खोजें
Jan 11, 2016, 14:28 pm    by : जनता जनार्दन डेस्क
विश्व हिंदी दिवस है, यह महज एक दिवस नहीं बल्कि विश्व पटल पर यह दिखाने की कोशिश है कि हिंदी अभी मरी नहीं, जिंदा है। भारत में ही नहीं बल्कि विश्व के कई छोटे और बड़े देशों में भी हिंदी बोली, पढ़ी और स
Sep 14, 2015, 12:47 pm    by : ऋतुपर्ण दवे
हिन्दी के लिए हिन्दी में कुछ किया जाए तो अच्छा लगता है, लेकिन जब दीगर भाषा-भाषी कुछ करते हैं तो हम आश्चर्य में होता है और ठगा-सा महसूस करते हैं। जिस दिन हिन्दी बोलने में हम गर्व महसूस करेंगे, सच म
Sep 13, 2015, 15:36 pm    by : अनंत विजय
भोपाल में आयोजित विश्व हिंदी सम्मेलन खत्म हो गया । इस तरह के सम्मेलनों की सार्थकता को लेकर पिछले हफ्ते भर से सवाल खड़े किए जा रहे हैं । एक खास वर्ग और खास विचारधारा के लेखकों के द्वारा । इन सवाल
Sep 10, 2015, 14:30 pm    by : जनता जनार्दन संवाददाता
रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भोपाल में विश्व हिन्दी सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए कहा कि देश में हिन्दी के लिए ज्यादा आंदोलन उन लोगों ने चलाया जिनकी मातृभाषा नहीं थी। 32 साल बाद भारत में विश्व हिन
Sep 09, 2015, 15:54 pm    by : जनता जनार्दन डेस्क
दुनिया भर में हिन्दी के प्रचार-प्रसार के लिए होने वाला विश्व हिन्दी सम्मेलन 32 साल बाद भारत में हो रहा है. गुरुवार को देश की सांस्कृतिक नगरी भोपाल में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी इस तीन दिवसीय
Sep 07, 2015, 12:06 pm    by : संदीप पौराणिक
मध्यप्रदेश की राजधानी में विश्व हिंदी सम्मेलन की तैयारियां जोरों पर हैं, मगर ब्रांडिंग हिंदी की बजाय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हो रही है। आलम यह है कि भोपाल की हर सड़क व चौराहे पर मोदी की त
Dec 12, 2013, 15:51 pm    by : अनंत विजय
पिछले साल जब विदेश मंत्रालय से विश्व हिंदी सम्मेलन के दौरान दक्षिण अफ्रीका जाने का न्योता मिला था तो इस बात को लेकर रोमांचित था कि मोहनदास करमचंद गांधी की शुरुआती कर्मभूमि और नेल्सन मंडेला क
Sep 28, 2012, 11:29 am    by : ब्रजेन्द्र नाथ सिंह
विश्व हिंदी सम्मेलनों के आयोजन को लेकर हमेशा से सवाल उठते रहे हैं और आगे भी उठते रहेंगे। यह वाजिब भी है क्योंकि 37 साल पहले शुरू हुए इस सम्मेलन का नौवां पड़ाव समाप्त होने के बावजूद हिंदी महज 'अ
Sep 24, 2012, 11:55 am    by : ब्रजेन्द्र नाथ सिंह
दक्षिण अफ्रीका के जोहान्सबर्ग में आयोजित नौवें विश्व हिन्दी सम्मेलन के पहले दिन प्रख्यात कथाकार और महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय के कुलपति विभूति नारायण राय ने इस सच
Sep 23, 2012, 13:16 pm    by : ब्रजेन्द्र नाथ सिंह
हिंदी के प्रचार व प्रसार में भले ही बॉलीवुड का बड़ा योगदान हो, लेकिन इस मामले में भारत सरकार का सबसे बड़ा मंच विश्व हिंदी सम्मेलन ही इससे दूर भागता है। वह इस सच्चाई को स्वीकार तो करता है लेकिन