Wednesday, 13 November 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
खोजें
Jul 06, 2019, 15:54 pm    by : त्रिभुवन
प्रेमहीन सेक्स कोरी धूप है तो प्रेम से लबरेज जीवन में संसर्ग वैसा ही है, जैसे बादलों की फुहार के बीच की वह हल्की सी धूप जिसमें इंद्रधनुष सात रंग लेकर आपकी पलकों पर फैला देता है और जिसमें सूखती श
Jun 24, 2019, 19:26 pm    by : जनता जनार्दन संवाददाता
फिल्म में वैसे तो आपको लाइफ का हर फ्लेवर मिलेगा, लेकिन कुछ चीजें असल जिंदगी से काफी परे हैं. फिल्म का एक डायलॉग है कि 'लोकतंत्र में इतना रेबल नहीं हो सकते' जो इस बात को साफ करता है. वहीं, फिल्म