Wednesday, 11 December 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
खोजें
Jul 04, 2017, 5:27 am    by : जय प्रकाश पाण्डेय
'एक राष्ट्र, एक बाजार और एक कर' के लुभावने नारे के बीच देश की अर्थव्यवस्था की तस्वीर बदलने का दावा करने वाला गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स यानी कि जीएसटी एक जुलाई को आधी रात से ही लागू हो गया है, प
Feb 20, 2017, 3:49 am    by : जय प्रकाश पाण्डेय
आम बजट पर संसद में अभी बहस पूरी तरह खत्म नहीं हुई है. बजट सत्र काफी लंबा चलता है. फिर इस साल तो उसमें रेल बजट भी शामिल है. हालांकि बजट हर साल आता है, पर क्या वाकई आम बजट का आम नागरिकों से कोई मतलब होत
Oct 17, 2016, 12:31 pm    by : जय प्रकाश पाण्डेय
भारतीय सदियों तक विदेशी आक्रमण और अंग्रेज़ी उपनिवेशवाद का शिकार रहा है, इसलिए विशिष्टता की सोच वालों से हम अभी भी कतराते हैं. हमारी सोच 'वसुधैव कुटुंबकम' वाली है. रूस ने भी अपनी तमाम विस्तार
Aug 15, 2015, 11:29 am    by : जय प्रकाश पाण्डेय
लाल किला से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस पर खोखले शब्दों के जो बम गोले फेंके, उसकी तपिश से भज-भज मंडली से जुड़े भक्तजन भले ही प्रभावित हों, पर जिन्होंने भी सीधे या ट
May 05, 2015, 7:20 am    by : जय प्रकाश पाण्डेय
नेपाल में आए भूकंप की वजह, त्रासदी, नुकसान, पुनर्वास और भविष्य के सबक पर बातें न कर हम यहां केवल यह चर्चा करेंगे कि तरक्की की आड़ में इनसान किस कदर अपनी ही सभ्यता के विनाश की तरफ कदम बढ़ा रहा है. प्र
Aug 15, 2012, 11:24 am    by : जय प्रकाश पाण्डेय
आखिर क्या हो गया हमारे लोकतंत्र को ? किसकी नजर लग गयी हमें? कहीं तो कुछ ऐसा है, जो हमसे हमारे आजादी के मायने छीन रहा है, हम वह हासिल नहीं कर पा रहे जिसका सपना अपने को कुरबान करते वक्त हमारे स्वतंत्
Dec 31, 2011, 6:59 am    by : जय प्रकाश पांडेय
हर साल पहली जनवरी को नए साल के स्वागत से पहले दिसंबर की आख़िरी तारीखों के आते ही बीतने वाले साल की घटनाओं व उपलब्धियों के लेखेजोखे के साथ, नए साल की चुनौतियों पर चर्चा करना मीडिया की कितनी पुरात