Thursday, 25 February 2021  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
खोजें
Dec 01, 2020, 18:31 pm    by : अमिय पाण्डेय
वह मंदिर, मस्जिद, गिरजाघर तथा पूजा आदि की प्रचलित अवधारणा से बिल्कुल भिन्न विचार रखते थे। उनका कहना था कि पत्थरों, ईंटो से निर्मित देवालयों में यदि विश्वास चिपका तो सर्वनाश है। 29 नवम्बर 1992 को उ
Nov 11, 2019, 23:19 pm    by : अमिय पाण्डेय
कीनाराम बाबा स्थल चन्दौली में स्थित है यह एक अघोरपीठ के रूप में जाना जाता है जिसकीएकबंगी का
Nov 19, 2018, 22:01 pm    by : अमिय पाण्डेय
बात करीब 1957 की है, बाबा जशपुर पैलेस मे थे,उन दिनो राजा साहब के गुरू स्वामी करपात्री जी भी महल मे ही प्रवास कर रहे थे, दरअसल राजा विजयभूषण जू देव का प्रथम दर्शन बाबा से अष्टभुजी( विँध्याचल) मे हुआ थ
Nov 15, 2018, 9:55 am    by : नीरज वर्मा
ये सब बहुत कुछ आपकी आंतरिक पवित्रता व अध्यात्मिक सामर्थ्य पर निर्भर है । ये स्थान आने वाले दिनों में क्रमशः एक महान शक्तिपीठ के रूप में स्थापित होने की संभावनाओं को दरकिनार नहीं करता है । और न
Oct 12, 2018, 16:52 pm    by : अमिय पाण्डेय
यूं ही नहीं कहा गया है ' जो न दे राम वह दें कीनाराम'। अघोरेश्वर बाबा कीनाराम ने सुशुप्त अवस्था में पड़े अघोर परंपरा को न केवल जागृत किया बल्कि उसे सम्पूर्ण ब्रह्मांड में फैलाया। श्रद्धान्वि
Mar 10, 2017, 18:17 pm    by : जनता जनार्दन संवाददाता
बम भोले की नगरी का रंग ढंग अजब है. बनारस केवल अपनी प्राचीनता के लिए ही नहीं अपने रहस्य और आध्यात्मिक उर्जा के लिए भी मशहूर है. उसी बनारस के बारे में एक बार फिर पूरी दुनिया बात कर रही है. इसका कारण