Monday, 17 February 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
खोजें
Jun 19, 2016, 17:51 pm    by : प्रणव पण्ड्या
योग ग्रन्थों में कई तरह के योगों का वर्णन मिलता है. ज्ञानयोग, कर्मयोग, हठयोग, राजयोग, प्राणयोग, स्वरयोग, सूर्ययोग, नादयोग, बिन्दुयोग, कुण्डलिनी योग आदि योगों के बारे में विस्तार से बताया गया है.
Jun 19, 2016, 15:10 pm    by : जनता जनार्दन डेस्क
योग से बाहरी और आंतरिक सौंदर्य को निखारने में मदद मिलती है तथा चमकती त्वचा, चमकीले काले बालों, छरहरे सुंदर बदन, सजीली आकृति के लिए योग को जीवन का अभिन्न अंग बनाइए.