Sunday, 20 September 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
अन्य
  • खबरें
  • लेख
कोरोना संक्रमितों की संख्या लगातार 15वें दिन हजार से ज्यादा मौत जनता जनार्दन संवाददाता ,  Sep 17, 2020
कोरोना संक्रमण के मामले दुनिया में सबसे तेजी से भारत में ही बढ़ रहे हैं. देश में पिछले 24 घंटों में रिकॉर्ड 97,894 नए मामले सामने आए हैं. इससे पहले 11 सितंबर को रिकॉर्ड 97,570 संक्रमण के मामले दर्ज हुए थे. वहीं 24 घंटे में 1132 लोगों की जान चली गई है. देश में दो सितंबर से लगातार हर दिन एक हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो रही है. अच्छी खबर ये है कि 24 घंटे में 82,961 मरीज ठीक भी ....  समाचार पढ़ें
Chandauli: कोरोना काल में संकट मोचक की भूमिका निभा रहे एम्बुलेंस सेवा कर्मी अमिय पाण्डेय ,  Sep 14, 2020
कोरोना वायरस को रोकने के लिए डॉक्टर, नर्स, पैरामेडिकल स्टाफ, पुलिसकर्मी, स्वच्छताकर्मी सहित एंबुलेंसकर्मी कोरोना योद्धा के रूप में अपनी जान की परवाह किए बिना 24 घंटे जनता की सेवा में लगे हैं। ड्यूटी के दौरान चालक व स्टाफ को पूरी तरह से सुरक्षा मुहैया कराई जा रही है। एंबुलेंसकर्मी पीपीई किट, ग्लव्स, शूज कवर आदि से लैस रहते हैं तथा हर एक संभावित या पॉज़िटिव मरीज के बाद किट आदि को बदला जाता है व एंबुलेंस को भी निरंतर सैनिटाइज किया जाता है। एंबुलेंस चालक व इमरजेंसी मेडिकल टेकनीशियन (ईएमटी) मरीजों को स्वास्थ्य सुविधा प्रदान कराने के लिए रात-दिन पूरे उत्साह और मेहनत से कार्य में लगे हैं। एम्बुलेंसककर्मी फोन आते ही मरीजों के पास पहुंचने और उन्हें गंतव्य तक पहुंचाने में जुटे हैं। इसके लिए वह रात-दिन की चिंता नहीं करते। उन्होने बिना किसी डर के कोरोना उपचाराधीनों को हॉस्पिटल में शिफ्ट करवाया है। ईएमटी और पायलट ने खुद से ज्यादा मरीजों की परवाह करते हुये उन्हें सही समय पर इलाज के लिए सही जगह पर पहुंचाया है। ....  समाचार पढ़ें
फेसबुक पर अपने आप प्ले हो जाने वाले अनचाहे वीडियो से हैं दुखी? जनता जनार्दन संवाददाता ,  Sep 13, 2020
वीडियो देखने के लिए आजकल यूट्यूब के साथ-साथ सोशल मीडिया वेबसाइट फेसबुक और उसके ऐप का भी लोग खूब इस्तेमाल कर रहे हैं. यूजर्स का ध्यान खींचने के लिए फेसबुक पर वीडियो स्क्रॉल करते वक्त ऑटो प्ले हो जाते हैं. ये ऑटो प्ले वीडियो का फीचर यूजर्स की सुविधा के लिए अच्छा है, लेकिन इससे मोबाइल का डेटा अधिक खर्च होता है, बैट्री ज्यादा खर्च होती है और अनचाही वीडियो भी ऑटो-प्ले हो जाती है. अगर आप चाहे तो इस फीचर ऑफ भी कर सकते हैं. ....  समाचार पढ़ें
अब एक महीने में घटेगा वज़न और बढ़ेगी इम्यूनिटी सिर्फ पानी और? जनता जनार्दन संवाददाता ,  Sep 13, 2020
काली मिर्च और गर्म पानी को मिलाकर पीने से शरीर को डिटॉक्‍सीफाई करने के साथ हाइड्रेट करने में मदद मिलती है. काली मिर्च और गर्म पानी का ये मेल आपकी त्वचा कोशिकाओं को पोषण देकर डिहाइड्रेशन का इलाज करता है. जिससे आपकी त्वचा एक महीने के भीतर स्वस्थ, जवां और नमीयुक्त दिखने लगती है. इसके अलावा इसका रोज़ाना सेवन आपकी बॉडी में धीरे धीरे ऊर्जा को बढ़ाता है. ऐसा ....  समाचार पढ़ें
जिलाधिकारी चंदौली ने कोविड 19 एल-1 हॉस्पिटल का किया निरीक्षण अमिय पाण्डेय ,  Sep 12, 2020
जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल द्वारा सनबीम स्कूल मुगलसराय में कोविड-19 के एल -1 अटैच फैसिलिटी का निरीक्षण कर अधिकारियों के साथ बैठक की गयी। जिलाधिकारी ने कहा कि कोरोना के मरीजों की बेहतर देख-भाल व चिकित्सा की व्यवस्था पूरी तरह से दुरुस्त रहे। इसमें कोई भी कमी न रहे। ड्यूटी में कार्यरत चिकित्सक व नर्स नियमित विजिट करते रहे तथा मरीजों से उनका हाल-चाल लेते रहे। उनका आक्सीजन लेबल, ब्लड प्रेशर आदि की समय-समय पर जाँच करने आवश्यक दवाओं को देते रहें। कोरोना मरीजों की काउंसलिंग कर उनका मनोबल बढाते रहें। ....  समाचार पढ़ें
चंदौली: होम आइसोलेशन से कोरोना उपचाराधीनों को बड़ी राहत , लगभग 290 उपचाराधीन घर पर रहकर हुये स्वस्थ अमिय पाण्डेय ,  Sep 11, 2020
चंदौली: प्रतिदिन कोविड-19 के बढ़ते मामले के साथ ही बड़ी संख्या मे बिना लक्षण के मामले ज्यादा सामने आने से सरकार द्वारा होम आइसोलेशन के दिशा निर्देश जारी किए गए थे जो वर्तमान में कारगर साबित हो रहा है। स्वास्थ्य विभाग ने इसके लिए गाइडलाइन जारी की हैं और निर्देशित किया है कि अस्पताल की जगह होम आइसोलेशन में 17 दिनों तक एक लिखित पत्र के साथ डॉक्टर के परामर्श पर रह सकते है। यह जानकारी मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ आरके मिश्रा ने दी। सीएमओ ने कहा कि सरकार द्वारा जारी की गई गाइडलाइन के मुताबित हल्के लक्षण वाले लोगों व जिन को पहले से कोई दूसरी बीमारी नहीं है, उनको होम आइसोलेशन में रहने की अनुमति दी जाती हैं। ....  समाचार पढ़ें
खुदकुशी के चेतावनी संकेत को नजरअंदाज करना हो सकता है गंभीर: खुदकुशी रोकथाम दिवस पर बेबीनार का हुआ आयोजन  अमिय पाण्डेय ,  Sep 10, 2020
आज दुनिया भर में खुदकुशी से रोकथाम का दिवस मनाया जा रहा है. इस मौके पर खुदकुशी को रोकने के लिए पहल का वादा किया जा रहा है. खुदकुशी से रोकथाम का दिवस मनाने का मकसद खुदकुशी और उसके चेतावनी संकेत के प्रति जागरुकता पैदा करना है. साथ ही इसके जरिए ये बताना मकसद है कि आप किसी की जरूरत में कैसे मदद कर सकते हैं. आत्मघाती व्यवहार के बारे में बात करने का ....  समाचार पढ़ें
Varanasi: जुड़िये विश्व आत्महत्या और रोकथाम दिवस पर मनोचिकित्सक खुशहाली गुरु डॉ संजय गुप्ता के साथ, जानिए हर सवाल के सटीक जवाब अमिय पाण्डेय ,  Sep 09, 2020
खुशहाली गुरु संजय गुप्ता अपने दिल की बातें लोगों से करेंगे इस दौरान लोग अपनी बातों को भी उनसे जान सकेंगे : https://meet.google.com/rix-gquc-tia This link will become active from 2:30pm Thursday September 10th. जरूर छोड़िएगा विश्व आत्महत्या और रोकथाम दिवस पर इस महत्वपूर्ण प्रोग्राम में ....  समाचार पढ़ें
भारत ने चीन से विटामिन C की डंपिंग की जांच शुरू की जनता जनार्दन संवाददाता ,  Sep 07, 2020
भारत ने घरेलू विनिर्माताओं की शिकायत पर चीन से विटामिन सी की डंपिंग की जांच शुरू की है. इसका इस्तेमाल दवा कंपनियों ने दवाओं के उत्पादन में किया जाता है. बजाज हेल्थकेयर लि. ने वाणिज्य मंत्रालय की जांच इकाई व्यापार उपचार महानिदेशालय (डीजीटीआर) के समक्ष इस बारे में आवेदन किया है. ....  समाचार पढ़ें
तनाव को दूर करने के लिए हर दिन 10 मिनट करें शवासन जनता जनार्दन संवाददाता ,  Sep 06, 2020
