 2017 का पंचांग   शशिपाल शर्मा   शशिपाल शर्मा बालमित्र   सूक्तिया  
फ़ॉन्ट साइज :



आज का पंचांग, इतिहास में आज और सुभाषित- यादॄशै: सन्निविशते नई दिल्लीः भारतीय संस्कृति, अध्यात्म, काल खंड और सनातन परंपरा के अग्रणी सचेता प्रख्यात संस्कृत विद्वान पंडित शशिपाल शर्मा बालमित्र द्वारा संकलित दैनिक पंचांग, आज की वाणी, इतिहास में आज का दिन और उनकी सुमधुर आवाज में आज का सुभाषित आप प्रतिदिन सुनते हैं.

जैसा कि हमने पहले ही लिखा था, पंडित जी अपनी सामाजिक और सृजनात्मक सक्रियता के लिए भी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ख्यात हैं. उनके पाठकों शुभेच्छुओं का एक बड़ा समूह है.

जनता जनार्दन ने भारतीय संस्कृति के प्रति अपने खास लगाव और उसकी उन्नति, सरंक्षा की दिशा में अपने प्रयासों के क्रम में अध्यात्म के साथ ही समाज और साहित्य के चर्चित लोगों के कृतित्व को लेखन के साथ-साथ ऑडियो रूप में प्रस्तुत करने का अभिनव प्रयोग शुरू कर ही रखा है, और पंडित जी उसके एक बड़े स्तंभ हैं.

इस क्रम में हम आज की कविता, स्वास्थ्य और तन मन में उर्जा भरने वाला संदेश 'मुस्कान मेल' और आज का सुभाषित प्रस्तुत कर रहे हैं.

आज का सुभाषित अपने साथ इतिहास में आज का दिन, दैनिक पंचांग भी समेटे हुए है. इसकी खूबी यह है कि पंडित शशिपाल शर्मा बालमित्र जी  सुभाषित का संकलित और प्रस्तुत करने के साथ सस्वर पाठ के साथ उसकी व्याख्या करते हैं. तो आप भी आनंद लीजिए.

****
*ॐ श्रीगणेशाय नम:*
*शुभप्रभातम् जी*

*पञ्चांग-मुख्यांश*
*आज दिनांक*
     
*12 अगस्त 2017*
*शनिवार*
*नई  दिल्ली अनुसार*

*शक सम्वत-*1939
*विक्रम सम्वत-*2074
*मास-*भाद्रपद
*पक्ष-*कृष्णपक्ष
*तिथि-*पंचमी-22:58
*पश्चात्-*षष्ठी
*नक्षत्र-*उत्तरभाद्रपदा-06:14
*पश्चात्-*रेवती
*करण-*कौलव-11:22
*पश्चात्-*तैतिल
*योग-*धृति-13:50
*पश्चात्-*शूल
*सूर्योदय-*05:48
*सूर्यास्त-*19:03
*चन्द्रोदय-*22:07
*चन्द्रराशि-*मीन (दिन-रात)
*सूर्यायण-*दक्षिणायणे
*गोल-*उत्तरगोले
*अभिजीत-*11:59 से 12:52
*राहुकाल-*09:07 से 10:46
*ऋतु-*वर्षा
*दिशाशूल-*पूर्व

*विशेष*

*आज शनिवार को भाद्रपद बदी पंचमी 22:58 तक पश्चात् षष्ठी, पंचंक समाप्त ,नागपंचमी(गुजरात), गोगा पंचमी , रक्षा पंचमी , पुस्तकाध्यक्ष दिवस व अन्तर्राष्ट्रीय युवा दिवस ।*
*कल रविवार को भाद्रपद बदी षष्ठी 21:34 तक पश्चात् सप्तमी, हलचंदन षष्ठी उबछठ , हरछठ , रांधणछठ (गुजरात),  सर्वार्थसिद्धियोग , भद्रा 21:31 से, बलराम जयन्ती, वीरदुर्गादास राठौड़ जयन्ती व अंगदान दिवस।*

*आज की वाणी*

*यादॄशै:  सन्निविशते*
      *यादॄशांश्चोपसेवते  ।*
*यादॄगिच्छेच्च भवितुं*
    *तादॄग्भवति पूरूष: ॥*

*भावार्थ*

       मनुष्य, जिस प्रकार के लोगों के साथ रहता है, जिस प्रकार के लोगों की सेवा करता है, जिनके जैसा बनने की इच्छा करता है, निश्चित रूप से वह वैसा ही बन जाता है।


*12 अगस्त की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ
 
stack