Wednesday, 22 September 2021  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 
मनोरंजन
  • खबरें
  • लेख
चेहरे रूमी जाफरी: तारीख पर तारीख नहीं, एक ही सुनवाई में होता है यहां फैसला जनता जनार्दन संवाददाता ,  Sep 07, 2021
असली अदालती मामलों में भले ही तारीख पर तारीख मिलती है मगर फिल्मों में दो-ढाई घंटे में ही काम तमाम हो जाता है. यही मजा भी है. थिएटरों में सिनेमा की वापसी हो चुकी है और अक्सर रूमानी-कॉमिक फिल्में लिखने वाले रूमी जाफरी बतौर निर्देशक कसी हुई थ्रिलर-मिस्ट्री लाए हैं. ....  समाचार पढ़ें
सस्पेंस और क्राइम का बढ़िया कॉकटेल, शुरू से अंत तक वेब सीरीज जनता जनार्दन संवाददाता ,  Sep 07, 2021
यहां और भी किरदार हैं. मेहुल के साथ जंगल में गई और मसान से बमुश्किल बच पाई कल्कि रावत (रावत), मेहुल की बुरी तरह रैगिंग करने वाले तीन लड़के संजय, इमरान, जॉन. कल्कि का माली पिता, स्कूल का प्रिंसिपल, स्कूल का काउंसलर, विधायक रनौत और उसके कुछ आदमी. पहाड़ों में भूत-प्रेतों ....  समाचार पढ़ें
Bhuj The Pride Of India: हमारी सेना के जांबाज जज्बे और पाकिस्तान की करारी हार की गवाही है फिल्म जनता जनार्दन संवाददाता ,  Aug 16, 2021
बॉलीवुड का सिनेमा आजकल बड़े दिल से देश के इतिहास को पर्दे पर रच रहा है. यह उसका फेवरेट विषय हो गया है. लेकिन इसमें कुछ सुविधा भी है और कुछ दुविधा भी. सुविधा यह कि पन्नों में दर्ज घटना पर आधारित रेडिमेड कहानी मिल जाती है और दुविधा यह कि कितनी हकीकत दिखाएं और कितना फसाना. ....  समाचार पढ़ें
Mimi Movie Review: तय समय से पहले हुई मिमी की डिलेवरी जनता जनार्दन संवाददाता ,  Aug 02, 2021
जनसंख्या के सरकारी आंकड़े बताते हैं कि भारत में हर साल करीब 35 लाख बच्चे समय से पहले (प्रीमैच्योर) पैदा होते हैं. ऐसे में अगर सरोगेट मदर के विषय पर बनी मिमी तय तारीख से पहले ओटीटी प्लेटफॉर्म पर आ गई तो आश्चर्य ....  समाचार पढ़ें
सिटी ऑफ ड्रीम्स के दूसरे सीजन में पैसे और कुर्सी दोनों का पावर नजर आता है जनता जनार्दन संवाददाता ,  Aug 02, 2021
टकराव कहानी को रोचक ढंग से आगे बढ़ाते हैं. हालांकि पूर्णिमा की जिंदगी सीधी-सरल नहीं है. उसके किरदार में चौंकाने वाले शेड्स हैं. वह शादीशुदा और एक किशोरवय बेटे की मां है लेकिन अचानक दुनिया का सामने आता है कि उसने कॉलेज के दिनों में छुप पर मंदिर में युवा राजनेता महेश अरावले से शादी की थी क्योंकि दोनों प्यार में थे. ....  समाचार पढ़ें
Social Drama Psychological Film Ray चार कहानियों के गुलदस्ते में सत्यजित रे की कलम की खुशबू जनता जनार्दन संवाददाता ,  Jul 06, 2021
महान फिल्मकार और लेखक सत्यजित रे का यह जन्म शताब्दी वर्ष है. नेटफ्लिक्स इस मौके पर उन्हें याद करते हुए वेबसीरीज/एंथोलॉजी लेकर आया है. नाम है, रे. इसमें तीन फिल्म निर्देशकों ने अपनी-अपनी कलात्मकता के साथ रे की लिखी कहानियों को पर्दे पर उतारा है. औसतन 50-50 मिनिट की चार कहानियां सत्यजित रे के दौर से आगे बढ़ कर निर्देशकों ने हमारे समय में रची हैं. इसके लिए उन्होंने कुछ रचनात्मक छूट भी ली है. ....  समाचार पढ़ें
Haseen Dillruba Review: हसीन दिलरुबा को तापसी पन्नू अपने परफॉरमेंस से मनोरंजक बनाती हैं जनता जनार्दन संवाददाता ,  Jul 06, 2021
अमर प्रेम वही है जिस पर खून के हल्के हल्के-से छींटे हों, ताकि उसे बुरी नजर न लगे. फिल्म हसीन दिलरुबा के इस डायलॉग से ही आप समझ सकते हैं कि इसमें ऐसे प्रेम की कहानी है जो खून-खराबे या कत्ल के बगैर पूरी नहीं हो सकती. विज्ञापन फिल्मों से सिनेमा की दुनिया में आए विनिल मैथ्यू सात साल बाद अपनी दूसरी फिल्म लाए हैं. ....  समाचार पढ़ें
