Monday, 18 January 2021  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
मनोरंजन
  • खबरें
  • लेख
इंदू की जवानी Film REVIEW जनता जनार्दन संवाददाता ,  Dec 17, 2020
जवानी जिंदगी का प्राइम टाइम है. यह सही ढंग से काम आ जाए, इसी में इसकी सार्थकता है. कोई जवानी देश के काम आती है, कोई समाज के. कोई घर-परिवार की जिम्मेदारियां उठाते-उठाते चुक जाती है. कुछ प्रेम की बलि चढ़ जाती हैं तो कुछ रास्तों से भटक जाती हैं. लेकिन इंदू की जवानी किसी काम की नहीं है. थियेटरों में आई यह फिल्म 2020 की सबसे खराब फिल्मों में है. धनपति निर्माता बंद कमरों की चुटकुलेबाजी, फूहड़ बातों और कुंठित चर्चाओं को कॉमेडी मान लेते हैं. वे इंदू को इंडिया नाम देते हैं और टिंडर जैसे डेटिंग ऐप पर किसी पाकिस्तानी को ढूंढ कर सूने घर में अकेली लड़की की जिंदगी में झंडा गाड़ने के लिए बुला लेते हैं. एक लाइन में यही इंदू की जवानी की कहानी है. ....  समाचार पढ़ें
मॉडल ने मिस्र की प्राचीन पोशाक पहन खिंचवाई पिरामिड के सामने ग्लैमरस फोटो जनता जनार्दन संवाददाता ,  Dec 03, 2020
मिस्र की फैशन मॉडल सलमा अल-शिमी का इंस्टाग्राम अक्सर खूबसूरत तस्वीरों से भरा रहता है. लेकिन इस बार उन्होंने जो फोटोशूट कराया उससे बवाल मच गया है. ये फोटोशूट मिस्र के पिरामिड के सामने किया गया वो भी इस सभ्यता की हज़ारों सालों पहले की पोशाक पहनकर. ....  समाचार पढ़ें
बनारस को बीजिंग बनाने के प्लान में क्राइम-कथा का तड़का: Bicchoo Ka Khel Review जनता जनार्दन संवाददाता ,  Nov 20, 2020
जब पूरा सिस्टम आपके खिलाफ हो तो अपने हक के लिए खुद ही सिस्टम बनना पड़ता है. सिस्टम के खिलाफ खुद सिस्टम बनने वाले हीरो का यह एक और क्राइम-ऐक्शन ड्रामा है. यह सांप-सीढ़ी का खेल है. जिसमें दो सीढ़ी चढ़े नहीं कि कोई न कोई डसने आ जाता है. जी5 और आल्टबालाजी पर रिलीज हुई नौ कड़ियों की यह वेबसीरीज अमित खान के पल्प नॉवेल बिच्छू का खेल पर आधारित है. हिंदी वेब एंटरटेनमेंट की दुनिया में यह लुगदी साहित्य की दस्तक है, जिसमें हिंदी साहित्य जगत का डॉन और कॉमन मैन के दिलों का कॉन लेखक-हीरो कहता है कि यहां सभी पात्र और घटनाएं काल्पनिक नहीं हैं. अगर अपनी कहानी खुद न लिखो तो कोई भी ऐरा-गैरा तुम्हारी कहानी लिखने लगता है. यह लेखक-हीरो को ....  समाचार पढ़ें
A Simple Murder Review: हाथ आए पर मुंह को न लगे जैसी मर्डर कॉमेडी जनता जनार्दन संवाददाता ,  Nov 20, 2020
पिछले साल बरेली (उत्तर प्रदेश) के विधायक राजेश मिश्र की बेटी साक्षी ने अपने प्रेमी अजितेश से शादी के बाद मीडिया में वीडियो जारी करके आरोप लगाया था कि हम दोनों को पिता से जान का खतरा है. मामला ऑनर किलिंग का बनता था. सात कड़ियों की वेबसीरीज अ सिंपल मर्डर इसी आइडिये से शुरू होती है और अन्य किरदारों की कहानियों के संग जलेबी की तरह जालीदार हो जाती है. मगर इसमें रस नहीं है. कहानियों की जालियों से बीच-बीच में चूहे झांकते हैं और लेखक-निर्देशक की क्रिएटिविटी को कुतर जाते हैं. अंत में एंटरटनमेंट के नाम पर खराब हुए समय की चिंदिंया आपके हाथों में बची रह जाती हैं. अ सिंपल मर्डर न तो ठीक-ठीक क्राइम थ्रिलर बन पाती है और न कॉमेडी. ....  समाचार पढ़ें