शवासन आपके मन को शांत करने के साथ ही शरीर के थकान को मिटा देता है. हाई ब्लडप्रेशर, डायबिटिज, तनाव और दिल की बीमारी वगैरह में भी इस योगासन से लाभ होता है. शवासन शरीर को न सिर्फ रिलैक्स करता है बल्कि मेडिटेशन की स्थिति में भी ले जाता है. इसे करने से याददाश्त, एकाग्रशक्ति भी बढ़ती है. अगर आप बेहद थके हुए हैं तो शवासन ऊर्जा हासिल करने का सबसे सुरक्षित और तेज तरीका है. ....  समाचार पढ़ें
ज्यादा देर गुस्से में रहना हो सकता है हानिकारक जनता जनार्दन संवाददाता ,  Aug 12, 2020
अक्सर आपने लोगों को यह कहते सुना होगा कि गुस्सा करना दिमाग और शरीर के लिए नुकसानदायक होता है. कुछ लोगों को बात-बात पर गुस्सा आता है. और तुरंत शांत भी हो जाता है. ऐसे लोग दिनभर में न जाने कितनी छोटी छोटी बातों पर गुस्सा करते हैं लेकिन शाम ढ़लने के साथ उनका गुस्सा भी गायब हो जाता है. कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो गुस्से को मन में रखते हुए खींचते रहते हैं. गुस्से के कारण खुद भी तनाव में रहते हैं और दूसरों को भी परेशान करते हैं. कई दिनों तक उस बात को सोचते रहते हैं. ....  लेख पढ़ें
अपने घर पर ही रहकर मनायें गुरू पूर्णिमा का पर्व: सिद्धार्थ गौतम राम जी जनता जनार्दन संवाददाता ,  Jun 14, 2020
अपने घर पर ही रहकर मनायें गुरू पूर्णिमा का पर्व: सिद्धार्थ गौतम राम जी वाराणसी: देश भले ही अनलॉक हो गया है। लेकिन इस वैश्विक महामारी कोरोना वायरस का खतरा बना हुआ है । ऐसी स्थिति मे अपने भक्तों को संक्रमण से दूर रखने के लिए विश्व विख्यात अघोरपीठ औघोराचार्य बाबा कीनाराम अघोर शोध एवं सेवा संस्थान क्रीकुण्ड शिवाला के पीठाधीश्वर अघोराचार्य बाबा सिद्धार्थ गौतम राम जी ने कहा कि आप सभी से विनम्र निवेदन है कि कोरोना वैश्विक महामारी कोविड19 के प्रकोप के कारण सम्पूर्ण मानव जाति के अस्तित्व पर संकट उत्पन्न हो गया है। ....  लेख पढ़ें
देश मना रहा है रंगों का त्योहार होली, जानें क्या है परंपरा जय प्रकाश पाण्डेय ,  Mar 21, 2019
रंगों का त्योहार होली आज देशभर में धूमधाम से मनाया जा रहा है. इस मौके पर लोग मिलकर, रंग लगाकर एक दूसरे को बधाई दे रहे हैं. यही नहीं सोशल मीडिया भी बधाई संदेशों से पटा है. होली के त्योहार को धुलंडी नाम से जाना जाता है. धुलंडी पर बच्चे-बड़े सभी मिलकर हंसते-गाते एक दूसरे के साथ होली खेलते हैं. कई जगहों पर गीत-संगीत और भजन के साथ यह त्योहार मनाया जाता है. ....  लेख पढ़ें
स्वामी सहजानन्द सरस्वती: जिनके जीवन गाथा में निहित है जगत सन्देश गोपाल जी राय ,  Feb 21, 2019
ह ठीक है कि उनके जीते जी जमींदारी प्रथा का अंत नहीं हो सका। लेकिन यह उनके द्वारा ही प्रज्ज्वलित की गई ज्योति की लौ ही है जो आज भी बुझी नहीं है, और चौराहे पर खड़े किसान आंदोलन को मूक अभिप्रेरित कर रही है। यूं तो आजादी मिलने के साथ हीं जमींदारी प्रथा को कानून बनाकर खत्म कर दिया गया। लेकिन आज यदि स्वामीजी होते तो फिर लट्ठ उठाकर देसी हुक्मरानों के खिलाफ भी संघर्ष का ऐलान कर देते। दुर्भाग्यवश, किसान सभा भी है और उनके नाम पर अनेक संघ और संगठन भी सक्रिय हैं, लेकिन स्वामीजी जैसा निर्भीक नेता दूर-दूर तक नहीं दिखता। किसी सियासी मृगमरीचिका में भी नहीं। ....  लेख पढ़ें
जब करपात्री जी मिले अघोरेश्वर अवधूत भगवान राम से अमिय पाण्डेय ,  Nov 19, 2018
बात करीब 1957 की है, बाबा जशपुर पैलेस मे थे,उन दिनो राजा साहब के गुरू स्वामी करपात्री जी भी महल मे ही प्रवास कर रहे थे, दरअसल राजा विजयभूषण जू देव का प्रथम दर्शन बाबा से अष्टभुजी( विँध्याचल) मे हुआ था,वहाँ पर किसी ने किशोर अवधूत की महिमा के बारे मे राजपरिवार को बताया थाl, फिलहाल इस घटना के पहले बाबा २-३ बार जशपुर पैलेस राजासाहब के अनुनय विनय पर जा चुके थे ....  लेख पढ़ें