The Family Man Season 2 Review: मनोज बाजपेयी की परफॉरमेंस है शानदार जनता जनार्दन संवाददाता ,  Jun 20, 2021
संदेह नहीं कि मनोज बाजपेयी जबर्दस्त हैं और उन्हें साथी कलाकारों का अच्छा साथ मिला. खास तौर पर प्रियमणि और समांथा का. प्रधानमंत्री बसु की भूमिका में सीमा बिस्वास लगातार ममता बनर्जी की याद दिलाती हैं. शारिब पिछली बार की तरह रोचक नहीं हैं. ....  समाचार पढ़ें
Sherni Film Review: विद्या बालन की शेरनी शुरू से अंत तक म्याऊं-म्याऊं जनता जनार्दन संवाददाता ,  Jun 20, 2021
शेरनी मनोरंजन के लिए नहीं है. न इसमें कोई अनूठा ज्ञान मिलता है. विद्या बालन निराश करती हैं. फॉरेस्ट ऑफिसर के वस्त्रों में वह नहीं जमतीं. उनके गंभीर चेहरे पर हर समय निराशा और चिंता के बादल घिरे रहते हैं. विजय राज जूलॉजी के प्रोफेसर बने हैं और उनका किरदार किसी काम का नहीं है. इसी तरह नीरज कबि भी बेअसर हैं. शरत सक्सेना की भूमिका दायरे में सिमटी है. एकमात्र ....  समाचार पढ़ें
Hum Bhi Akele Tum Bhi Akele Review: समलैंगिक ड्रामे में रोमांस का तड़का जनता जनार्दन संवाददाता ,  May 22, 2021
अजीब तर्क है कि एक लड़की बचपन से जींस/पतलून पहनती रही और ऑल-गर्ल्स स्कूल में पढ़ी तो बड़ी होकर लेस्बियन हो गई. फिर इसी तर्क से क्या कोई लड़का लड़कपन से पैजामा/शलवार पहने और ऑल बॉय्ज स्कूल में पढ़े तो बड़ा होकर गे हो जाएगा? लेखक-निर्देशक हरीश व्यास का रोमांटिक ड्रामा 'हम भी अकेले तुम भी अकेले' लड़की के पतलून पहनने के मुद्दे से शुरू होकर, देसी समलैंगिक समुदाय के तर्कों और परिवार में संघर्ष को ....  समाचार पढ़ें
कहीं भूखमरी की काल कोठरी में ही न समा जाएं ग्लैमर की दुनिया का यह अनदेखा तबका आशीष कौल ,  May 03, 2020
यह कहते हुए दुःख हो रहा लेकिन ऐसा समझाया और दिखाया जाता है कि सब कुछ ठीक है और फिल्म कामगार पैसे और सम्पन्नता के तालाब में गोते लगा रहे हैं | सच्चाई ये है कि इनकी हालत अच्छी नहीं है और बहुत कम लोग सामने आकर इन लोगों की मदद करते हैं | इस वक़्त जब देश रुक गया है तब मोटे ....  लेख पढ़ें
शाहिद कपूर की फ़िल्म कबीर सिंह और प्रेम के नाम पर घृणा और औद्धत्य का महिमामण्डन त्रिभुवन ,  Jul 06, 2019
प्रेमहीन सेक्स कोरी धूप है तो प्रेम से लबरेज जीवन में संसर्ग वैसा ही है, जैसे बादलों की फुहार के बीच की वह हल्की सी धूप जिसमें इंद्रधनुष सात रंग लेकर आपकी पलकों पर फैला देता है और जिसमें सूखती शाखाएं सब्ज़ हो जाती हैं और सब्ज़ शाखाओं में फूल खिल उठते हैं। होंटों पर सपने लरजने लगते हैं और सोच में तितलियां उड़ने लगती हैं। लेकिन ऐसा कोई नायक नहीं होता, जो ड्रग्स ले, घिनौने ढंग से जींस में बर्फ भरे औ ....  लेख पढ़ें
परमाणु परीक्षण भारत का सर्वाधिक निर्णायक क्षण था: जॉन अब्राहम राधिका भिरानी ,  May 28, 2018
परमाणु शुक्रवार को रिलीज हुई। यह राजस्थान के पोखरण में 1998 में किए गए परमाणु परीक्षण की कहानी है। यह दुनिया में परमाणु जासूसी का सबसे बड़ा मामला है, और यह भारत की माटी पर हुआ। मैंने सोचा कि इस कहानी को कहा जाना चाहिए। मैंने खुद से पूछा, 'क्या इस फिल्म को पर्दे पर उतारना बहुत मुश्किल है?' और फिर मैं मुस्कुराया क्योंकि मैं इसे करने जा रहा था। क्योंकि इसे पर्दे पर उतारना मुश्किल है और यह एक फॉर्मूला फिल्म नहीं थी।" ....  लेख पढ़ें
ऐतिहासिक तथ्यों से छेड़छाड़: कलाकारों के लिए चुनौती भरा समय अमूल्य गांगुली ,  Nov 20, 2017
