Friday, 27 November 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
खोजें
Aug 02, 2015, 4:57 am    by : जय प्रकाश पाण्डेय
आंख के बदले आंख की सजा अब भी कबाईली, असभ्य समाजों में प्रचलित है. तो क्या न्याय के नाम पर राज्य संचालित मौत की सजा जायज है? जब राज्य किसी को जन्म नहीं दे सकता, तो उसकी जान लेने का अधिकार उसे कैसे?
Jun 14, 2011, 2:03 am    by : जय प्रकाश पांडेय
इतिहास गवाह है कि राज्य सत्ता तभी तक टिकती है, जब तक जनता का भरोसा उस पर है. बड़े से बड़ा तानाशाह भी आधुनिक दौर में अपना शासन सुनिश्चित करने के लिए चुनाव का सहारा लेता है. हिटलर से लेकर, परवेज़ मु