Saturday, 19 October 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
खोजें
Mar 20, 2017, 21:03 pm    by : अमिय पाण्डेय
अधिकारी अगर युवा और ईमानदार हो तो जनसेवा के साथ ही प्रकृति का वह कितना भला कर सकता है, इसका नजारा चंदौली के जिलाधिकारी कुमार प्रशांत की समीक्षा बैठक में देखने को मिला. जहां जिलाधिकारी ने अपने
Mar 19, 2017, 18:57 pm    by : जनता जनार्दन डेस्क
विज्ञान और विकास के बढ़ते कदम ने हमारे सामने कई चुनौतियां भी खड़ी की हैं, जिससे निपटना हमारे लिए आसान नहीं है। विकास की महत्वाकांक्षी इच्छाओं ने हमारे सामने पर्यावरण की विषम स्थिति पैदा की ह
Mar 20, 2015, 17:42 pm    by : जनता जनार्दन डेस्क
गौरैया हमारी प्रकृति सहचरी है। वह हमसे और हमारे बच्चों से इठलाती है और लुकाछिपी का खेल खेलती है। कभी वह नीम के पेड़ के नीचे फुदकती और अम्मा की ओर से जमीन में गाड़ी गई मिट्टी की हांडी में भरे पान
Mar 20, 2014, 15:07 pm    by : जनता जनार्दन डेस्क
एक-दो दशक पहले लोगों के घर-आंगन में फुदकने वाली गौरैया आज विलुप्ति के कगार पर है। भारत में गौरैया की संख्या घटती ही जा रही है। इस नन्हें से परिंदे को बचाने के लिए प्रत्येक वर्ष 20 मार्च को विश्व ग