मैलानी आश्रम अघोरियों के लिए शक्ति प्रतिष्ठित नीरज वर्मा ,  Nov 15, 2018
ये सब बहुत कुछ आपकी आंतरिक पवित्रता व अध्यात्मिक सामर्थ्य पर निर्भर है । ये स्थान आने वाले दिनों में क्रमशः एक महान शक्तिपीठ के रूप में स्थापित होने की संभावनाओं को दरकिनार नहीं करता है । और न ही आम जनमानस की लौकिक और आध्यात्मिक जगत की पारलौकिक लालसाओं की पूर्ति से इनकार करेगा । ....  लेख पढ़ें
रावण को शत शत नमन अमित मौर्या ,  Oct 18, 2018
रावण उत्तम कुल का था. वह वह पुलत्स्कर का नाती और विशेश्रवा का बेटा था. पुलत्स्कर ने विश्व संस्कृत को प्रथम रंगमंच दिया था और ग्रीक नाट्य साहित्य में उसका उल्लेख "पुलित्ज़र" के नाम से मिलता है. रावण ने अपनी बहन के आन के लिए अपना सबकुछ लुटा दिया और सीता को कभी भी अपने हरम में ले जाने के लिए कभी जबरजस्ती नही की वह ज्योतिष का प्रकांड विद्वान् था. उसकी लिखित "रावण संहिता" ज्योतिष विज्ञान की महान कृति है. रावण ने नृत्य और योग के मानक प्रस्तुत किये. प्रायः जो विद्वान् और पढ़े लिखे होते हैं वह कायर होते हैं और निर्णायक मौकों पर आर -पार की लड़ाई या युद्ध से बचते हैं पर रावण विद्वत्ता और साहस का अद्भुत संयोग था. वह महान विद्वान् और प्रतापी योद्धा था. वह रक्षसः आन्दोलन का प्रणेता था. इसीलिए उसे राक्षस कहा गया. हुआ यह कि उस समय इंद्र का राज्य था उसे लोग इंद्र इस लिए कहते थे क्यों कि वह इन्द्रीय हरकतें यानी कि वासना में लिप्त था . इंद्र एक आदिवासी /बनवासी ....  लेख पढ़ें
अमित मौर्य ,  Jul 31, 2018
धर्म सत्ता स्थापित करने का गैर राजनीति उपकरण जब -जब और जहां-जहां बना संस्कृत विकृति हो ही गयी ...संस्कृति छद्म और पाखण्ड से परे एक सात्विक परम्परा होती है ...वैदिक युग के बाद त्रेता में राम के नेतृत्व में धर्म और राजनीति का घाल मेल हुआ परिणाम सामने आया ...जर (आधिपत्य ), जोरू (पत्नी ) और जमीन के विवादों का वहिरुत्पाद "आध्यात्म " कहा जाने लगा ... ....  लेख पढ़ें
हम हर समुद्रमंथन में अमृत से ले कर अप्सरा तक निगाह तो रखते हैं पर विष नहीं पीना चाहते अमित मौर्या ,  Jul 26, 2018
श्रावण मास का प्रारम्भ हो गया है हर तरफ ओम नमः शिवाय साल भर शराब मांस का भक्षण करने वाले श्रावण मास में इससे दूर रहते है क्या ढकोसला है क्या इसके बाद शिव आराधना नही करते हो श्रावण मास में शराब व मांस का परित्याग लेकिन कोई सुंदरी मिल जाये तो उससे सम्बन्ध बनाने में नही चूकते जिंदा मांस में पूण्य मिलता है क्या शंकर .हमको आज भी शंकर चाहिए ....  लेख पढ़ें
विकृत समाज: भारत में मानव समाज का अस्तित्व डॉ० रवि प्रकाश श्रीवास्तव ,  Jul 26, 2018
सामाजिक व्यवस्था के विकास में वेदों की भूमिका महत्वपूर्ण है। वर्ण का परिचय ऋग्वेद के 10 वें मंडल से प्रारम्भ होता है, जिसमें यह उदघोषित किया गया है कि ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैष्य और शूद्र सृष्टि के समय परम पुरुष ब्रह्मा के क्रमषः मुख, भुजाओं, जंघा तथा चरणों से प्रकट हुए। विधिवेत्ताओं की दृष्टि में प्रत्येक वर्ण के लिये उत्तरदा ....  लेख पढ़ें
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल