Thursday, 17 October 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
खोजें
Oct 02, 2016, 1:12 am    by : जय प्रकाश पाण्डेय
बापू के जिन सबल के सिद्धांतों आगे सर्वशक्तिमान ब्रिटीश साम्राज्य तक ने घुटने टेक दिए थे, उन्हीं के विरोध में सत्ता पाते ही भगवा मंडली ने अपना खेल शुरू कर दिया है. आज हर उस चीज को तरजीह दी जा रही,
May 08, 2016, 6:05 am    by : जय प्रकाश पाण्डेय
भारतीय जनता पार्टी आक्रामक है, न केवल राष्ट्रवाद के मसले पर बल्कि भ्रष्टाचार के मुद्दे पर भी. अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलिकॉप्टर की डील पर इटली की कोर्ट से आए फैसले ने उसे ऐसा हथियार मुहैय
Mar 04, 2016, 9:13 am    by : जय प्रकाश पाण्डेय
हर साल, सरकार चाहे जिसकी हो, जब भी बजट पेश होता है, लगता है सब कुछ कितना हसीन व अच्छा है. संसद में नेताओं का भाषण, सत्ता पक्ष की तालियां, टीवी चैनलों पर जानकारों की बहसें, अखबारों की हेडिंगे और व्या
Jul 05, 2015, 12:22 pm    by : जय प्रकाश पाण्डेय
मीडिया अपने तमाम संकटों और स्वार्थों के बावजूद चिकित्सकीय पेशे की तरह समाज को लेकर अपनी जिम्मेदारियों से परे नहीं हुआ है, इसीलिए देश में उसे हमेशा से लोकतंत्र के चौथे खंभे के रूप में याद किया
Jun 14, 2015, 3:44 am    by : जय प्रकाश पाण्डेय
जंग किसी भी समस्या का न तो हल है, न ही किसी भी हाल में जायज! पर खामोशी को क्या कहना चाहिए? वह भी तब जब दुश्मन हर तरह से तंग कर रहा हो और हर हाल में आप को खत्म करने की नीयत पाले बैठा हो? क्या करें जब वह आ
Jun 07, 2015, 3:35 am    by : जय प्रकाश पाण्डेय
आम जनता में प्रधानमंत्री के रूप में भारतीय जनता पार्टी के नेता नरेंद्र मोदी और दिल्ली के मुख्यमंत्री के रूप में आम आदमी पार्टी के सर्वेसर्वा अरविंद केजरीवाल की सरकार की कार्यप्रणाली को लेक
Mar 24, 2015, 2:07 am    by : जय प्रकाश पाण्डेय
पैसा सिर्फ माध्यम है, न तो साध्य न ही साधन. पैसे से आप अन्न खरीद तो सकते हो पर तभी, जब वह उपजा हो, और उपज के लिए आपको बोना तो अन्न ही पड़ेगा, पैसों की खेती होती नहीं है, हां पैसों के दम पर खेती की और करा