Wednesday, 21 November 2018  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
अन्य
  • खबरें
  • लेख
जब एसडीएम को आभास हुआ बाबा की आध्यात्मिक ताकत का अमिय पाण्डेय ,  Nov 20, 2018
एस.डी.एम. साहब बड़े रूतबे में आये और बिना जूता उतारे ही नाथ-बाबा के आसन पर जा बैठे। सेवकों और श्रद्धालुओं के समझाने के बाबजूद भी एसडीएम साहब ,मानने को तैयार नहीं हुए और बोले ,”अरे हटो! हम बाबा-माई बहुत देखे हैं।” इसकी जानकारी महाप्रभु को दी गई , पूज्य अघोरेश्वर ने आदेश दिया कि आपलोग पुनः एस.डी.एम.साहब से विनती करें। बार-बार विनती करने के बाबजूद भी जब कोई असर नहीं हुआ तो उनके ढ़िठाई से महाप्रभु रुष्ट हो गए। ....  समाचार पढ़ें
पेट के लिए फायदेमंद हैं ये  व्यायाम, पाचन क्रिया को मजबूत कर बढ़ाते हैं इम्युनिटी जनता जनार्दन संवाददाता ,  Oct 22, 2018
कपाल भाति क्रिया करने के लिए समतल स्थान पर आसन में बैठ जाएं। अब पेट को ढीला छोड़ दें और तेजी से सांस बाहर निकालें और पेट को भीतर की ओर खींचें। हां सांस को बाहर छोड़ते और पेट को भीतर की ओर खींचने के बीच सामंजस्य रखें। शुरुआत में दस बार यह क्रिया करें, और फिर धीरे-धीरे 60 तक बढ़ा दें। बीच-बीच में विश्राम लेते रहें। कपाल भाति से फेफड़े के निचले हिस्से की प्रयुक्त हवा एवं कार्बनडाइ ऑक्साइड बाहर निकल जाती है और पेट पर जमी फालतू चर्बी खत्म होती है। ....  समाचार पढ़ें
ऐसी भावनाओं पर काबू पायें जिनसे होता है आपको नुकसान जनता जनार्दन संवाददाता ,  Oct 21, 2018
भावनायें ही आदमी को इनसान बनाती हैं। ये भावनाएं कभी सकारात्‍मक रूप लेकर हमें ऊर्जा और शक्ति प्रदान करती है, तो कभी नकरात्‍मकता के रूप में हमारे विनाश की पटकथा लिखती हैं। भावनायें नियंत्रित हों, तभी अच्‍छा होता है। विशेष रूप से नकारात्‍मक भावनायें कभी एक सीमा से बाहर नहीं होनी चाहिए। यदि हम अपनी भावनाओं को नियंत्रित कर उन्‍हें सही दिशा में प्रवाहित कर पाएं, तो नकारात्‍मक भावनाओं के दुष्‍प्रभाव से बचा जा सकता है। ....  समाचार पढ़ें
मानसिक स्वास्थ्य के लिए कुछ सबसे खराब आदतें जनता जनार्दन संवाददाता ,  Oct 18, 2018
कई लोगों इस बात से अनजान होते हैं कि, कुछ सामान्य सी लगने वाली आदतें आपके मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकती हैं। आपके शरीर के फिटनेस के स्तर से लेकर आपकी शोशल मीडिया में सहभागिता, सभी आपके मूड, सकारात्मकता, और आपके मानसिक स्वास्थ्य को नकारात्मकक ढ़ंग से प्रभावित कर सकते हैं। तो चलिये जानते हैं ऐसी ही कुछ आदतों के बारे में जो आपके मानसिक स्वास्थ्य के लिए हानिकारक साबित हो सकती हैं। ....  समाचार पढ़ें
वाह रे अच्छे दिन! गरीब छात्र को स्कूल ने जलील कर निकाला अमिय पाण्डेय ,  Oct 17, 2018
खबर यूपी के चंदौली से है यहाँ निजी विद्यालय संचालक द्वारा शिक्षा के अधिकार अधिनियम की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं ।ताजा मामला दीनदयाल नगर के लिटिल फॉक स्कूल का है जहां फीस न देने पर गरीब छात्र को विद्यालय प्रशासन ने बाहर का रास्ता दिखा दिया इतना ही नही उसके अभिभावक को काफी जलील भी किया।विद्यालय संचालक के दुर्व्यवहार से जहा एक तरफ अभिभावक अपनी गरीबी को कोस रहा है. ....  समाचार पढ़ें
छिन्नमस्तिका मंदिर जहां भय पर हावी है आस्था जनता जनार्दन संवाददाता ,  Oct 14, 2018
मां के इस मंदिर को 'प्रचंडचंडिके' के रूप से भी जाना जाता है। मंदिर के चारों और कल-कल करती दामोदर और भैरवी नदी हैं। मां के इस आशियाने को ठंडक प्रदान करती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस स्थान को मां का अंतिम विश्राम स्थल भी माना गया है। यहां कतार से बनी महाविद्या के मंदिर मां के रूप और रहस्य को और बढ़ा देती हैं। इन मंदिरों में तारा, षोडिषी, भुवनेश्वरी, भैरवी, बगला, कमला, मतंगी और घुमावती मुख्य हैं। मंगलवार और शनिवार को रजरप्पा मंदिर में विशेष पूजा होती है। मां को बकरे की बलि जिसे स्थानीय भाषा में पाठा कहा जाता है। यह परंपरा सदियों से यहां जारी है। ....  समाचार पढ़ें
जयकारे से गूंज उठा विंध्यधाम जनता जनार्दन संवाददाता ,  Oct 14, 2018
बोल सांचे दरबार की जय' के जयकारे से रविवार की सुबह से ही विंध्यधाम गूंज उठा। सुबह से ही भक्तों में त्रिकोण परिक्रमा के लिए लंबी कतार लगी रही। वहीं हजारों भक्तों ने मां विंध्यवासिनी का दर्शन किया। नवरात्र मेले के पांचवे दिन रविवार को विंध्य धाम में भक्तों का जन सैलाब उमड़ा। आस्था के इस पर्व पर मां के दरबार में हर कोई अपनी मुराद लेकर पहुंचा था। ....  समाचार पढ़ें
बॉडी बनाने के फेर में सेहत से न खेल बैठें आप जनता जनार्दन संवाददाता ,  Oct 13, 2018
युवाओं में सलमान खान, ऋतिक रौशन और टाइगर श्रॉफ जैसी बॉडी पाने की होड़ बढ़ रही है और इस होड़ में आज के युवा जिम में या अपने घर पर 'सिक्स पैक एब्स' पाने के लिए खास तरह की एक्सरसाइज करते हैं और हाईप्रोटीन डाइट लेते हैं. कई बार जिम इंस्ट्रक्टर शरीर के कुछ हिस्सों में मांसपेशियों में उभार लाने के लिए हाईप्रोटीन डाइट, स्टेरॉयड एवं हार्मोन के इंजेक्शन लेने की सलाह देते हैं, लेकिन इन सबके मिलेजुले दुष्प्रभाव के कारण कई युवा किडनी फेल्योर (गुर्दा काम न करना) के शिकार बन रहे हैं. ....  समाचार पढ़ें
माना की आपका व्रत  है और आप उपवास पर हैं, लेकिन भई सेहत से ऊपर कुछ नहीं. जनता जनार्दन संवाददाता ,  Oct 13, 2018
भारत में नवरात्र (Navratri 2018) के त्यौहार को लोग बड़ी श्रद्धा के साथ मनाते हैं. यह नौ दिनों का उत्सव (Navratri is the nine-day celebration) है. जिसमें दुर्गा देवी (Goddess Durga) के 9 अवतारों की पूजा की जाती है. नवरात्र (Navratri 2018) को हिंदू धर्म में बहुत पवित्र त्यौहार माना जाता है. इन नौ दिनों में लोग बड़ी श्रद्धा से मां दुर्गा की पूजा-अर्चना करते हैं. इस दौरान जो भी नवरात्र के व्रत करते हैं दिन भर के व्रत या उपवा ....  समाचार पढ़ें
जब बाबा कीनाराम का आशीष और क्रोध बरसा था मुगल बादशाह शाहजहां पर अमिय पाण्डेय ,  Oct 12, 2018
यूं ही नहीं कहा गया है ' जो न दे राम वह दें कीनाराम'। अघोरेश्वर बाबा कीनाराम ने सुशुप्त अवस्था में पड़े अघोर परंपरा को न केवल जागृत किया बल्कि उसे सम्पूर्ण ब्रह्मांड में फैलाया। श्रद्धान्वित होकर दरबार में आने वाले भक्तों को बाबा ने खूब आशीर्वाद दिया। लेकिन जिससे भृकुटि टेढ़ी हुई वह उनके श्रापों से वंचित न रहा। उनके दिए हुए श्राप को 21वीं सदी तक राजघरानों ने झेला है। बाबा कीनाराम ने शाहजहां को आशीर्वाद तो दिया लेकिन उसकी उद्दंडता ने बाबा को क्रोधित कर दिया। बाबा ने क्रोध में आकर शाहजहां को ....  समाचार पढ़ें
जब करपात्री जी मिले अघोरेश्वर अवधूत भगवान राम से अमिय पाण्डेय ,  Nov 19, 2018
बात करीब 1957 की है, बाबा जशपुर पैलेस मे थे,उन दिनो राजा साहब के गुरू स्वामी करपात्री जी भी महल मे ही प्रवास कर रहे थे, दरअसल राजा विजयभूषण जू देव का प्रथम दर्शन बाबा से अष्टभुजी( विँध्याचल) मे हुआ था,वहाँ पर किसी ने किशोर अवधूत की महिमा के बारे मे राजपरिवार को बताया थाl, फिलहाल इस घटना के पहले बाबा २-३ बार जशपुर पैलेस राजासाहब के अनुनय विनय पर जा चुके थे ....  लेख पढ़ें
मैलानी आश्रम अघोरियों के लिए शक्ति प्रतिष्ठित नीरज वर्मा ,  Nov 15, 2018
ये सब बहुत कुछ आपकी आंतरिक पवित्रता व अध्यात्मिक सामर्थ्य पर निर्भर है । ये स्थान आने वाले दिनों में क्रमशः एक महान शक्तिपीठ के रूप में स्थापित होने की संभावनाओं को दरकिनार नहीं करता है । और न ही आम जनमानस की लौकिक और आध्यात्मिक जगत की पारलौकिक लालसाओं की पूर्ति से इनकार करेगा । ....  लेख पढ़ें
रावण को शत शत नमन अमित मौर्या ,  Oct 18, 2018
रावण उत्तम कुल का था. वह वह पुलत्स्कर का नाती और विशेश्रवा का बेटा था. पुलत्स्कर ने विश्व संस्कृत को प्रथम रंगमंच दिया था और ग्रीक नाट्य साहित्य में उसका उल्लेख "पुलित्ज़र" के नाम से मिलता है. रावण ने अपनी बहन के आन के लिए अपना सबकुछ लुटा दिया और सीता को कभी भी अपने हरम में ले जाने के लिए कभी जबरजस्ती नही की वह ज्योतिष का प्रकांड विद्वान् था. उसकी लिखित "रावण संहिता" ज्योतिष विज्ञान की महान कृति है. रावण ने नृत्य और योग के मानक प्रस्तुत किये. प्रायः जो विद्वान् और पढ़े लिखे होते हैं वह कायर होते हैं और निर्णायक मौकों पर आर -पार की लड़ाई या युद्ध से बचते हैं पर रावण विद्वत्ता और साहस का अद्भुत संयोग था. वह महान विद्वान् और प्रतापी योद्धा था. वह रक्षसः आन्दोलन का प्रणेता था. इसीलिए उसे राक्षस कहा गया. हुआ यह कि उस समय इंद्र का राज्य था उसे लोग इंद्र इस लिए कहते थे क्यों कि वह इन्द्रीय हरकतें यानी कि वासना में लिप्त था . इंद्र एक आदिवासी /बनवासी ....  लेख पढ़ें
अमित मौर्य ,  Jul 31, 2018
धर्म सत्ता स्थापित करने का गैर राजनीति उपकरण जब -जब और जहां-जहां बना संस्कृत विकृति हो ही गयी ...संस्कृति छद्म और पाखण्ड से परे एक सात्विक परम्परा होती है ...वैदिक युग के बाद त्रेता में राम के नेतृत्व में धर्म और राजनीति का घाल मेल हुआ परिणाम सामने आया ...जर (आधिपत्य ), जोरू (पत्नी ) और जमीन के विवादों का वहिरुत्पाद "आध्यात्म " कहा जाने लगा ... ....  लेख पढ़ें
हम हर समुद्रमंथन में अमृत से ले कर अप्सरा तक निगाह तो रखते हैं पर विष नहीं पीना चाहते अमित मौर्या ,  Jul 26, 2018
श्रावण मास का प्रारम्भ हो गया है हर तरफ ओम नमः शिवाय साल भर शराब मांस का भक्षण करने वाले श्रावण मास में इससे दूर रहते है क्या ढकोसला है क्या इसके बाद शिव आराधना नही करते हो श्रावण मास में शराब व मांस का परित्याग लेकिन कोई सुंदरी मिल जाये तो उससे सम्बन्ध बनाने में नही चूकते जिंदा मांस में पूण्य मिलता है क्या शंकर .हमको आज भी शंकर चाहिए ....  लेख पढ़ें
विकृत समाज: भारत में मानव समाज का अस्तित्व डॉ० रवि प्रकाश श्रीवास्तव ,  Jul 26, 2018
सामाजिक व्यवस्था के विकास में वेदों की भूमिका महत्वपूर्ण है। वर्ण का परिचय ऋग्वेद के 10 वें मंडल से प्रारम्भ होता है, जिसमें यह उदघोषित किया गया है कि ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैष्य और शूद्र सृष्टि के समय परम पुरुष ब्रह्मा के क्रमषः मुख, भुजाओं, जंघा तथा चरणों से प्रकट हुए। विधिवेत्ताओं की दृष्टि में प्रत्येक वर्ण के लिये उत्तरदा ....  लेख पढ़ें
धरती पर चंद्रमा का असरः कभी केवल 18 घंटे का था दिन, बढ़ रही दूरी से जल्द ही 25 घंटे का होगा दिन जनता जनार्दन डेस्क ,  Jun 07, 2018
चंद्रमा के पृथ्वी से दूर जाने के कारण हमारे ग्रह पर दिन लंबे होते जा रहे हैं. एक अध्ययन में यह बात सामने आयी है कि 1.4 अरब वर्ष पहले धरती पर एक दिन महज 18 घंटे का होता था. संभव है कि धरती से चंद्रमा की बढ़ती दूरी के चलते आने वाले समय में धरती पर 25 घंटे का दिन होने लगे. ....  लेख पढ़ें
विश्व पर्यावरण दिवस 2018: जब जीवन ही न होगा, तो कहां होंगे हम जय प्रकाश पाण्डेय ,  Jun 05, 2018
विश्व पर्यावरण दिवस हर साल हमें इस बात का मौका देता है कि हम देखें, समझें और जानें कि प्रकृति के संरक्षण में हर व्यक्ति, परिवार, गांव, शहर, जाति, राज्य, देश और समूचे विश्व की क्या भूमिका है. सारी दुनिया में विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है. ....  लेख पढ़ें
धुम्रपान दुनिया भर में दिल की बीमारियों की दूसरी सबसे बड़ी वजह है जनता जनार्दन डेस्क ,  May 31, 2018
तंबाकू का धुंआ आपके शरीर के साथ क्या कर सकता है, आप इसकी कल्पना भी नहीं कर सकते हैं. आज पूरी दुनिया विश्व तंबाकू निषेध दिवस मना रही है और लोग इससे दूर रहने की जगह-जगह नसीहत दे रहे हैं, क्योंकि तंबाकू बीमारियों की जड़ है. ....  लेख पढ़ें
निपाह वायरस का खतराः डरें नहीं, साफसफाई की आदत अपना लें प्रभुनाथ शुक्ल ,  May 28, 2018
निपाह वायरस के खतरे को लेकर पूरा देश दहशत में है. इसकी वजह है कि हम जमींनी स्तर पर संक्रमित बीमारियों से निपटने के लिए कोई दीर्घकालिक समाधान नहीं ढूंढते हैं। सिर्फ बयानबाजी से काम चलाने की आदत पालते हैं। ....  लेख पढ़ें
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल