खोजें
Nov 20, 2018, 10:34 am    by : अमिय पाण्डेय
एस.डी.एम. साहब बड़े रूतबे में आये और बिना जूता उतारे ही नाथ-बाबा के आसन पर जा बैठे। सेवकों और श्रद्धालुओं के समझाने के बाबजूद भी एसडीएम साहब ,मानने को तैयार नहीं हुए और बोले ,”अरे हटो! हम बाबा-माई