Aashram 2 Review: पिछली बार बाबा निराला की कामवासना केंद्र में थी जनता जनार्दन संवाददाता ,  Nov 12, 2020
Aashram 2 Review: निर्देशक प्रकाश झा की वेब सीरीज आश्रम 2 का मूल स्वर हैः बाबा लाएंगे क्रांति. गरीबों के मसीहा एक रूप-महास्वरूप बाबा निराला सिंह (बॉबी देओल) इस बार काली-कारगुजारियों में पहले सीजन से आगे है. उसके आगे बड़े-बड़े राजनेता पानी भरते हैं. उसके साम्राज्य में भक्तों पर अत्याचार खूब हैं. भक्तों की कोई सुनवाई नहीं है क्योंकि पुलिस या तो बाबा की शरण में पड़ी सत्ता के कब्जे में है या अपने स्वार्थ के आगे घुटने टेके हुए है. ....  समाचार पढ़ें
Laxmii Review: यह फिल्म बम नहीं है, इसमें धुआं ज्यादा है जनता जनार्दन संवाददाता ,  Nov 10, 2020
इस दिवाली अगर लोगों को लक्ष्मी बम पर आपत्ति है तो तय मानिए हरी झंडी अक्षय कुमार को भी नहीं मिलने वाली. एक फार्मूला हॉरर फिल्म में ट्रांसजेंडर मुद्दे को जोड़कर उन्होंने समाज सुधार का पाठ पढ़ाने की कोशिश की है मगर हकीकत में वह उलटे इस समाज के लोगों का नुक्सान ही करते हैं. जिस तरह से ट्रांसजेंडर किरदार में अक्षय और शरद केलकर नज़र आते हैं, वह कहीं से इस वर्ग की नई अथवा संभावित आधुनिक तस्वीर नहीं बनाते. न ही उन्हें नए सहज-सकारात्मक रूप में दिखाते हैं. वास्तव में वह ट्रांसजेंडरों की उसी पारंपरिक छवि को मजबूती देते हैं जिसमें वे रहस्यमयी और लगभग डरावने हैं. हॉरर को यहां ट्रां ....  समाचार पढ़ें
Kaali Khuhi Review: इस हॉरर फिल्म में ना कोई डर, ना रहस्य जनता जनार्दन संवाददाता ,  Oct 31, 2020
सबसे पहली बात तो यही कि निर्माता-निर्देशक काली खुही को हॉरर फिल्म बता कर प्रमोट करते रहे, मगर यह हॉरर-शून्य है. फिल्म आज ओटीटी प्लेटफॉर्म नेटफ्लिक्स पर रिलीज हुई. अगर आपने नेटफ्लिक्स पर बीते जून में अनुष्का शर्मा के प्रोडक्शन हाउस की बुलबुल देखी थी तो समझ लीजिए कि काली खुही उससे भी कमजोर है. काली खुही डेढ़ घंटे की है मगर यहां आपको फिल्म में नहीं बल्कि अपने वक्त की बर्बादी से डर लगता है. बेटी बचाने-बेटी पढ़ाने का मैसेज हो या फिर हॉरर, काली खुही से कई गुना बेहतर फिल्में हिंदी में बन चुकी हैं. यह नेटफ्लिक्स पर हाल दिनों की सबसे कमजोर फिल्म है ....  समाचार पढ़ें
ड्रग के विवाद में फंसी एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण, WhatsApp ग्रुप की एडमिन थीं जनता जनार्दन संवाददाता ,  Sep 25, 2020
बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) के केस में ड्रग्स का एंगल सामने आने के बाद बॉलीवुड की कई बड़ी हस्तियों के नाम सामने आए हैं. अब ड्रग के विवाद में फंसी एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone) को लेकर नया और चौंकाने वाला खुलासा हुआ है. जी हां, सूत्रों के मुताबिक जिस व्हाट्सएप ग्रुप पर ड्रग्स की मांग की जा रही थी दीपिका पादुकोण उस ग्रुप की एडमिन थीं. उस ग्रुप पर ही दीपिका पादुकोण ने साल 2017 में ड्रग्स की डिमांड की थी. ....  समाचार पढ़ें
लूटकेस Film Review जनता जनार्दन संवाददाता ,  Aug 09, 2020
जिंदगी को ड्यूटी समझने वाले आम आदमी की जिंदगी में सिर्फ पाली बदलती है. कभी वह दिन में काम करता है, कभी रात में. मगर पाली बदलने वाले इस काम से उसकी किस्मत नहीं बदलती. मुंबई में एक अखबार सावधान टाइम्स में मशीनमैन की नौकरी करने वाले नंदन कुमार (कुणाल केमू) को यही महसूस होता है. एक रात प्रेस ....  समाचार पढ़ें
शकुंतला देवी Full Movie Review जनता जनार्दन संवाददाता ,  Aug 08, 2020
भले ही सारा जमाना अपने जहन में खुद को जीनियस मानता हो, लेकिन जितना नॉर्मल लोगों के लिए लोगों के बीच जगह बनाना मुश्किल है, उतना ही जीनियस लोगों के लिए भी आम हो जाना मुश्किल है. आज अमेजन प्राइम वीडियो पर प्रीमियर हुई विद्या ....  समाचार पढ़ें
कहीं भूखमरी की काल कोठरी में ही न समा जाएं ग्लैमर की दुनिया का यह अनदेखा तबका आशीष कौल ,  May 03, 2020
यह कहते हुए दुःख हो रहा लेकिन ऐसा समझाया और दिखाया जाता है कि सब कुछ ठीक है और फिल्म कामगार पैसे और सम्पन्नता के तालाब में गोते लगा रहे हैं | सच्चाई ये है कि इनकी हालत अच्छी नहीं है और बहुत कम लोग सामने आकर इन लोगों की मदद करते हैं | इस वक़्त जब देश रुक गया है तब मोटे ....  लेख पढ़ें
शाहिद कपूर की फ़िल्म कबीर सिंह और प्रेम के नाम पर घृणा और औद्धत्य का महिमामण्डन त्रिभुवन ,  Jul 06, 2019
प्रेमहीन सेक्स कोरी धूप है तो प्रेम से लबरेज जीवन में संसर्ग वैसा ही है, जैसे बादलों की फुहार के बीच की वह हल्की सी धूप जिसमें इंद्रधनुष सात रंग लेकर आपकी पलकों पर फैला देता है और जिसमें सूखती शाखाएं सब्ज़ हो जाती हैं और सब्ज़ शाखाओं में फूल खिल उठते हैं। होंटों पर सपने लरजने लगते हैं और सोच में तितलियां उड़ने लगती हैं। लेकिन ऐसा कोई नायक नहीं होता, जो ड्रग्स ले, घिनौने ढंग से जींस में बर्फ भरे औ ....  लेख पढ़ें
परमाणु परीक्षण भारत का सर्वाधिक निर्णायक क्षण था: जॉन अब्राहम राधिका भिरानी ,  May 28, 2018
परमाणु शुक्रवार को रिलीज हुई। यह राजस्थान के पोखरण में 1998 में किए गए परमाणु परीक्षण की कहानी है। यह दुनिया में परमाणु जासूसी का सबसे बड़ा मामला है, और यह भारत की माटी पर हुआ। मैंने सोचा कि इस कहानी को कहा जाना चाहिए। मैंने खुद से पूछा, 'क्या इस फिल्म को पर्दे पर उतारना बहुत मुश्किल है?' और फिर मैं मुस्कुराया क्योंकि मैं इसे करने जा रहा था। क्योंकि इसे पर्दे पर उतारना मुश्किल है और यह एक फॉर्मूला फिल्म नहीं थी।" ....  लेख पढ़ें
ऐतिहासिक तथ्यों से छेड़छाड़: कलाकारों के लिए चुनौती भरा समय अमूल्य गांगुली ,  Nov 20, 2017
हिन्दी सिनेमा 'पद्मावती' की रिलीज पर विवाद की जड़ में सबसे पहले तो भगवा ध्वजवाहक हैं जो मुस्लिम विरोधी पूर्वाग्रह के साथ इतिहास की विवेचना करते हैं। दूसरा भारतीय जनता पार्टी है जो प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष दोनों तरीकों से संस्थागत स्वायत्तता को धीरे-धीरे कम करती जा रही है। ....  लेख पढ़ें