हिन्दी सिनेमा 'पद्मावती' की रिलीज पर विवाद की जड़ में सबसे पहले तो भगवा ध्वजवाहक हैं जो मुस्लिम विरोधी पूर्वाग्रह के साथ इतिहास की विवेचना करते हैं। दूसरा भारतीय जनता पार्टी है जो प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष दोनों तरीकों से संस्थागत स्वायत्तता को धीरे-धीरे कम करती जा रही है। ....  लेख पढ़ें
मैं 'इंदु सरकार' किसी को नहीं दिखाऊंगा: मधुर भंडारकर जनता जनार्दन डेस्क ,  Jul 16, 2017
राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता मधुर भंडारकर अपनी आगामी फिल्म 'इंदु सरकार' को लेकर हर तरह के स्पष्टीकरण देकर थक गए हैं. यह फिल्म 1975 में देश में लगाए गए आपातकाल पर आधारित है. गौरतलब है कि सेंसर बोर्ड ने 'इंदु सरकार' में कई कट लगाने के सुझाव दिए हैं, वहीं मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष संजय निरुपम ने फिल्म को रिलीज करने से पहले इसे उनकी पार्टी को दिखाए जाने की मांग की है. ....  लेख पढ़ें
वर्चुअल रियलिटी फिल्म 'ल मस्क' से निर्देशन में आए एआर रहमान ने माना, यही सही मौका जनता जनार्दन डेस्क ,  May 11, 2017
ऑस्कर पुरस्कार विजेता दिग्गज संगीतकार ए.आर. रहमान जो बतौर संगीतकार, संगीत के क्षेत्र में अपनी महारत सिद्ध कर चुके हैं, वह अब दुनिया की पहली वर्चुअल रियलिटी फिल्म 'ल मस्क' के जरिए निर्देशन के क्षेत्र में भी अपना हुनर साबित करने जा रहे हैं। ....  लेख पढ़ें
कोस्टारिका में छाए भारतीय अभिनेता प्रभाकर शरण आर. विश्वनाथन ,  Dec 26, 2016
बिहार के एक छोटे से शहर मोतिहारी के प्रभाकर शरण एक तरह से बॉलीवुड के पश्चिम की तरफ मार्च के प्रतीक बन गए हैं। 50 लाख से भी कम आबादी वाले मध्य अमेरिका के एक छोटे से देश कोस्टारिका में 1997 से बसे प्रभाकर ने लैटिन अमेरिकी फिल्म 'एनरेडाडोस : ला कंफ्यूजन' (एंटैंगल्ड : द कंफ्यूजन) में बतौर हीरो काम किया है। ....  लेख पढ़ें
नंदिता से बन गईं नगमा शिखा त्रिपाठी ,  Dec 25, 2016
अपने जमाने की मशहूर अभिनेत्री नगमा हिंदी समेत कई भाषाओं की फिल्मों में काम कर चुकी हैं। वह भोजपुरी फिल्मों की भी जानी-मानी अभिनेत्री हैं। इन दिनों वह राजनीति में सक्रिय हैं। नगमा का जन्म एक मुसलमान मां और हिंदू पिता के घर क्रिसमस के दिन 25 दिसंबर, 1974 को हुआ था। उनका असली नाम नंदिता अरविंद मोरारजी है। ....  लेख पढ़ें
बॉलीवुड-हॉलीवुड जोड़ियों में लगी अलगाव की होड़ दुर्गा चक्रवर्ती ,  Dec 17, 2016
वर्षो मनोरंजन की दुनिया प्यार और रोमांस के लोकप्रिय मानदंड स्थापित करती आई है, लेकिन फिल्मी दुनिया की काल्पना से परे वास्तविक दुनिवाय में प्यार की कहानियां बॉलीवुड और हॉलीवुड दोनों में अलगाव के मोड़ पर पहुंचकर खत्म हो जाती है. ....  लेख पढ़ें
रजनीकांत: कुली से बन गए सुपरस्टार जनता जनार्दन डेस्क ,  Dec 16, 2016
अपने अनोखे अंदाज और बेहतरीन अभिनय से फिल्म जगत में अलग मुकाम हासिल कर चुके सुपरस्टार रजनीकांत एक ऐसा नाम है, जो सभी की जुबां पर चढ़कर बोलता है। उन्होंने यहां तक पहुंचने के लिए काफी संघर्ष किया है। रजनीकांत आज इतने बड़े सुपरस्टार होने के बावजूद जमीन से जुड़े हुए हैं। वह फिल्मों के बाहर असल जिंदगी में एक सामान्य व्यक्ति की तरह ही दिखते हैं और उनके प्रशंसक उन्हें प्यार ही नहीं करते बल्कि उन्हें पूजते हैं। ....  लेख पढ़ें
वोट दें

क्या आप कोरोना संकट में केंद्र व राज्य सरकारों की कोशिशों से संतुष्ट हैं?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख
  • खबरें
  • लेख