खोजें
Apr 27, 2018, 14:58 pm    by : जनता जनार्दन संवाददाता
सर्च इंजन गूगल आज स्वतंत्रता सेनानी, मशहूर हिंदी कवयित्री, महिला अधिकारों की कार्यकर्ता और समाजसेवी महादेवी वर्मा को विशेष डूडल बनाकर याद कर रहा है. इस दिन महादेवी वर्मा को भारतीय साहित्य मे
Jul 30, 2017, 16:33 pm    by : दिनेश्वर मिश्र
तुलसीदास जी भगवान शिव की आज्ञा से काशी आए तथा बाबा विश्वनाथ और माता अन्नपूर्णा को रामचरित मानस सुनाया। रात को पुस्तक श्री विश्वनाथजी के मंदिर में रख दी गयी। सबेरे जब पट खोला गया तो ऊपर लिखा पा
Oct 02, 2016, 18:47 pm    by : मनोज पाठक
पार्थो दा / साम गान / के / सुर और तान / स्पंदित प्रति पल !
May 17, 2016, 13:32 pm    by : बीपी गौतम
कवि सम्मेलनों में स्वयं को हरिवंश राय बच्चन की परंपरा का बताते हुए अमिताभ बच्चन पर अपमानजनक टिप्पणी करते रहे हैं, लेकिन समय ने आज कुमार विश्वास को अमिताभ बच्चन नहीं, बल्कि हनी सिंह की परंपरा स
Dec 27, 2015, 13:39 pm    by : जनता जनार्दन डेस्क
समकालीन हिंदी कविता के सातवें दशक के महत्वपूर्ण कवि पंकज सिंह का हृदय गति रुकने से शनिवार को निधन हो गया. मुजफ्फरपुर के पंकज सिंह लंबे समय से दिल्ली में ही रह रहे थे. वे 67 वर्ष के थे. उन्होंने शन
Oct 07, 2015, 19:02 pm    by : जनता जनार्दन संवाददाता
नयनतारा सहगल के बाद जानमाने साहित्यकार अशोक वाजपेयी ने भी बुधवार को साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटा दिया. वाजपेयी ने देश में भगवा विचारधारा को निशाने पर लिया. उन्होंने कहा, 'यह बांझ विचारधारा
Nov 11, 2014, 12:29 pm    by : जनता जनार्दन डेस्क
प्रख्यात हिंदी कवि केदारनाथ सिंह को 49वें ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। केदारनाथ सिंह (80) की गिनती हिंदी की आधुनिक पीढ़ी के रचनाकारों में होती है। ज्ञानपीठ पुरस्कार भारत का शीर्ष
Sep 07, 2014, 16:28 pm    by : अंनत विजय
हिंदी कविता के महानतम हस्ताक्षरों में से एक गजानन माधव मुक्तिबोध के ऩिधन के पचास साल इसी सितंबर में पूरे हो रहे हैं । सितंबर उन्नीस सौ पैंसठ के नया ज्ञानोदय में कवि श्रीकांत वर्मा का एक लेख छप
Sep 17, 2013, 11:38 am    by : अनंत विजय
आज हिंदी के लेखकों में इस बात को लेकर खासा क्षोभ दिखाई देता है कि उनको मीडिया, खासकर अंग्रेजी मीडिया में जगह नहीं मिलती । हालात यह है कि बड़े से बड़ा हिंदी का कवि या लेखक बड़े से बड़ा पुरस्कार प
Nov 27, 2012, 16:21 pm    by : जनता जनार्दन डेस्क
जो बीत गई सो बीत गई जीवन में एक सितारा था माना वह बेहद प्यारा था यह डूब गया तो डूब गया अंबर के आंगन को देखो