मैं 'इंदु सरकार' किसी को नहीं दिखाऊंगा: मधुर भंडारकर जनता जनार्दन डेस्क ,  Jul 16, 2017
राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता मधुर भंडारकर अपनी आगामी फिल्म 'इंदु सरकार' को लेकर हर तरह के स्पष्टीकरण देकर थक गए हैं. यह फिल्म 1975 में देश में लगाए गए आपातकाल पर आधारित है. गौरतलब है कि सेंसर बोर्ड ने 'इंदु सरकार' में कई कट लगाने के सुझाव दिए हैं, वहीं मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष संजय निरुपम ने फिल्म को रिलीज करने से पहले इसे उनकी पार्टी को दिखाए जाने की मांग की है. ....  लेख पढ़ें
वर्चुअल रियलिटी फिल्म 'ल मस्क' से निर्देशन में आए एआर रहमान ने माना, यही सही मौका जनता जनार्दन डेस्क ,  May 11, 2017
ऑस्कर पुरस्कार विजेता दिग्गज संगीतकार ए.आर. रहमान जो बतौर संगीतकार, संगीत के क्षेत्र में अपनी महारत सिद्ध कर चुके हैं, वह अब दुनिया की पहली वर्चुअल रियलिटी फिल्म 'ल मस्क' के जरिए निर्देशन के क्षेत्र में भी अपना हुनर साबित करने जा रहे हैं। ....  लेख पढ़ें
कोस्टारिका में छाए भारतीय अभिनेता प्रभाकर शरण आर. विश्वनाथन ,  Dec 26, 2016
बिहार के एक छोटे से शहर मोतिहारी के प्रभाकर शरण एक तरह से बॉलीवुड के पश्चिम की तरफ मार्च के प्रतीक बन गए हैं। 50 लाख से भी कम आबादी वाले मध्य अमेरिका के एक छोटे से देश कोस्टारिका में 1997 से बसे प्रभाकर ने लैटिन अमेरिकी फिल्म 'एनरेडाडोस : ला कंफ्यूजन' (एंटैंगल्ड : द कंफ्यूजन) में बतौर हीरो काम किया है। ....  लेख पढ़ें
नंदिता से बन गईं नगमा शिखा त्रिपाठी ,  Dec 25, 2016
अपने जमाने की मशहूर अभिनेत्री नगमा हिंदी समेत कई भाषाओं की फिल्मों में काम कर चुकी हैं। वह भोजपुरी फिल्मों की भी जानी-मानी अभिनेत्री हैं। इन दिनों वह राजनीति में सक्रिय हैं। नगमा का जन्म एक मुसलमान मां और हिंदू पिता के घर क्रिसमस के दिन 25 दिसंबर, 1974 को हुआ था। उनका असली नाम नंदिता अरविंद मोरारजी है। ....  लेख पढ़ें
बॉलीवुड-हॉलीवुड जोड़ियों में लगी अलगाव की होड़ दुर्गा चक्रवर्ती ,  Dec 17, 2016
वर्षो मनोरंजन की दुनिया प्यार और रोमांस के लोकप्रिय मानदंड स्थापित करती आई है, लेकिन फिल्मी दुनिया की काल्पना से परे वास्तविक दुनिवाय में प्यार की कहानियां बॉलीवुड और हॉलीवुड दोनों में अलगाव के मोड़ पर पहुंचकर खत्म हो जाती है. ....  लेख पढ़ें
रजनीकांत: कुली से बन गए सुपरस्टार जनता जनार्दन डेस्क ,  Dec 16, 2016
अपने अनोखे अंदाज और बेहतरीन अभिनय से फिल्म जगत में अलग मुकाम हासिल कर चुके सुपरस्टार रजनीकांत एक ऐसा नाम है, जो सभी की जुबां पर चढ़कर बोलता है। उन्होंने यहां तक पहुंचने के लिए काफी संघर्ष किया है। रजनीकांत आज इतने बड़े सुपरस्टार होने के बावजूद जमीन से जुड़े हुए हैं। वह फिल्मों के बाहर असल जिंदगी में एक सामान्य व्यक्ति की तरह ही दिखते हैं और उनके प्रशंसक उन्हें प्यार ही नहीं करते बल्कि उन्हें पूजते हैं। ....  लेख पढ़ें
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल