Wednesday, 28 October 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
खोजें
Jan 26, 2016, 2:07 am    by : जय प्रकाश पाण्डेय
हर साल छब्बीस जनवरी आती है, और इसके साथ ही देश को अवसर मिलता है, उन लोगों को, स्वतंत्रता सेनानियों को, कर्णधारों को याद करने का, जिनकी बदौलत न केवल हमें आजादी मिली, बल्कि जिनके चलते हमें दुनिया का
Nov 02, 2015, 5:57 am    by : जय प्रकाश पाण्डेय
शिव सेना के पिछले काफी दिनों से आक्रामक रहे तेवर का लाभ उसे आखिर मिल ही गया और शिव सेना ने मुबंई के उपनगर कल्याण-डोंबीवली निकाय चुनाव में जीत हासिल कर ली. इस चुनाव के दौरान भारतीय जनता पार्टी और
Jun 20, 2015, 2:34 am    by : जय प्रकाश पाण्डेय
पाकिस्तान पहले से ही भारत से खार खाए बैठा है. चीन के साथ भारत के विरोध के बावजूद आर्थिक कॉरीडोर पर समझौता करने के बाद से उसका दिमाग सातवें आसमान पर है. सीमा पर भी आएदिन गोलीबारी करते रहना उसका श
Aug 15, 2012, 11:24 am    by : जय प्रकाश पाण्डेय
आखिर क्या हो गया हमारे लोकतंत्र को ? किसकी नजर लग गयी हमें? कहीं तो कुछ ऐसा है, जो हमसे हमारे आजादी के मायने छीन रहा है, हम वह हासिल नहीं कर पा रहे जिसका सपना अपने को कुरबान करते वक्त हमारे स्वतंत्
Apr 05, 2012, 6:27 am    by : जय प्रकाश पांडेय
किसी दौर में देश के भले और लोकतंत्र की मजबूती के लिए करोडो -अरबों रूपये का नुकसान सहने वाले स्वाधीनता सेनानी रामनाथ गोयनका के इस अखबार के मौजूदा कर्णधारों ने सेना की एक छोटी सी टुकड़ी की रूटीन
Apr 25, 2011, 1:49 am    by : आशुतोष
सत्ता कहने को लोकतांत्रिक है लेकिन फैसले चंद लोगों के हाथ में सिमट कर रह गए हैं। पार्टी सिस्टम की वजह से राजनीतिक दलों में लोकतंत्र पूरी तरह से गायब है। कांग्रेस में वही होता है जो सोनिया गांध
Apr 20, 2011, 6:01 am    by : जय प्रकाश पांडेय
आज अँगरेज़ी- हिन्दी के कुछ अख़बारों के पहले पन्ने पर सबसे बड़ी खबर के रूप में भारत के वर्तमान सेना प्रमुख जनरल वी. के . सिंह की जन्म तिथि का मामला ऐसे परोसा गया है, जैसे उनकी उम्र, केवल उम्र न हो कर