Monday, 14 October 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
खोजें
Oct 07, 2017, 9:41 am    by : जनता जनार्दन डेस्क
बेगम अख्तर को गजल की मलिका कहा जाता था और आज अगर वो होतीं तो 103 साल की होतीं। 'ऐ मोहब्बत तेरे अंजाम पे रोना आया...' जैसी मशहूर गजलों के अलावा भी बेगम अख्तर की संगीतमय विरासत के कई पहलू हैं लेकिन
Oct 11, 2014, 17:23 pm    by : अनंत विजय
ऐसा नहीं हैं कि सिर्फ हिंदी साहित्य के सामने पाठकों का संकट है या हिंदी साहित्य को युवा पाठक नहीं मिल रहे हैं । यही संकट भारतीय शास्त्रीय संगीत और गजलों को लेकर भी है । भारत की युवा पीढ़ी शास्त
Oct 06, 2014, 12:40 pm    by : जनता जनार्दन डेस्क
हिन्‍दुस्तान में शास्त्रीय रागों पर आधारित गजल गायकी को नई ऊंचाइयों तक पहुंचाने वाली विख्यात गायिका बेगम अख्तर के परिचय में उर्दू के अजीम शायर कैफी आजमी की कही यह पंक्ति ही काफी है- ''गजल