खोजें
Jul 31, 2015, 17:23 pm    by : जनता जनार्दन डेस्क
मुंशी प्रेमचंद उस जमाने में हुए जब हिन्दी भाषा अपने विकास के प्रारंभिक चरण में ही थी। हिन्दी में बड़े ही सहज रूप से उर्दू के शब्द शामिल हुए। उस भाषा का असर देखिए कि आज मुंबई की 'आइडियल ड्रामा