Thursday, 12 December 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
खोजें
Jun 26, 2017, 18:10 pm    by : जनता जनार्दन डेस्क
भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका के प्रतिष्ठित अखबार वाल स्ट्रीट जर्नल में लेख लिखा है, जिसमें उन्होंने बताया है कि भारत और अमेरिका के बीच साझेदारी पूरी दुनिया के लिए अहम है. प्र
Jun 18, 2014, 13:30 pm    by : जनता जनार्दन डेस्क
अमेरिका में कभी काफी मशहूर रहे एवं गोल्डमैन शॉक्स के पूर्व निदेशक रजत गुप्ता ने अपनी दो साल की सजा काटनी शुरू कर दी। अमेरिका के इतिहास में सबसे बड़े भेदिया कारोबार योजनाओं में शामिल एक मामले
Apr 19, 2014, 11:29 am    by : जनता जनार्दन डेस्क
सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा फिर से चर्चा में हैं। इस बार उन्हें चर्चा में लाने का काम अमेरिकी अखबार वॅाल स्ट्रीट जर्नल ने किया है। उसके संवाददाताओं ने दिल्ली, हरियाणा और राजस्थान में
Aug 08, 2013, 12:57 pm    by : जनता जनार्दन डेस्क
निलंबित आईएएस दुर्गा शक्ति नागपाल के मामले में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने एक बार फिर अपनी सफाई दी है। अमेरिकी अखबार वॉल स्ट्रीट जर्नल को दिए इंटरव्यू में अखिलेश यादव ने कहा, `
May 20, 2012, 17:30 pm    by : जनता जनार्दन संवाददाता
प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को कमजोर बता कर की जाने वाली हरेक आलोचना को सिरे से खारिज करते हुए विधि मंत्री सलमान खुर्शीद ने कहा कि वह इस पद के लिए सर्वश्रेष्ठ व्यक्ति हैं और उन्होंने विचारों तथ
Apr 29, 2012, 12:08 pm    by : जनता जनार्दन संवाददाता
साल 2000 में तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन की रूस यात्रा के दौरान अमेरिकी सीक्रेट सर्विस के एजेंट्स मास्को के एक नाइटक्लब में पहुंचे थे। 'वॉल स्ट्रीट' जर्नल में यह खुलासा हुआ है।
Jan 09, 2012, 14:30 pm    by : जनता जनार्दन संवाददाता
इतिहास के पन्नों में पिछला बरस दुनियाभर में क्रांति का शंखनाद फूंकने वाले वर्ष के रूप में दर्ज होगा और इस क्रांति की शुरुआत अरब जगत से हुई।
Dec 03, 2011, 11:08 am    by : जनता जनार्दन संवाददाता
अफगानिस्तान से लगी सीमा पर उत्तर अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) के हमले को लेकर जारी गतिरोध के बीच पाकिस्तान ने अमेरिकी जांच में सहयोग करने से इंकार कर दिया है। यह जानकारी अमेरिकी रक्षा विभाग की ओ
Oct 03, 2011, 10:49 am    by : जनता जनार्दन संवाददाता
उद्योगपति घरानों के लाभ की आलोचना करने वाले अमेरिकी कार्यकर्ताओं ने बुधवार को एक बार फिर वॉल स्ट्रीट पर विरोध-प्रदर्शन करने की प्रतिबद्धता जताई है।
Aug 09, 2011, 11:45 am    by : जनता जनार्दन संवाददाता
तेजी से कमाई और तरक्की की जो अंधाधुंध दौड़ अमेरिका ने दिखाई थी उससे वहां की कंपनियों ने तो खूब तरक्की की पर देश की आर्थिक व्यवस्था खोखली होती गयी, नतीजतन अमेरिका तो आज दिवालिया होने के कगार पर