Tuesday, 25 February 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
खोजें
Nov 07, 2019, 10:18 am    by : जनता जनार्दन संवाददाता
महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री की कुर्सी के लिए बीजेपी और शिवसेना के बीच जंग और तेज हो गई है. शिवसेना अपने रुख पर अड़ी हुई है और कविताओं के बहाने लगातार बीजेपी पर तंज कस रही है. शिवसेना के प्रवक्ता
Oct 13, 2019, 17:55 pm    by : जनता जनार्दन संवाददाता
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चीन के राष्ट्रपति शी जिनफिंग के साथ दो दिन की औपचारिक मुलाकात के लिए तमिलनाडु के महाबलिपुरम में थे. इस मुलाकात में दोनों नेताओं ने भारत और चीन की दोस्ती को नए आयाम त
Jul 13, 2019, 14:10 pm    by : अजय पुंज
साहित्य अकादेमी मैथिली भाषा में अमित पाठक कृत राग-उपराग (कविता) पुस्तक को वर्ष 2019 का साहित्य अकादेमी युवा पुरस्कार और ऋषि बशिष्ठ कृत ई फूलक गुलदस्ता (कथा-संग्रह) को बाल साहित्य पुरस्कार देने क
Oct 05, 2018, 18:46 pm    by : जनता जनार्दन संवाददाता
विप्लवी पुस्तकालय, प्रलेस बेगूसराय एवं नीलांबर कोलकाता के संयुक्त तत्वावधान में पिछले दिनों गोदरगावां के चर्चित विप्लवी पुस्तकालय में 'गांधी की परिकल्पना का भारत' विषय पर परिचर्चा एवं
Aug 17, 2018, 16:19 pm    by : जनता जनार्दन डेस्क
देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी वर्ष 1991 से 2004 तक लगातार लखनऊ से सांसद चुने गए। उनका उत्तर प्रदेश की राजधानी से गहरा नाता रहा। वह एक कुशल राजनेता, कवि, प्रखर वक्ता और पत्रकार के रूप
Aug 17, 2018, 16:07 pm    by : जनता जनार्दन डेस्क
पूर्व प्रधानमंत्री दिवंगत अटल बिहारी वाजपेयी जितने राजनेता के रूप में सराहे गए उससे कहीं ज्यादा अपनी कविताओं के लिए चर्चित रहे। वाजपेयी ने कई दफे अभिव्यक्ति के लिए कविता को माध्यम बनाया। व
Aug 17, 2018, 15:35 pm    by : जनता जनार्दन डेस्क
'एक-दो नहीं, कर लो बीसियों समझौते, पर स्वतंत्र भारत का मस्तक नहीं झुकेगा', संसद में पोखरण परीक्षण के बाद दिए गए तेजस्वी भाषण और सन् 1977 में संयुक्त राष्ट्र के 32वें अधिवेशन में हिंदी में भाषण दे
Aug 16, 2018, 19:45 pm    by : जनता जनार्दन संवाददाता
अटल जी बेहद जिंदादिल इनसान थे. ऊंचाई पर पहुंचकर भी गर्व ने उन्हें नहीं छुआ था. अटल बिहारी वाजपेयी अगर राजनेता और भारत के प्रधानमंत्री न भी होते तो भी एक कवि, पत्रकार और हिंदी सेवी के रूप में देश
May 27, 2018, 10:50 am    by : ब्लॉगर आकांक्षा सक्सेना
बुजुर्गों से सुना है कि हम अकेले नही हमारे साथ हमारा साया या परछाई सदा है वह हमारा साथ या पीछा कभी नहीं छोड़ती। दिलचस्प बात यह है कि इस सिद्धांत का भी अपवाद है। अमूमन प्रतिवर्ष दो बार ऐसा दिन आता
May 14, 2018, 16:05 pm    by : गौरव अवस्थी
देश के सुप्रतिष्ठित कवि और उससे भी अधिक हंसमुख एवं सभी के सहयोग में तत्पर रहने वाले सरलता से हमेशा लबरेज रहने वाले आदरणीय बालकवि बैरागी जी हमारे पिता की तरह थे. जो स्नेह हमें अपने पिता से मिला